वान्ट हॉफ गुणांक परिभाषा क्या है सूत्र व प्रश्न उत्तर van ‘t Hoff factor in hindi

van ‘t Hoff factor (वान्ट हॉफ गुणांक) in hindi  What is the definition and formulas? वान्ट हॉफ गुणांक परिभाषा क्या है सूत्र व प्रश्न उत्तर

वान्ट हाफ गुणांक : (van ‘t Hoff factor in hindi)

असामान्य मानो की व्याख्या करने के लिए वान्टहॉफ ने एक नए गुणांक का समावेश किया जिसे वान्टहॉफ गुणांक कहते है इसे i से व्यक्त करते है।

विलेय के प्रेक्षित मोल तथा सैद्धांतिक मोल के अनुपात को वान्टहॉफ गुणांक कहते है।

वान्टहॉफ गुणांक (i ) = विलेय के प्रेक्षित मोल / विलेय के सैद्धांतिक मोल

i  = विलेय के प्रेक्षित अणु संख्यक गुण / विलेय के सैद्धांतिक अणु संख्य गुण

i   =  (ΔP/P10)/( ΔP/P10)t

i   = (ΔTb)प्रेक्षित  /( ΔTb)सैधांतिक 

i   =  (ΔT)0  /( ΔTf)t

i   = Π0/ Πt

अणु संख्य गुणों के सभी मान विलेय के अणुभार के व्युत्क्रमानुपाती होते है।

अतः

i = विलेय के सैद्धांतिक अणुभार / विलेय का प्रेक्षित अणुभार

प्रश्नो के लिए आधार   : अ) 1 m ग्लुकोज़ 

            ब ) 1m CaCl2

              स ) 1m NaCl

d ) 1m  Al2(SO4)3

प्रश्न 1 : i का मान कौनसे विलयन का मान वान्ट हॉफ गुणांक है। 

उत्तर : द

जैसे Al2(SO4)3 = 2Al3+  + 3SO42-

प्रश्न 2  : उपरोक्त विलयनों को  वान्ट हाफ गुणांक के बढ़ते क्रम में लिखो। 

उत्तर :  अ < ब < स < द

प्रश्न 3  : सबसे अधिक क्वथनांक वाला विलयन है ?

उत्तर : द

कणो की संख्या अधिक होने पर क्वथनांक अधिक होता है।

प्रश्न 4   : सबसे अधिक परासरण दाब वाला विलयन है। 

उत्तर :  द

कणो की संख्या अधिक होने पर परासरण दाब अधिक होता है।

प्रश्न 5    : सबसे कम हिमांक वाला विलयन है। 

 उत्तर : द

कणों की संख्या बढ़ने पर हिमांक में अवनमन अधिक होता है।

प्रश्न 6  : उपरोक्त विलयनों को हिमांक के बढ़ते क्रम में लिखो। 

उत्तर : द > ब > स >  अ

कणों की संख्या बढ़ने पर हिमांक में अवनमन होता है।

प्रश्न 7  : उपरोक्त विलयनों को वाष्पदाब के बढ़ते क्रम में लिखो। 

 उत्तर :  द>ब>स>अ

नोट : i =1 हो तो न वियोजन होगा न संगुणन

i>1 हो तो वियोजन होगा।

i<1 हो तो संगुणन होगा।

प्रश्न 7 : निम्न में से किस विलयन के लिए i का मान 1 है। 

            अ) 1 m सुक्रोज

ब ) 1m CaCl2

              स ) 1m NaCl

d ) 1m  NH2CO-NH2

उत्तर : सुक्रोज

प्रश्न 8 : ऐसिटिक अम्ल बेंजीन विलायक में द्विलक के रूप में होता है अतः 

      अ ) i>1

ब )  i <1

स ) i =1

द )  i = 2

उत्तर :  ब )  i <1 

नोट : जब किसी विलयन में विलेय पदार्थ का संगुणन या वियोजन होता है तो उन विलयनों के लिए अणु संख्य गुणों के समीकरण में वान्टहॉफ गुणांक का समावेश किया गया ।

(P1– P ) P10  = i X2

ΔT= i m K

ΔTf =  i m Kf

π = i cRT

यदि विलेय पदार्थ का वियोजन होता है तो वियोजन की मात्रा α निम्न सूत्र द्वारा ज्ञात की जाती है। 

α = ( i  – 1 ) / (n – 1 )

यहाँ n = वियोजित हुए मोल।

नोट : विलेय पदार्थ का  संगुणन  होता है तो संगुणन की मात्रा α निम्न सूत्र द्वारा ज्ञात की जाती है।

α = n( i  – 1 ) / (1 – n  )

यहाँ n = संगुणित  हुए मोल की संख्या।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *