आण्विक बलों तथा बहुलकन के आधार पर बहुलक के प्रकार

आण्विक बलों तथा बहुलकन के आधार पर बहुलक के प्रकार

सब्सक्राइब करे youtube चैनल

Types of polymers based on molecular forces आण्विक बलों के आधार पर बहुलक के प्रकार : इन्हे चार भागों में बांटा गया है।

1. प्रत्यास्थ बहुलक :
  • इनके अणुओं के मध्य अन्तराणविक बल सबसे दुर्बल होते है।
  • ये खींचने पर खींच जाते है तथा छोडने पर वापस अपनी पूर्व अवस्था में आ जाते है।
  • इनमें बहुत कम सेतु बंध पाए जाते है।
उदाहरण : प्राकृतिक रबर , वल्कनीकृत रबड़ , ब्यूना S , ब्यूना N , निओप्रिन आदि।
2. रेशेदार बहुलक :
  • इनमें प्रबल अन्तराणुक हाइड्रोजन बंध पाये जाते है।
  • ये क्रिस्टलीय होते है तथा तीक्ष्ण गलनांक होता है।
  • ये रेशेदार के रूप में होते है।
उदाहरण : नायलॉन 6, 6 , नायलॉन 6 , टेफ्लोन
3. तापघट्य या थर्मोप्लास्टिक बहुलक :
  • इनके अणुओं के मध्य अंतराआण्विक , बल प्रत्यास्थ बहुलकों से प्रबल तथा रेशेरदार बहुलकों से दुर्बल होते है।
  • इन्हे बार बार गर्म करके नर्म तथा ठंडा करने पर पुन: ठोस अवस्था में प्राप्त किया जा सकता है।
  • इनमें स्रेतु बंधो का अभाव होता है।
  • इन्हे कचरे से पुन: प्राप्त कर सकते है।
उदाहरण : PVC , पॉलीथिन , पॉलीस्टाइरीन आदि।
4. तापदृढ या थर्मोसेटिंग बहुलक :
  • इन्हे अर्द्ध ठोस पदार्थो को गर्म करके बनाया जाता है तथा ठंडा करने पर बहुत सारे स्रेतु बंध बन जाते है जिससे ये अधिक कठोर तथा दुर्गलनीय हो जाते है।
  • इन्हे बार बार गर्म करके इच्छित आकृति में नहीं बदला जा सकता।
  • इन्हे कचरे से पुन: प्राप्त नहीं किया जा सकता।
उदाहरण : मेलैमिन , बैकेलाइट , यूरिया फार्मेल्डिहाइड रेजिन।
प्रश्न  : निम्न बहुलकों को अंतरा आण्विक बलों को बढ़ते क्रम में लिखो।
1. नायलॉन 6,6 , ब्यूना S , पॉलीथिन
उत्तर :  ब्यूना S > पॉलीथिन > नॉयलोन 6 , 6
2. नाइलॉन 6 , नियोप्रीन , PVC
उत्तर : नियोप्रिन > PVC > नाइलॉन 6

बहुलकन के आधार पर :

बहुलकों को दो भागो में बांटा गया है।
1. योगात्मक बहुलक या यौगज बहुलक :
  • असंतृप्त एकलक के अणुओं की बार बार पुनरावृति से बने बहुलक को यौगात्मक बहुलक कहते है।
  • इन बहुलकों के बनने पर अन्य छोटे अणु जैसे जल , HCl , एल्कोहल (OH) आदि बाहर नहीं निकलते
  • इन्हे श्रृंखला वृद्धि बहुलक भी कहते है।

नोट : जब कोई बहुलक एक ही प्रकार के एकलक के अणुओं से मिलकर बना होता है तो उसे समबहुलक कहते है , परन्तु यह अलग अलग प्रकार के एकलक के अणुओ से मिलकर बना हो तो उसे सहबहुलक कहते हैं।

उदाहरण : पॉलीथिन
2. संघनन बहुलक :
  • दो या दो से अधिक क्रियात्मक समूह वाले एकलक की पुनरावृति से बने बहुलक को संघनन बहुलक कहते है।
  • इन बहुलकों के बनने पर जल , HCl , OH आदि छोटे अणु बाहर निकलते है।
  • इन्हे पदश:वृद्धि बहुलक भी कहते है क्यूँकि प्रत्येक पद में एक नया उत्पाद बनता है तथा छोटे अणु बाहर निकलते है।

उदाहरण : नायलॉन-6,6