Category Archives: chemistry

एनॉक्सिया क्या है ? , बैंड्स क्या है ? इससे बचने के उपाय बताइये , सिलेंडर का गैसीय संघटन anoxia in hindi

हेनरी का नियम : इस नियम के अनुसार एक निश्चित ताप पर किसी द्रव विलायक के इकाई आयतन में घुली हुई गैस की मात्रा (m) , साम्यावस्था में द्रव की सतह पर उस गैस द्वारा डाले गए दाब (P) के समानुपाती होती है।  अत: m ∝ P ∝ का चिन्ह हटाने पर – m = K P… Continue reading »

विलेयता , ठोसो की द्रवों में विलेयता , प्रभावित करने वाले कारक , गैसों की द्रवों में विलेयता , फोर्मलता (F) formality in hindi

नॉर्मलता (normality) : एक लीटर विलयन में घुले हुए विलेय के ग्राम तुल्यांको की संख्या उस विलयन की नॉरमलता कहलाती है। नॉर्मलता (N) =  (WB x 1000)/(विलेय का ग्राम तुल्यांकी भार x Vml ) फोर्मलता (F) : एक लीटर विलयन में घुले हुए विलेय के ग्राम सूत्र भारो की संख्या उस विलयन की फॉर्मलता कहलाती है। फॉर्मलता = (WB x… Continue reading »

विलेय , विलायक , विलयन (solution) , PPB (parts per billion) , solute , solvent in hindi

विलयन (solution) : दो या दो से अधिक रासायनिक पदार्थो से बने समांगी मिश्रण को विलयन कहते है। विलेय + विलायक = विलयन solute + solvent = solution विलयन में दो या दो से अधिक घटक उपस्थित हो सकते है। वह घटक जो विलयन में अधिक मात्रा में उपस्थित होता है विलायक कहलाता है तथा… Continue reading »

आरेनियस समीकरण (arrhenius equation in hindi) , संक्रमण अवस्था (transition state in hindi)

आरेनियस समीकरण (arrhenius equation in hindi) , संक्रमण अवस्था (transition state in hindi)

संक्रमण अवस्था (transition state) : किसी रासायनिक अभिक्रिया में अभिकारक अणुओं को उत्पाद में बदलने के लिए एक ऊर्जा अवरोध पार करना पड़ता है। इसे निम्न उदाहरण द्वारा समझ सकते है – (अभिकारक) AB +  C → [A—–B—–C] → A + BC (उत्पाद) इस वक्र से स्पष्ट है कि अभिकारक अणु सक्रियण ऊर्जा प्राप्त करके एक उच्च ऊर्जा… Continue reading »

संघट्ट सिद्धांत (collision theory) , ऊर्जा अवरोधक , अभिविन्यास अवरोधक , अभिक्रिया वेग की ताप पर निर्भरता 

संघट्ट सिद्धांत (collision theory) : यह सिद्धान्त मैक्स ट्राउज व विलियम लेविस नामक वैज्ञानिक ने दिया।  यह सिद्धांत गैसों के गतिक सिद्धान्त पर आधारित है। इस सिद्धांत के मुख्य बिंदु निम्न है – इसके अनुसार किसी अभिक्रिया में अभिकारक अणुओं को ठोस गोले के रूप में माना गया है।  इन अभिकारक अणुओं या ठोस गोले के… Continue reading »

प्रथम कोटि अभिक्रिया की बलगतिकी , प्रथम कोटि अभिक्रिया , अर्द्धआयु (t1/2) , उदाहरण , first order reaction in hindi

प्रथम कोटि अभिक्रिया की बलगतिकी : प्रथम कोटि अभिक्रिया (first order reaction) : ऐसी अभिक्रिया जिसमे अभिक्रिया का वेग अभिकारक की सांद्रता के प्रथम घात के समानुपाती हो प्रथम कोटि अभिक्रिया कहलाती है। प्रथम कोटि अभिक्रिया की अवकलित व समाकलित वेग समीकरण :- A → product (उत्पाद) t = 0 समय पर → a → 0 t समय पर →… Continue reading »

शून्य कोटि अभिक्रिया की बलगतिकी , शून्य कोटि अभिक्रिया की अवकलित व समाकलित वेग समीकरण

अभिक्रिया वेग को प्रभावित करने वाले कारक : 1. अभिकारक की सान्द्रता : द्रव्य अनुपाती क्रिया नियम के अनुसार अभिक्रिया वेग अभिकारको की सांद्रता के समानुपाती होता है अर्थात अभिकारको की सांद्रता बढ़ने पर अभिक्रिया वेग बढ़ता है। 2. ताप का प्रभाव : सामान्यत: ताप बढाने पर रासायनिक अभिक्रिया का वेग बढ़ता है क्योंकि ताप… Continue reading »

विशिष्ट अभिक्रिया वेग / वेग स्थिरांक (K) , वेग स्थिरांक (K) की इकाई , वेग नियम / वेग समीकरण / वेग व्यंजक

वेग नियम / वेग समीकरण / वेग व्यंजक : वेग नियम या वेग समीकरण के अनुसार किसी रासायनिक अभिक्रिया का वेग अभिकारको की सांद्रता के गुणनफल के समानुपाती होता है। अभिक्रिया की वेग समीकरण में अभिकारको के सान्द्रता पदों पर घातांक लिखते है।  यह सांद्रता घातांक अभिकारको के स्टाइकियोमिट्रीक गुणांक के बराबर हो भी सकते है… Continue reading »

रासायनिक बल गतिकी : ऊष्मागतिकी , रासायनिक साम्य , अभिक्रिया के प्रकार , अभिक्रिया का वेग (rate of reaction)

रासायनिक बल गतिकी : रसायन विज्ञान की वह शाखा जिसमे रासायनिक अभिक्रियाओ के वेग , वेग को प्रभावित करने वाले कारक तथा अभिक्रियाओं की क्रियाविधि का अध्ययन किया जाता है , रासायनिक बलगतिकी कहलाती है। रासायनिक अभिक्रिया के लिए आवश्यक सूचनाओ की प्राप्ति :- 1. ऊष्मागतिकी : ऊष्मा गतिकी यह बताती है कि कोई रासायनिक… Continue reading »

संकुलन का रंग , संकुलों का स्थायित्व  , वियोजन स्थिरांक , संकुल का महत्व व अनुप्रयोग compound colour in hindi

संकुलन का रंग : कोई भी यौगिक रंगीन होगा या रंगहीन , यह इस बात पर निर्भर करता है कि यौगिक दृश्यक क्षेत्र से प्रकाश का अवशोषण करता है या नहीं। यदि यौगिक दृश्य क्षेत्र से प्रकाश का अवशोषण करता है तो वह रंगीन होगा अन्यथा रंगहीन होगा। जब श्वेत प्रकाश किसी यौगिक पर आपतित होता… Continue reading »