धारामापी क्या है गैल्वेनोमीटर , सिद्धान्त , कार्य , प्रकार , उपयोग Galvanometer in hindi

By  

Galvanometer in hindi धारामापी क्या है गैल्वेनोमीटर , सिद्धान्त , कार्य , प्रकार , उपयोग :  किसी विद्युत परिपथ में अल्प विद्युत धारा के मापन के लिए जिस युक्ति का उपयोग किया जाता है उसे धारामापी या गैल्वेनोमीटर कहते है।

dc-galvanometer

धारामापी किस सिद्धान्त पर कार्य करती है (principle of galvanometer) ?
यह युक्ति इस सिद्धांत पर कार्य करती है की ” यदि किसी समान या नियत चुम्बकीय क्षेत्र में एक कुण्डली रखी जाए और इसमें धारा प्रवाहित की जाए तो कुंडली पर एक बल आघूर्ण कार्य करता है तथा इस बलाघूर्ण का मान कुण्डली में प्रवाहित धारा के परिमाण पर निर्भर करता है अर्थात जितनी ज्यादा धारा प्रवाहित होती है उतना ही अधिक कुंडली पर बलाघूर्ण का मान होता है “
धारामापी के प्रकार (types of Galvanometer ) ?
धारामापी को दो भागों में बाँटा गया है
1. चल कुण्डली धारामापी
2. चल चुम्बक धारामापी
चल कुण्डली धारामापी को भी आगे दो भागो में बांटा गया है
१. निलम्बित कुण्डली धारामापी
२. किलकित चुम्बक धारामापी
गैल्वेनोमीटर (धारामापी) का उपयोग करता है (use of galvanometer in hindi) ?
धारामापी या गैल्वेनोमीटर का उपयोग कर किसी परिपथ में विद्युत धारा का संसूचन किया जाता है।
इसका उपयोग करके अमीटर तथा वॉल्टमीटर भी बनाये जाते है , धारामापी का उपयोग करके अमीटर या वोल्टमीटर बनाने के लिए धारामापी का रूपान्तरण किया जाता है।