तापमापी : पारे का तापमापी क्या है , परिभाषा , सिद्धांत , सूत्र , चित्र , क्रियाविधि (mercury thermometer in hindi)

(mercury thermometer in hindi) तापमापी : पारे का तापमापी क्या है , परिभाषा , सिद्धांत , सूत्र , चित्र , क्रियाविधि : सबसे पहले हम बात करते है कि तापमापी अर्थात थर्मोमीटर क्या होता है और इसको किस प्रकार से परिभाषित कर सकते है –

तापमापी (thermometer) : वह यन्त्र जिसका प्रयोग ताप के मापन के लिए किया जाता है उसे ताप मापी कहते है , अर्थात किसी वस्तु का तापमान ज्ञात करने के लिए तापमापी (थर्मामीटर) का प्रयोग किया जाता है।

ये कई प्रकार के होते है , इसमें सबसे प्रमुख होता है “पारे का तापमापी” , यह प्रमुख इसलिए बताया है क्योंकि इसका उपयोग बहुत अधिक किया जाता है , यह यन्त्र सामान्यता कही पर भी जहाँ ताप मापन किया जाता है वहां देखा जा सकता है जैसे अस्पताल में इत्यादि।

पारे का तापमापी (mercury thermometer in hindi)

इस प्रकार के तापमापी में एक काँच की नली में पारा (मर्करी) भरी जाती है , मरकरी द्रव अवस्था में होता है और इसमें उष्मीय प्रसार का गुण पाया जाता है अर्थात ताप के कारण इसमें प्रसार हो जाता है और ताप का मान जितना अधिक होता है पारा (मर्करी) उतना ही अधिक प्रसारित होता है , पारे के प्रसार के आधार पर ही ताप के मान को ज्ञात किया जाता है।

पारे के तापमापी का उपयोग प्राय: शरीर का , द्रव का तथा वाष्प का ताप ज्ञात करने में किया जाता है।

इस थर्मोमीटर का प्रयोग सामान्यतया घरो में , प्रयोगशालाओं में तथा औद्योगिक अनुप्रयोग के रूप में किया जाता है।

पारे को कांच की नली में भरकर इस पर मानक पैमाना लिखा जाता है , इस पैमाने को पढ़कर ही ताप को पढ़ लिया जाता है , इसमें शून्य से लेकर 100 सेल्सियस तक पैमाना लिखा रहता है , ताप के कारण जब पारा प्रसारित होता है तो प्रसारित होने के बाद पारे को पैमाने पर देखा जाता है और ताप को पढ़ा जाता है।

तापमापी में पारा (मर्करी) का उपयोग क्यों किया जाता है

तापमापी में अन्य किसी द्रव की जगह केवल पारे को अधिक महत्व दिया जाता है और इसे ही इस्तेमाल किया जाता है इसका कारण यह है कि इसमें ऊष्मा के कारण प्रसार एक समान और अधिक होता है साथ ही यह ऊष्मा का अच्छा चालक भी है , यह एक अपारदर्शी पदार्थ है और यह कांच की नली के भी नहीं चिपकता है , ये ही कारण होते है कि तापमापी में पारे का उपयोग किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *