उपग्रह की परिभाषा क्या है , प्रकार , प्राकृतिक , कृत्रिम उपग्रह , भूस्थिर , ध्रुवीय उपग्रह (satellite in hindi)

By  

(satellite in hindi) उपग्रह की परिभाषा क्या है , प्रकार , प्राकृतिक , कृत्रिम उपग्रह , भूस्थिर , ध्रुवीय उपग्रह : जब कही एक जगह से दूसरी जगह जा रहे हो और आपको दिशा अर्थात मार्ग का पता नही होता है है जरुरत अपने मार्ग दिशा जानने के लिए जीपीएस अवश्य काम में लिया होगा , क्या आपको पता है कि जीपीएस को आपकी वर्तमान स्थिति व रास्ते का ज्ञान कैसे है और वह कहा से आ रहा है ?

जीपीएस सिस्टम उपग्रह द्वारा संकेत या सूचनाएँ प्राप्त करता है और उस सूचना को आप तक भेजता है , इसी प्रकार उपग्रह और भी कई महत्वपूर्ण कार्य करते है जिससे हमारा जीवन सुविधाजनक बनता है इनका अध्ययन हम आगे करेंगे।

उपग्रह की परिभाषा क्या है : वे पिण्ड जो गुरुत्वाकर्षण बल के प्रभाव में ग्रह के चारों तरफ चक्कर लगाते रहते है या परिक्रमण करते रहते है , ये पिण्ड प्राकृतिक भी हो सकते है या कृत्रिम भी।

उपग्रह दो प्रकार के होते है –

1. प्राकृतिक उपग्रह (natural satellites)

2. कृत्रिम उपग्रह (artificial satellite)

अब हम उपग्रहों के इन दोनों प्रकार को विस्तार से अध्ययन करते है।

1. प्राकृतिक उपग्रह (natural satellites)

वे पिण्ड जो प्रकृति द्वारा निर्मित होते है और ग्रहों के चारों ओर परिक्रमा करते रहते है , उन्हें प्राकृतिक उपग्रह कहते है।  उदाहरण – चन्द्रमा पृथ्वी का प्राकृतिक उपग्रह है।
सौर मण्डल में लगभग 173 प्राकृतिक उपग्रह ज्ञात है , पृथ्वी की तरह अन्य ग्रह पर भी चन्द्रमा होता है लेकिन कुछ चन्द्रमा होते है जो आकार में बड़े होते है और गोल होते है। जिस प्रकार पृथ्वी पर एक चन्द्रमा है उसी प्रकार मंगल ग्रह पर दो चन्द्रमा है , बृहस्पति पर चार , शनि पर नौ , अरुण पर छ: तथा नेपच्यून पर तीन चन्द्रमा होते है। यूरोपा नामक चन्द्रमा बृहस्पति के चारों ओर परिक्रमा करता है और टाइटन नामक चन्द्रमा शनि ग्रह के चारों ओर परिक्रमा करता रहता है।

2. कृत्रिम उपग्रह (artificial satellite)

वे पिण्ड जो मानव निर्मित है और ग्रहों के चारों ओर परिक्रमा करते रहते है उन्हें कृत्रिम उपग्रह कहते है। उदाहरण – आर्यभट्ट , रोहिणी आदि।
विश्व का सबसे पहला कृत्रिम उपग्रह कौनसा था ?
दुनिया का सबसे पहला कृत्रिम उपग्रह स्पुतनिक 1 (Sputnik 1) था जिसे 1957 में सोवियत संघ द्वारा प्रक्षेपित किया गया था।
उसके बाद सैकड़ो उपग्रह भेजे गये जो विभिन्न ग्रहों के चारों ओर परिक्रमा कर रहे है। भारत ने 1980 में रोहिणी नामक उपग्रह भेजा था तथा 1975 में आर्यभट्ट नामक उपग्रह।