Monthly Archives: July 2018

अंको का पूर्णांकन करना , नियम , उदाहरण rounding off digits in hindi

(rounding off digits in hindi) अंको का पूर्णांकन करना , नियम , उदाहरण : किसी संख्या में उपस्थित सार्थक अंको को एक निश्चित सार्थक अंक वाली संख्या में परिवर्तित करने को अंको का पूर्णांकन करना कहते है। अंको के पूर्णांकन करने की विधि में समीपता का सिद्धांत काम में लिया जाता है। अंको के पूर्णांकन… Continue reading »

सार्थक अंक क्या है , परिभाषा , नियम significant figures or digits in hindi

(significant figures or digits in hindi ) सार्थक अंक : जब किसी भौतिक राशि का मापन किया जाता है तो इसे शुद्ध रूप में व्यक्त करने के लिए कुछ अंको की सहायता से लिखा जाता है। अत: किसी भौतिक राशि के शुद्ध मापन को व्यक्त करने के लिए जिन अंको का प्रयोग किया जाता है… Continue reading »

त्रुटियों का संयोजन , योग , व्यकलन , गुणा या भाग के कारण त्रुटि combination of errors in hindi

(combination of errors in hindi ) त्रुटियों का संयोजन : जब किसी राशि को ऐसे समीकरण या सूत्र के रूप में लिखा जाए जिसमे एक से अधिक राशियों का योग , व्यकलन , गुणा या भाग उपस्थित हो तो राशियों के इस प्रकार के संयोजन से त्रुटि किस प्रकार प्रभावित रहती है या संयोजन के… Continue reading »

मापन में शुद्धता तथा त्रुटियाँ , त्रुटि के प्रकार accuracy and errors in measurement in hindi

(accuracy and errors in measurement in hindi ) मापन में शुद्धता तथा त्रुटियाँ : जब हम किसी भी चीज का मापन करते है तो यह आवश्यक है की वह मापन सही हो , लेकिन हमारे द्वारा मापा गया मान शुद्ध है या नहीं अथवा इसमें कितनी त्रुटि है इस बात का कैसे पता चलेगा अथवा… Continue reading »

वर्नियर कैलीपर्स तथा स्क्रूगेज vernier callipers and screw gauge in hindi

(least count of vernier callipers and screw gauge in hindi) वर्नियर कैलीपर्स तथा स्क्रूगेज मापन यंत्रों का अल्पतमांक : इन दोनों प्रकार के मापन यंत्रो का अध्ययन करने से पूर्व हम यह पढ़ते है की अल्पतमांक क्या होता है ? अल्पतमांक : किसी भी उपकरण द्वारा मापी जा सकने वाली छोटी से छोटी राशि को ही… Continue reading »

सूक्ष्म और वृहद् दूरियो का मापन , लम्बन विधि ,चन्द्रमा का व्यास , प्रतिध्वनि विधि या परावर्तन विधि  

सूक्ष्म और वृहद् दूरियो का मापन (measurement of very small and very large distances) : यहाँ हम दो प्रकार की दूरियों के बारे में अध्ययन करेंगे , पहली जब दुरी बहुत ही सूक्ष्म (कम) हो तथा दूसरी जब दूरी बहुत अधिक हो।  हम यहाँ यह भी ज्ञात करेंगे की इनका मापन किस प्रकार व किन… Continue reading »

विमीय समीकरण के सीमा बंधन (सीमाएँ) limitations of dimensional equations in hindi

limitations of dimensional equations in hindi  विमीय समीकरण के सीमा बंधन : हम विमीय समीकरण के उपयोग के बारे में पढ़ चुके है जिसमे हमने देखा की विमीय समीकरण बहुत ही उपयोगी है लेकिन हर चीज की बंधन सीमा है या कमियां है , यहाँ हम विमीय समीकरण के बंधन सीमा के बारे में पढेंगे… Continue reading »

विमीय समीकरणों के उपयोग , विमा सूत्र के प्रयोग uses of dimensional equations in hindi

uses of dimensional equations in hindi  विमीय समीकरणों के उपयोग : किसी भी भौतिक राशि के लिए विमा क्या होती है और इसे राशियों के लिए किस प्रकार लिखा जाता है  , यह हमने पहले पढ़ लिया है। आज हम बात करते है की विमीय समीकरण क्यों लिखे जाते है अर्थात इनका क्या कार्य या योगदान (उपयोग)… Continue reading »

विमा (विमीय सूत्र) और S.I मात्रक unit and dimension in hindi

भौतिक राशि का विमीय सूत्र व S.I पद्धति में मात्रक , विमा क्या है और मूल राशि से सम्बन्ध लिखिए यहाँ हम बहुत सारी भौतिक राशियों के विमा सूत्र के बारे में अध्ययन करेंगे और इन भौतिक राशियों का मूल राशियों से क्या सम्बन्ध है यह भी देखेंगे।  साथ ही इन सभी राशियों का S.I पद्धति… Continue reading »

विमाएँ एवं विमीय विश्लेषण , विमा ज्ञात करने का तरीका या विधि dimensions and dimensional analysis

विमाएँ एवं विमीय विश्लेषण (dimensions and dimensional analysis) : किसी भी मात्रक की विमा यह दर्शाती है की यह किस प्रकार का मापन है जैसे ग्राम , किलोग्राम , पाउण्ड आदि सभी द्रव्यमान के अलग अलग मात्रक है लेकिन सभी मात्रक केवल द्रव्यमान के लिए उपयोग किये जाते है इसलिए इन सबकी विमा समान होगी।… Continue reading »