Monthly Archives: April 2019

एंट्रोपी (entropy in hindi) एन्ट्रॉपी , गिब्स मुक्त ऊर्जा , गिब्स मुक्त ऊर्जा परिवर्तन , समीकरण , gibbs free energy equation

(entropy in hindi) एंट्रोपी : 1. किसी तंत्र की अस्त व्यस्तता या यादृच्छिकता के माप को एंट्रोपी कहते है। 2.  एन्ट्रॉपी को ‘s’ से व्यक्त करते है। 3. एन्ट्रॉपी तंत्र की प्रारंभिक व अंतिम अवस्था पर निर्भर करती है न कि उस पथ पर जिस पथ के द्वारा तंत्र एक अवस्था से दूसरी अवस्था में जाता है अत: एंट्रोपी… Continue reading »

ऊष्मागतिकी का प्रथम नियम , गणितीय रूपांतरण , ऊष्मागतिकी के प्रथम नियम की सीमाएँ first law of thermodynamics in hindi

(first law of thermodynamics in hindi) ऊष्मागतिकी का प्रथम नियम : यह नियम रोबर्ट मेयर तथा हेल्महोल्टज द्वारा प्रतिपादित किया गया था। यह नियम ऊर्जा संरक्षण का नियम कहलाता है। इस नियम के अनुसार ऊर्जा को न तो उत्पन्न किया जा सकता है तथा न ही नष्ट किया जा सकता है परन्तु ऊर्जा को एक… Continue reading »

ऊष्मागतिकी फलन या अवस्था फलन तथा पथ फलन , ऊष्मागतिकीय प्रक्रम , उत्क्रमणीय व अनुत्क्रमणीय प्रक्रम में अन्तर 

ऊष्मागतिकी फलन या अवस्था फलन तथा पथ फलन : वे अवस्था फलन जिन्हें केवल तंत्र की प्रारंभिक एवं अंतिम अवस्था से ही ज्ञात किया जाता है तथा ये उस पथ पर निर्भर नहीं करते जिस पथ से तंत्र प्रारम्भिक अवस्था से अंतिम अवस्था में आता है।  उष्मागतिकी फलन या अवस्था फलन तथा पथ फलन कहलाते है।… Continue reading »

ऊष्मा , ऊष्मागतिकी , शून्य नियम , प्रथम , द्वितीय , तृतीय नियम , तंत्र या निकाय , प्रकार , तंत्र के गुण

ऊष्मा (Heat) : कार्य करने की क्षमता को ऊर्जा कहते है। यह ऊर्जा कई प्रकार की होती है – उदाहरण : यांत्रिक ऊर्जा , सौर ऊर्जा , विद्युत ऊर्जा , प्रकाश ऊर्जा आदि। ऊष्मागतिकी (thermodynamics) : ऊष्मा के प्रवाह के अध्ययन को उष्मागतिकी कहते है। या विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत ऊर्जा रूपान्तरण के… Continue reading »

हाइड्रोजन बंध , प्रकार , अंत: अणुक ‘H’ बंध , अन्तरा अणुक , फाजान्स नियम या फायान्स नियम , आयनिक विभव

हाइड्रोजन बंध : जब दो अत्यधिक विद्युत ऋणी परमाणुओं के मध्य H2 परमाणु एक सेतु या पुल की भांति व्यवहार करता है तो इसे हाइड्रोजन बन्ध कहते है। हाइड्रोजन बंध बनाने की शर्तें हाइड्रोजन  व उससे जुड़े परमाणुओं की विद्युत ऋणताओं में अधिक अंतर होना चाहिए।  अधिक विद्युत ऋणी परमाणु पर कम से कम हाइड्रोजन परमाणु उपस्थित… Continue reading »

कार्बन यौगिको रसायनिक गुणधर्म , chemical properties of carbon compounds in hindi

chemical properties of carbon compounds in hindi , कार्बन यौगिको रसायनिक गुणधर्म  :- इस article में हम कार्बन के यौगिको के रसायनिक गुणधर्मो में बारे में पढेंगे |   कार्बन यौगिको के रासायनिक गुणधर्म कार्बन और कार्बन के यौगिको को इंधन के रूप में उपयोग किया जाता है इसलिए इसकी रासायनिक अभिक्रिया को देखना हमारे… Continue reading »

कार्बनिक रसायनों की आईयूपीएसी नामपद्धति , हिंदी में रसायन शास्त्र iupac नाम , iupac full form in hindi

iupac full form in hindi , कार्बनिक रसायनों की आईयूपीएसी नामपद्धति , हिंदी में रसायन शास्त्र iupac नाम :- इससे पहले के article मे IUPAC नामकरण को discuss किया है अब इस article मे IUPAC नामकरण के advance method को discuss करेगे | लेकिन इससे पहले के article का सार भी discuss करेगे | किसी… Continue reading »

IUPAC नामकरण , आईयूपीएसी नामकरण पद्धति , iupac name examples class 11 in hindi

iupac name examples class 11 in hindi , IUPAC नामकरण , आईयूपीएसी नामकरण पद्धति :- इस अद्याय में हम यौगिको के नामकरण की अलग अलग विधि के बारे में जानेगे यौगिको के हाइड्रोजन परमाणु को समान तरीके के प्रकार्यात्मक समूह से प्रतिस्थापित करते है तो उनके रासायनिक गुण सामान होते है इस तरह के यौगिक… Continue reading »

सहसंयोजक बंध सिद्धांत या संयोजकता बंध सिद्धांत , सिग्मा (σ) और पाई (π) बन्धो में अंतर , अनुनाद प्रभाव

सहसंयोजक बंध सिद्धांत या संयोजकता बंध सिद्धांत : सहसंयोजक बंध की व्याख्या करने के लिए “हाइटलर” व ‘लंदन’ ने सहसंयोजक बंध का सिद्धांत दिया। इस सिद्धांत के अनुसार परमाणुओं के बाह्यतम कोश में अयुग्मित इलेक्ट्रॉन के अतिव्यापन से सहसंयोजक बंध बनता है।  बन्ध के दोनों इलेक्ट्रॉनों पर दोनों परमाणुओं का समान अधिकार होता है। इस सिद्धांत… Continue reading »

धातु के रासायनिक गुण , chemical properties of metals in hindi

chemical properties of metals in hindi , धातु के रासायनिक गुण :- इससे पहले के article मे , धातु के भौतिक गुणों को discuss किया अब इस article मे धातु के रासायनिक गुणों को discuss करेगे | रासायनिक गुणों का मतलब है की जब किसी धातु को किसी दुसरे तत्व के साथ अभिकिया करायी जाती… Continue reading »