डाई हैलाइड के प्रकार , C-X बंध की प्रकृति , एल्किल हैलाइड बनाने की विधियां

By  

प्रश्न 1 : डाई हैलाइड कितने प्रकार के होते है ? प्रत्येक के दो दो उदाहरण दीजिये।

उत्तर : डाई हैलाइड दो प्रकार के होते है

  1. निकटवर्ती डाई हैलाइड :

इसमें पास पास के कार्बन परमाणुओं पर दो हैलोजन जुड़े होते है , इसका साधारण नाम एल्किलिन डाई हैलाइड है।

उदाहरण : एथिलीन डाई हैलाइड

प्रोपिलीन डाई हैलाइड

  1. जैमडाई हैलाइड :

जब एक ही कार्बन पर दो हैलोजन जुड़े हो तो उन्हें जैमडाई हैलाइड कहते है।

उदाहरण : मेथिलीन क्लोराइड

एथिलिडीन क्लोराइड

C-X बंध की प्रकृति :

  1. c-x बंध में हैलोजन की विद्युत ऋणता अधिक व कार्बन की विद्युत ऋणता कम होती है जिससे कार्बन पर आंशिक धनावेश तथा हैलोजन पर आंशिक ऋणावेश आ जाता है अतः c-x बंध ध्रुवीय प्रकृति का होता है।
  2. हैलोजन में F का आकार सबसे छोटा तथा I का आकार सबसे बड़ा होता है अतः बंध लम्बाई का बढ़ता क्रम

R-F < R-Cl < R-Br < R-I

  1. बंध लम्बाई बढ़ने पर बंध वियोजन एन्थैल्पी कम होती है अतः बंध वियोजन एन्थैल्पी का घटता क्रम

R-F > R-Cl > R-Br > R-I

एल्किल हैलाइड बनाने की विधियां :

A . एल्कोहल (alcohol) से

  1. एल्कोहल (alcohol) की क्रिया PCl5से करने पर 

R-OH + PCl5 → R-Cl + POCl3 + HCl

C2H5-OH + PCl5 → C2H5– Cl + POCl3 + HCl

  1. एल्कोहल (alcohol) की क्रिया PCl3  से करने पर 

3(C2H5-OH) + PCl→ H3PO3 + 3C2H5-Cl

  1. एल्कोहल (alcohol) की क्रिया थायोनिल क्लोराइड (SOCl2) से करने पर

C2H5-OH +  SOCl→ C2H5-Cl + SO2 + HCl

नोट : यह R-Cl बनाने की सबसे अच्छी विधि है क्योंकि इस क्रिया में SO2 व HCl गैसीय अवस्था में होने के कारण बाहर निकल जाते है जिससे शुद्ध R-Cl प्राप्त है।

  1. एल्कोहल की क्रिया फास्फोरस तथा हैलोजन से करने पर

R-OH    (P/Br)→ R-Br

  1. एल्कोहल की क्रिया NaBr तथा सांद्र H2SO4से करने पर

R-OH + NaBr + H2SO → R-Br + NaHSO4 + H2O

नोट : एल्कोहल की क्रिया KI व  H2SO4 से करने पर R-I प्राप्त नहीं होते

KI + H2SO → HI + KHSO4

इस क्रिया में बने H-I का सांद्र H2SO4 द्वारा I2 में ऑक्सीकरण हो जाता है।

2HI + H2SO4 → 2H2O + I2 + SO2

  1. एल्कोहल की क्रिया H-X से करने पर

R-OH + R-X → 2H2O + R-X

नोट : H-X की क्रियाशीलता का घटता क्रम

H-I > H-Br > HCl > H-F