Category Archives: Biology

11th class biology notes

अन्तर जाइलमी फ्लोयम का निर्माण (formation of interxylary phloem in hindi) अंतर जाइलमी फ्लोएम बनना 

अंतर जाइलमी फ्लोएम बनना समझाइये | अन्तर जाइलमी फ्लोयम का निर्माण (formation of interxylary phloem in hindi) जाइलम में फ्लोयम खांचो का निर्माण (development of phloem wedges in xylem) : बिग्नोनिया के तने में प्राथमिक संरचना पूर्णतया सामान्य होती है और जब द्वितीयक वृद्धि प्रारंभ होती है तो उस समय भी संवहन कैम्बियम एक सामान्य वलय… Continue reading »

असंगत द्वितीयक वृद्धि क्या है | असंगत द्वितीयक वृद्धि किसे कहते है | कारण | anomalous secondary growth in hindi

anomalous secondary growth in hindi असंगत द्वितीयक वृद्धि क्या है | असंगत द्वितीयक वृद्धि किसे कहते है | कारण ? प्रस्तावना : द्विबीजपत्री तनों में अन्त: पुलीय और अन्तरापूलीय कैम्बियम मिलकर एक सतत वलय बनाते है। यह कैम्बियम वलय तने के केन्द्रीय भाग की तरफ द्वितीयक जाइलम और बाहर की तरफ द्वितीयक फ्लोयम बनाती है।… Continue reading »

कॉर्क क्या है | कार्क | काग केंबियम क्या है | कोशिका में क्या पाया जाता है | cork or phellem in hindi

(cork or phellem in hindi) कॉर्क क्या है | कार्क | काग केंबियम क्या है | कोशिका में क्या पाया जाता है किसे कहते है , कार्य और प्रकार | बाह्यरम्भीय द्वितीयक वृद्धि (extrastelar secondary growth) : संवहनी पौधों में रम्भीय क्षेत्र के बाहर होने वाली द्वितीयक वृद्धि को बाह्य रम्भीय द्वितीयक वृद्धि कहते है। जिसमें… Continue reading »

छाल (bark in hindi) | छाल इन इंग्लिश | पेड़ छाल का कार्य पौधे के लिए | छाल (कॉर्क) की परिभाषा क्या है ?

छाल इन इंग्लिश | पेड़ छाल का कार्य पौधे के लिए | छाल (कॉर्क) की परिभाषा क्या है ? छाल (bark in hindi) परिभाषा : कॉर्क कैम्बियम के बाहर पाए जाने वाले समस्त मृत ऊतकों को छाल कहते है। केथरीन ईसू के अनुसार , वास्तविक रूप में छाल को उन जीवित और मृत कोशिकाओं अथवा ऊतकों… Continue reading »

प्राथमिक फ्लोएम और द्वितीयक फ्लोयम में अंतर (difference between primary and secondary phloem in hindi )

(difference between primary and secondary phloem in hindi) प्राथमिक फ्लोयम और द्वितीयक फ्लोयम में अंतर क्या है बताइये ? किसे कहते हैं द्वितीयक फ्लोयम की संरचना (structure of secondary phloem) : संवहनी कैम्बियम में परिनतिक विभाजनों के परिणामस्वरूप बाहर की तरफ द्वितीयक फ्लोएम अवयवों का निर्माण होता है। सामान्यतया द्वितीयक फ्लोयम की मात्रा द्वितीयक जाइलम की… Continue reading »

बसन्त काष्ठ और शरद काष्ठ में अन्तर (difference between spring wood and autumn wood in hindi)

(difference between spring wood and autumn wood in hindi) बसन्त काष्ठ और शरद काष्ठ में अन्तर क्या है ? बंसत और शरद काष्ट लकड़ी की परिभाषा किसे कहते है , प्रकार ? वार्षिक वलय (annual rings) : बहुवर्षीय काष्ठीय वृक्षों के तनों में कैम्बियम की सक्रियता पूरे वर्ष एक समान नहीं रहती। बंसत ऋतु में संवहन… Continue reading »

टाइलोसस (tyloses in hindi) टाइलोसस के कार्य क्या है | tyloses are formed due to found in

(tyloses in hindi) टाइलोसस के कार्य क्या है , tyloses are formed due to found in ? काष्ठ में वाहिकाओं का विन्यास (arrangement of vessels in wood) : द्वितीयक जाइलम अथवा काष्ठ में वाहिकाओं की उपस्थिति और काष्ठ में इनके व्यवस्थाक्रम के आधार पर विभिन्न प्रकार की काष्ठ को दो प्रमुख श्रेणियों में विभेदित किया जा… Continue reading »

प्राथमिक जाइलम और द्वितीयक जाइलम में अंतर (difference between primary xylem and secondary xylem)

(difference between primary xylem and secondary xylem in hindi) प्राथमिक जाइलम और द्वितीयक जाइलम में अंतर क्या है , किसे कहते है ? परिभाषा क्या है लिखिए | रम्भ क्षेत्र में द्वितीयक वृद्धि (secondary growth in stelar region) : अनावृतबीजी पौधों और बहुवर्षी द्विबीजपत्री पौधों के तनों की प्राथमिक संरचना में संवहन बंडल एक वलय में… Continue reading »

कैम्बियम या एधा क्या है ? केंबियम की परिभाषा किसे कहते है , कार्य , संरचना , प्रकार (cambium in plants in hindi)

कैम्बियम या एधा क्या है ? केंबियम की परिभाषा किसे कहते है , कार्य , संरचना , प्रकार (cambium in plants in hindi)

(cambium in plants in hindi) कैम्बियम या एधा क्या है ? केंबियम की परिभाषा किसे कहते है , कार्य , संरचना , प्रकार बताइए ? संवहनी एधा जीव विज्ञान को समझाइये | प्रस्तावना : द्विबीजपत्री पौधों में विशेष रूप से बहुवर्षीय शाकों , झाड़ियों और वृक्षों में जैसे जैसे पौधे की आयु बढती जाती है तो… Continue reading »

तने में प्राथमिक असंगत संरचनाएँ (primary anomalous structure in stem in hindi) in dicot stem

(primary anomalous structure in stem in hindi in dicot stem) तने में प्राथमिक असंगत संरचनाएँ : द्विबीजपत्री पौधों में अनेक सदस्य ऐसे पाए जाते है जिनमें शुरू से ही तने में असामान्य अथवा असंगत संरचनाएं पायी जाती है जैसे वल्कुट अथवा मज्जा में संवहन बंडलों की उपस्थिति असंगत संरचनाओं के तौर पर परिलक्षित होते है क्योंकि… Continue reading »