स्टीव इरविन Steve Irwin in hindi

By  

Steve Irwin in hindi (स्टीव इरविन) : आज हम जिनके बारे में पढने जा रहे है वे बहुत ही खास है और आज इन खास शख्स का जन्मदिन है इसलिए गूगल ने अपने डूडल पर इन्हें श्रीधांजलि के स्वरूप जगह दी है और दुनिया को इस खास आदमी के बारे में और इनके खास रुचिकर कार्य को बताया है।

आज गूगल पर जिनका डूडल लगाया गया है उनका नाम है स्टीव इरविन है , ये ऑस्ट्रेलिया के प्रयावरणविद है अर्थात पर्यावरण के लिए काम करने वाले थे और स्टीव मगरमच्छ पकड़ने में बहुत ही अधिक एक्सपर्ट थे और इसिलए ही स्टीव इरविन का दूसरा नाम मगरमच्छ शिकारी (मगरमच्छ हंटर) था।

हमारी टीवी पर आने वाले पर्यावरण से सम्बंधित चैनल जैसे डिस्कवरी आदि में छाये रहने वाले स्टीव इरविन एक बहुत ही अच्छे मगरमच्छ पकड़ने वाले थे तथा ये पर्यावरण से बहुत अधिक प्रेम करते है इसलिए वे लोगो की जानवरों और जंगल में रहने वाले जंतुओं के प्रति लोगो का नजरियाँ बदलने का प्रयास करते थे और यह भी प्रयास करते थे कि लोग इन जानवरों को प्रेम करे इसलिए वे जंगल में अपना समय बिताते थे और इन्हें यह करते हुए विभिन्न चैनेल दिखाते थे जिससे लोगो का इन जानवरों के प्रति कुछ हद तक नजरियाँ बदला जो वे चाहते थे।

वे जंगल में रहते हुए अधिकतर सांपो पर या मगरमच्छो पर विभिन्न प्रकार की फिल्म बनाते थे और इन्हें टीवी दिखाते थे , इनके इन फिल्मो में इनके जंतुओं के प्रति प्रेम को देखा जा सकता था।

जब एक बार में समुद्र के अन्दर बड़े बड़े मगरमच्छ को काबू करने का प्रयास कर रहे थे या अपने ऐसे किसी कार्य के दौरान इस समुद्र में स्टीव को एक जहरीली मछली ने काट लिया जिससे इनकी मौत हो गयी , हालाँकि इनके साथ वाले लोगो ने इनको बचाने का पूरा प्रयास किया इसके लिए इनके साथ वाले लोगो ने इनको तुरंत हवाई जहाज का इस्तेमाल करके इनको पास वाले एक हॉस्पिटल में भर्ती के लिए ले गए लेकिन इससे पहले कि इनका इलाज शुरू होता उससे पहले ही उन्होंने दम तोड़ दिया और इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया , लोग यह दुखद खबर सुनकर बहुत ही दुखी थे और उतने ही अचरज में थे कि बड़े बड़े मगरमच्छो में अकेले काबू करने वाले स्टीव इरविन एक छोटी सी मछली के काटने से हम सबको छोड़कर चले गए।

उनके साथ यह घटना ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में ग्रेट बैरियर रिक नामक जगह पर हुई , जब डॉक्टर को इस घटना के बारे में विस्तार से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि स्टीव की मौत समुद्र में रहने वाली एक जहरीली मछली के डंक के कारण हुई यह जहरीली मछली स्टिंगरे के कारण हुई , इस मछली के काटने के बाद इनके साथियों को इसकी खबर न थी लेकिन स्टीव बेहोश हो गए जिससे इनके साथियों ने इन्हें तुरंत अस्पताल में ले जाना उचित समझा लेकिन हॉस्पिटल में इनका इलाज होने से पूर्व ही इनकी मौत हो गयी।

स्टीव इरविन ने क्वींसलैंड नामक जगह पर एक जीवो के लिए एक पार्क खोला था जो बाद में क्वींसलैंड चिड़ियाघर के रूप में बदल गया और इसे अब क्वींसलैंड चिड़ियाघर कहा जाता है जहाँ विभिन्न प्रकार के जीव जंतु रखे जाते है और इनका ध्यान और विभिन्न प्रकार के अध्ययन और इनकी दैनिक चर्या आदि देखा जाता है ताकि लोग इनके बारे में और अधिक जाने और इनसे प्रेम करे जैसा कि स्टीव चाहते थे।

स्टीव इरविन की एक पत्नी और दो बच्चे थे , जब उनकी मौत हुई दोनों बच्चे छोटे थे , एक दिन एक अजगर के पाले में इन्होने अपने छोटे बच्चे को फेंक दिया था उस समय फिल्म शूट हो रही थी और इनकी मौत के बाद जब लोगो को इस बात का पता चला तो लोगों को इनको खूब लताड़ा क्यूंकि कोई अपने छोटे से बच्चे को इतने खतरनाक अजगर के बाड़े में कैसे फेंक सकता था।

उनकी मौत पर ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री ने दुःख व्यक्त किया और उनको श्रीधांजलि अर्पित की और कहा कि इनके कारण ऑस्ट्रेलिया को काफी लोकप्रियता हासिल हुई , इनको और इनके काम को हमेशा याद रखा जायेगा।