Monthly Archives: February 2018

शंट प्रतिरोध की परिभाषा क्या है , शण्ट का प्रयोग का कारण shunt resistance in galvanometer

shunt resistance in galvanometer शंट प्रतिरोध की परिभाषा क्या है , शण्ट का प्रयोग का कारण : हमने धारामापी के अध्ययन में पढ़ा की इसमें एक कुण्डली का इस्तेमाल होता है , कभी कभी ऐसा होता है की धारामापी में इसकी क्षमता से अधिक धारा प्रवाहित हो जाती है , अधिक धारा प्रवाहित होने से इसमें… Continue reading »

किलकित कुण्डली धारामापी या वेस्टन धारामापी pivoted coil galvanometer or weston galvanometer

(pivoted coil galvanometer ) किलकित कुण्डली धारामापी या वेस्टन धारामापी : प्राय: प्रयोगशालाओं में कीलकित कुंडली धारा मापी का ही उपयोग किया जाता है , हालांकि की इसकी सुग्राहिता निलंबन धारामापी से कम होती है लेकिन सुविधा की दृष्टि से यह अधिक प्रयोग होती है। संरचना चित्र (construction) इसमें भी निलंबित कुण्डली धारामापी की तरह… Continue reading »

धारामापी की सुग्राहिता , धारा सुग्राहिता , वोल्टता सुग्राहिता , दक्षतांक , प्रभावी करने वाले कारक

Sensitivity of galvanometer in hindi धारामापी की सुग्राहिता : अल्प से अल्प धारा को भी अच्छी सुग्राहिता वाली धारामापी द्वारा संसूचन कर सकते है। अतः हम कह सकते है की सुग्राहिता का तात्पर्य धारामापी की गुणवत्ता से है। यदि किसी धारामापी की कुण्डली में एक बहुत अल्प धारा प्रवाहित की जाए तथा इस अल्प धारा का… Continue reading »

निलंबित कुण्डली धारामापी , त्रिज्य क्षेत्र suspended coil galvanometer in hindi Radial Field

निलंबित कुण्डली धारामापी (suspended coil galvanometer ) : हम यहाँ इसके बारे में विस्तार से पढ़ेंगे की इसकी बनावट या संरचना कैसी होती है , इसकी कार्यविधि , सिद्धान्त इत्यादि। बनावट या संरचना (Construction) : निलम्बित कुण्डली धारामापी की संरचना चित्र में दिखाई गयी है , इसमें एक अनुचुम्बकीय धातु (एल्युमिनियम) पर विद्युत रोधी तथा… Continue reading »

धारामापी क्या है गैल्वेनोमीटर , सिद्धान्त , कार्य , प्रकार , उपयोग Galvanometer in hindi

Galvanometer in hindi धारामापी क्या है गैल्वेनोमीटर , सिद्धान्त , कार्य , प्रकार , उपयोग :  किसी विद्युत परिपथ में अल्प विद्युत धारा के मापन के लिए जिस युक्ति का उपयोग किया जाता है उसे धारामापी या गैल्वेनोमीटर कहते है। धारामापी किस सिद्धान्त पर कार्य करती है (principle of galvanometer) ? यह युक्ति इस सिद्धांत… Continue reading »

एक समान चुम्बकीय क्षेत्र में आयताकार धारावाही लूप पर बल एवं बल आघूर्ण torque on loop in magnetic field

Force and torque on a current carrying rectangular loop in a uniform magnetic field एक समान चुम्बकीय क्षेत्र में आयताकार धारावाही लूप पर बल एवं बल आघूर्ण : यहाँ हम यह अध्ययन करेंगे की जब किसी आयताकार धारावाही लूप को एक चुम्बकीय क्षेत्र में रखा जाए तथा इस लूप में विद्युत धारा प्रवाहित की जाए… Continue reading »

दो समान्तर धारावाही चालक तारों के मध्य चुम्बकीय बल या एम्पियर का नियम

Magnetic force between two parallel current carrying conductor दो समान्तर धारावाही चालक तारों के मध्य चुम्बकीय बल या एम्पियर का नियम : जैसा की हम पढ़ चुके है की जब एक धारावाही चालक तार में विद्युत धारा प्रवाहित करते है तो इसके चारों ओर एक चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न होता है। जब दो धारावाही चालकों को… Continue reading »

फ्लेमिंग का बायें हाथ का नियम , दांये हाथ की हथेली का नियम , चुम्बकीय क्षेत्र में बल की दिशा

जब किसी धारावाही चालक को चुम्बकीय क्षेत्र में रखा जाता है तो चुम्बकीय क्षेत्र में धारावाही चालक तार पर बल कार्य करता है। चुंबकीय क्षेत्र में रखे धारावाही चालक पर लगने वाले इस बल की दिशा को दो नियमों का उपयोग कर ज्ञात करते है 1. फ्लेमिंग का बायें हाथ का नियम (fleming’s left hand… Continue reading »

चुम्बकीय क्षेत्र में धारावाही चालक तार पर बल Force on current carrying conductor in a magnetic field

Force on current carrying conductor in a magnetic field चुम्बकीय क्षेत्र में धारावाही चालक तार पर बल : हम जानते है की चालक तार में मुक्त इलेक्ट्रॉन बहुतायत से पाए जाते है अतः जब किसी चालक तार को किसी चुम्बकीय क्षेत्र में रखा जाता है तो तार में उपस्थित मुक्त इलेक्ट्रॉनो पर लॉरेन्ज बल कार्य… Continue reading »

साइक्लोट्रॉन की गणितीय विवेचना , सीमाएँ , साइक्लोट्रोन के उपयोग Uses of cyclotron

साइक्लोट्रॉन की गणितीय विवेचना (Mathematical analysis of cyclotron) : हम यहाँ साइक्लोट्रोन के लिए विभिन्न पहलुओं के लिए सूत्र की स्थापना करेंगे जिनकी सहायता से इसको आसानी से गणितीय रूप में समझा जा सकता है। साइक्लोट्रॉन क्या है  चूँकि साइक्लोट्रॉन में धनावेशित कण वृत्ताकार पथ में गति करता है और हम जानते है की वृत्ताकार पथ… Continue reading »