Category Archives: chemistry

नील्स बोर का परमाणु मॉडल , बोर कक्ष की परमाणु त्रिज्या (r) ज्ञात करना , इलेक्ट्रॉन का वेग , कक्ष की ऊर्जा

(niels bohr model in hindi) नील्स बोर का परमाणु मॉडल : इस सिद्धांत के मुख्य बिंदु निम्न है – 1. परमाणु द्वारा ऊर्जा का उत्सर्जन लगातार नहीं होता है बल्कि छोटे छोटे बण्डल या पैकेट के रूप में होता है।  इसमें उपस्थित ऊर्जा प्लांक समीकरण के द्वारा ज्ञात की जाती है। प्लांक समीकरण निम्न है… Continue reading »

यौगिक का मुलानुपाती तथा अणुसूत्र ज्ञात करना , उदाहरण , प्रश्न , how to calculate molecular formula

यौगिक का मुलानुपाती तथा अणुसूत्र ज्ञात करना :- किसी यौगिक का मुलानुपाती सूत्र यौगिक के एक अणु में उपस्थित सभी परमाणुओं का सरल पूर्णांक अनुपात बताता है अर्थात सरलतम अनुपात में परमाणुओं की आपेक्षित संख्या प्रदर्शित करने वाला रासायनिक सूत्र मुलानुपाती सूत्र कहलाता है। किसी यौगिक का अणुसूत्र अणुओं में उपस्थित प्रत्येक तत्व की परमाणुओं… Continue reading »

धातु , अधातु , उपधातु , ठोस , द्रव , गैस , रसायन विज्ञान , पदार्थ का वर्गीकरण , elements and non elements in hindi

रसायन विज्ञान : विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत पदार्थों के संगठन , संरचना और रूपांतरण का अध्ययन किया जाता है , उस शाखा को रसायन विज्ञान कहते है। पदार्थ या द्रव्य : जो वस्तु स्थान घेरती है और जिसका द्रव्यमान होता है , पदार्थ या द्रव्य कहलाती है। पदार्थ का वर्गीकरण :- पदार्थ को… Continue reading »

उपसहसंयोजन संख्या क्या है , उपसहसंयोजक संख्या किसे कहते है (coordination number in hindi)

(coordination number in hindi) उपसहसंयोजन संख्या क्या है , उपसहसंयोजक संख्या किसे कहते है : किसी भी संकुल या उपसह संयोजक यौगिक के केंद्र परमाणु या आयन से जुड़े हुए परमाणु या आयनों की संख्या को उस यौगिक की उपसहसंयोजन संख्या कहलाती है। या किसी उपसहसंयोजक यौगिक में केंद्र धातु परमाणु या आयन के साथ… Continue reading »

लिगेण्ड की परिभाषा क्या है , लिगेंड के प्रकार (ligands in hindi in chemistry)

(ligands in hindi in chemistry) लिगेण्ड की परिभाषा क्या है , लिगेंड के प्रकार : लिगैण्ड एक प्रकार का आयन या अणु होता है जो केंद्र धातु परमाणु से जुड़कर उपसहसंयोजन सत्ता या जटिल का निर्माण करता है। लिगेंड को परमाणु या परमाणु का समूह कहा जाता है जिसकी इलेक्ट्रॉन त्यागने की प्रवृति होती है… Continue reading »

संकुल यौगिक या उपसहसंयोजक यौगिक क्या है (coordination compounds in hindi) , लिगेण्ड

(coordination compounds in hindi) संकुल यौगिक या उपसहसंयोजक यौगिक क्या है : इस यौगिक का निर्माण तब होता है जब दो समान ऋण आयन युक्त दो सामान्य लवणों को आपस में मिश्रित कर शुष्क होने तक वाष्पित किया जाता है। संकुल यौगिक या उपसहसंयोजक यौगिक बनाने का उदाहरण निम्न है – एक बीकर में पोटेशियम… Continue reading »

द्विक लवण किसे कहते है , द्विक लवण की परिभाषा क्या है , (double salt in hindi)

(double salt in hindi) द्विक लवण किसे कहते है , द्विक लवण की परिभाषा क्या है : लवण अलग अलग प्रकार के हो सकते है।  क्रिस्टल का आकार तथा क्रिस्टल की संरचना लवण के रंग , गुण , स्वाद , पारदर्शिता आदि को प्रभावित करता है। द्विक लवण दो अलग अलग सामान्य क्रिस्टलीय लवणों का… Continue reading »

वर्नर का सिद्धांत : उपसहसंयोजक यौगिकों का वर्नर सिद्धांत (werner’s theory of coordination compounds in hindi)

(werner’s theory of coordination compounds in hindi) वर्नर का सिद्धांत : उपसहसंयोजक यौगिकों का वर्नर सिद्धांत : सन 1823 में स्विस के महान बैज्ञानिक अल्फ्रेड वर्नर ने जटिल यौगिकों या उपसहसंयोजन यौगिक की संरचना और इन यौगिकों के गठन को समझाने के लिए बहुत अध्ययन करने के बाद अपने विचार रखे जिसे हम वर्नर का… Continue reading »

लेन्थेनाइड और एक्टिनाइड्स के बीच का अंतर (lanthanides and actinides difference in hindi)

(lanthanides and actinides difference in hindi) लेन्थेनाइड और एक्टिनाइड्स के बीच का अंतर : हमने पहले लेंथेनाइड और एक्टिनाइड के बारे में विस्तार से अध्ययन कर लिया है , हम यहाँ लेन्थेनाइड और एक्टिनाइड में क्या अंतर होते है इसका अध्ययन करेंगे। लेन्थेनाइड और एक्टिनाइड दोनों ही श्रेणियों के तत्व f ब्लॉक से सम्बन्ध रखते… Continue reading »

ऐक्टिनाइड श्रेणी या तत्व क्या है , नाम , एक्टिनाइड तत्वों का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास , एक्टिनॉइड संकुचन (actinide elements in hindi)

(actinide elements in hindi) ऐक्टिनाइड श्रेणी या तत्व क्या है , नाम , एक्टिनाइड तत्वों का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास , एक्टिनॉइड संकुचन : जैसा कि हम जानते है कि f ब्लॉक के तत्वों को दो श्रेणियों के रूप में विभक्त किया जाता है , पहले लेन्थेनाइड और दूसरा एक्टिनाइड। हम यहाँ एक्टिनाइड श्रेणी के तत्वों का विस्तार… Continue reading »