विटीकल्चर किसे कहते हैं viticulture is the cultivation of in hindi सेरीकल्चर की परिभाषा क्या है ?

By  

सेरीकल्चर की परिभाषा क्या है ? विटीकल्चर किसे कहते हैं viticulture is the cultivation of in hindi ?

उत्तर ल अंगूरों की खेती को विटीकल्चर कहा जाता है |

कृषि के कुछ वैज्ञानिक शब्द
1. विटीकल्चर : अंगूरों की कृषि
2. पीसीकल्चर/एक्वाकल्चर : मत्स्यपालन
3. सेरीकल्चर : मलबेरी पेड़ों के साथ रेशम उत्पादन
4. हॉर्टीकल्चर : विभन्न फलों का उत्पादन
5. ओलिवीकल्चर : जैतून की कृषि
6. आरबोरीकल्चर : विभन्न प्रकार के वृक्षों तथा झाड़ियों की कृषि
7. एपीकल्चर : मधुमक्खीपालन ।
8. फ्लोरीकल्चर : फूलों की कृषि
9. सिल्वीकल्चर : वनों के संवर्द्धन व संरक्षण से संबंधित क्रिया
10. वेजीकल्चर : दक्षिण पूर्व एशिया में आदिम मान द्वारा की गई प्रारंभिक कृषि
11. नेमरीकल्चर : एक आदिम कृषि जिसमें जड़, तना, फल व फूल इकट्ठा किए जाते थे।
12. ओलेरीकल्चर : सब्जियों की कृषि
13. मेरीकल्चर : समुद्री जीवों (झांगा, आइस्टर आदि) के उत्पादन की क्रिया
14. हॉर्सीकल्चर : उन्नत प्रजाति के घोड़ों व खच्चरों का पालन
15. वर्मीकल्चर : केंचुआ पालन
16. मोरीकल्चर : शहतूत की कृषि (रेशम पालन के लिए)
17. एरीपोनिक : पौधों को हवा में उगाना
18. पोमोलॉजी : फल विज्ञान

कृषि

विश्व की प्रमुख फसलें एवं उनके उत्पादक देश

फसलें उत्पादक देश
1. चावल चीन, भारत, इण्डोनेशिया, बंग्लादेश, वियतनाम, थाईलैण्ड
2. गेहूं चीन, भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, यूक्रेन
3. जौ रूस, जर्मनी, कनाडा
4. जई/ओट रूस, कनाडा, अमेरिका
5. मक्का अमेरिका, चीन, ब्राजील, मैक्सिको
6. तिलहन अमेरिका, चीन, भारत
7. सोयाबीन अमेरिका, ब्राजील, चीन
8. गन्ना भारत, ब्राजील, थाईलैण्ड, चीन
9. चुकन्दर फ्रांस, जर्मनी, अमेरिका
10. चाय भारत, चीन, श्रीलंका
11. कहवा ब्राजील, वियतनाम, कोलंबिया
12. कपास चीन, अमेरिका, भारत, पाकिस्तान
13. तम्बाकू चीन, अमेरिका, भारत, ब्राजील
14. रबड़ थाईलैण्ड, इण्डोनेशिया, मलेशिया, भारत, चीन
15. कोकोआ आइवरी कोस्ट, कोस्टारिका, इक्वाडोर
16. दलहन भारत, ब्राजील, चीन
विश्व की स्थानांतरण कृषि
नाम क्षेत्र
कोनूको वेनेजुएला
रोका ब्राजील
कैंगिन फिलीपींस
तुंग्या म्यांमार
चेन्ना श्रीलंका
लेदांग जावा तथा मलेशिया
तमराई थाईलैंड
हुमा इण्डोनेशिया तथा जावा
रे वियतनाम तथा लाओस
तावी मेडागास्कर

पशुपालन
दुग्ध एवं दुग्ध उत्पाद
ऽ भारत विश्व का सबसे बड़ा दुग्ध उत्पादक है।
ऽ दूध के अन्य उत्पादक रू अमेरिका, कनाडा, रूस, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड।
मांस
ऽ मांस मुख्यतः गाय, बैल, भैंस, बकरी, तथा सुअर से प्राप्त किया जाता है।
ऽ अर्जेन्टीना, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, आदि देश मांस उत्पादन के लिए प्रसिद्ध हैं । ये मांस उत्पादन में विश्व में क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान रखते हैं।
ऊन
ऽ ऊन भेड़, बकरी, ऊंट, लामा, आदि से प्राप्त किये जाते हैं। उत्पादन की मात्रा व गुणवत्ता की दृष्टि से भेड़ का ऊन सर्वाधिक महत्वपूर्ण है।
ऽ ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, अर्जेन्टीना व दक्षिण अफ्रीका ऊन उत्पादन और निर्यात की दृष्टि से सर्वाधिक महत्वपूर्ण देश हैं।
ऽ भेड़ पालन के लिए शुष्क और शीतोष्ण जलवायु की आवश्यकता होती है, जहां छोटी-छोटी घासें उगती हैं।
ऽ ऑस्ट्रेलिया के मर्रे-डार्लिंग बेसिन में पाली जाने वाली ‘मेरिना‘ भेड़ें सर्वश्रेष्ठ कोटि का ऊन प्रदान करती हैं।

जीवोम

समस्त वनस्पतियों एवं प्राणियों के सम्मिलित रूप से सृजित पारिस्थितिकी को जीवोम कहते हैं। जीवोम पृथ्वी के तल पर एक वृहत जीव मण्डल (BioticZ one) होता है। बायोम में अलग-अलग प्रकार के अनेकों पारितंत्र हो सकते हैं।

विश्व के प्रमुख जीवोम
ऽ ट्रेवार्था (Trewartha) ने भूमि, जल और तापमान की उपलब्धता के आधार पर विश्व के जीवोम को निम्न पांच वर्गों में विभक्त किया है:
(1) वनीय जीवोम (Forest Biome)
(2) सवाना जीवोम (Savana Biome)
(3) घास प्रदेशीय जीवोम (Grassland Biome)
(4) मरूस्थल जीवोम (Desert Biome)
(5) टुण्ड्रा जीवोम (Tundra Biome)

वनीय जीवोम
इसको निम्नलिखित दो प्रमुख और N : उपवर्गों में विभक्त किया गया हैः
सदाबहार वन
(i) विषुवतरेखीय वन जीवोम: इसका विस्तार सामान्यतः 10° उत्तरी तथा दक्षिणी अक्षांशों के मध्य पाया जाता है। वर्ष भर उच्च वर्षा तथा तापमान के करण यहां पर सदाबहार वर्षा वन जीवोम पाया जाता है।
ऽ ब्राजील में इसे सेलवास कहते हैं।
ऽ इस जीवोम की प्राथमिक उत्पादकता सर्वाधिक है और ये जैविक रूप से सर्वाधिक विविधतापूर्ण हैं।
ऽ इस जीवोम में पाये जाने वाले महत्त्वपूर्ण वृक्ष महोगनी, रोजवुड, आबनूस, रबड़ सिनकोना, ताड़ तथा नारियल हैं।
(ii) मध्य अक्षांश सदाबहार वन: ये शीतोष्ण कटिबंध के महादेशों में पूर्वी तटों पर स्थित वर्षा वन हैं।
ऽ चैड़ी पत्ती वाले पेड़ जैसे-ओक, साइन, मैग्नेलिया और यूकेलिप्टस इन वनों के प्रमुख पेड़ हैं।
ऽ इन वनों द्वारा आच्छादित प्रमुख क्षेत्र दक्षिणी चीन, जापान, दक्षिण-पूर्व अमेरिका व दक्षिणी ब्राजील हैं।
(iii) भूमध्य सागरीय वन: इसका विस्तार दोनों गोलार्धा में महाद्वीपों के पश्चिमी भाग में 30° से 45° अक्षाशों के बीच पाया जाता है।
ऽ इस क्षेत्र की वनस्पतियों की पत्तियां मोटी तथा कठोर और तने की छाल मोटी होती है।
ऽ इस बायोम क्षेत्र में ओक, बर्च, चेस्टनट, मैपल वालनट, चीड़ कार्कवुड, मेड्रोन, लारेल आदि प्रमुख वृक्ष पाये जाते हैं।
(iv) शंकुधारी वन: इन्हें टैगा वन भी कहते हैं।
ऽ ये मुलायम लकड़ियों के वन हैं जो यूरोप, एशिया व उत्तरी अमेरिका के पर्वतीय हिस्सों में पाए जाते हैं।
ऽ इन वनों की प्रमुख लकड़ियां फर, हैमलॉक, स्प्रूस, देवदार, पाइन आदि हैं। इन पेड़ों की वृद्धि केवल ग्रीष्म ऋतु तक सीमित रहती है।

पर्णपाती वन
(v) मध्य अक्षांश पर्णपाती वन
ऽ ये वन महादेशों के ठंडे तटीय हिस्से में पाए जाते हैं। ये वन उत्तर-पूर्वी अमेरिका, दक्षिणी चिली आदि में पाए जाते हैं।
ऽ इन वनों के मुख्य पेड़ ओक, भूर्ज, अखरोट, मैपल, ऐश, चैस्नट आदि हैं।
(vi) उष्णकटिबंधीय/मानसून वन
ऽ ये वन एशिया के मानसूनी क्षेत्र, ब्राजील, मध्य अमेरिका और उत्तरी ऑस्ट्रेलिया में पाए जाते हैं। इन वनों से आच्छादित क्षेत्रों में एक विशिष्ट सूखा मौसम होता है जिसके बाद वर्षा होती है।
ऽ इस जीवोम के प्रमुख पेड़-साल, टीक और बांस हैं।
सवाना जीवोम
ऽ आर्द्र-सूखा उष्णकटिबंधीय मौसम इस जीवोम में पाया जाता है।
ऽ इसमें घासभूमि की प्रमुखता होती है। अफ्रीका, भारत, ब्राजील, पूर्वी-ऑस्ट्रेलिया आदि प्रमुख स्थान हैं जो इस जीवोम में पाए जाते हैं।
नोट: सवाना को विश्व का प्राकृतिक चिड़ियाघर कहते हैं।
घासभूमि जीवोम
इसे आगे दो भागों में विभक्त करते हैं:
(i) अर्धशुष्क महाद्वीपीय घासभूमि: इन घासभूमियों को दक्षिण अफ्रीका में बेल्ड, ब्राजील में कैम्पोस और उत्तर अमेरिका, यूरोप व रूस में स्टेपी कहते हैं।
(ii) मध्य अक्षांश वर्षा घासभूमि: ये शीतोष्ण जलवायु में लंबी और घनी घास के क्षेत्र हैं।
ऽ इन्हें उत्तर अमेरिका में प्रेयरी, दक्षिण अमेरिका में पंपोसय ऑस्ट्रेलिया में डाउब्स, न्यूजीलैंड में कैन्टेबरी और हंगरी में पुस्ताज कहा जाता है।
मरूस्थल जीवोम
ऽ इस जीवोम में समान्यतः वनस्पति का अभाव होता है। केवल छोटी झाड़ियों, कैक्टस, अकासिया और खजूर के पेड़ इसमें पाये जाते हैं।
ढूंड्रा जीवोम
ऽ इस क्षेत्र की वनस्पति केवल लाइकेन, एल्गी, काई और छोटी झाड़ियां हैं।
ऽ इस जीवोम में रहने वाले लोगों की एस्किमो कहते हैं।