Geology

मैग्मा Magma in hindi , Igneous rocks आग्नेय शैल

Igneous rocks : आग्नेय शैल मैग्मा के ठंडे होने व जमने से बनती है।  इन शैलों के खनिज अवयवो में सिलिकेट प्रमुख है।

इनमे भी क्वार्ट्ज , फेल्सपार , फेल्सपैयाइड , पाईराक्सिन , एम्फिबोल अभ्रक , जिओलाईट , क्लोराईट , ओलिविन इत्यादि प्रमुख सिलिकेट है।

आग्नेय शैल मैग्मा से बनने वाली शैल है।  भू पृष्ठ के अन्दर गहराई पर मैग्मा से निर्मित होने वाले आग्नेय शैलो को अंतर्वेधी आग्नेय शैल कहते है व मैग्मा के भूसतह पर उद्गार के फलस्वरूप बने लावा के संघनन पर निर्मित आग्नेय शैलो को बर्हिवेर्धि शैल कहते है।

Origin of Igneous rocks

आग्नेय शैल मैग्मा के जमने से निर्मित होती है अत: मैग्मा की उत्पत्ति ही आग्नेय शैल की उत्पत्ति होगी।
Magma 
Definition  : मैग्मा एक गर्म थिक व स्टीकी , सिलिसियस पदार्थ है जो जलीय वाष्प व गैसें रखता है।  यह बहुत अधिक गहराइयो से भूपर्पटी पर आता है।  इसमें मुख्यत: O , Si , Al , Fe , Ca  , Mg , Na और R होते है।
जब मैग्मा पृथ्वी की सतह पर आता है तो इसकी गैसे निकल जाती है।  ऐसे मैग्मा को “लावा” कहते है।
Generation :
मैग्मा जेनरेसन के लिए निम्न कारक कारगर है –
  • sunlight
  • geo thermal gradient (T and P)
  • Radioactivity
  • sudden pressure release
  • water

ये सभी कारक एक साथ कार्य करते है।  इनसे किसी प्लेट पर इतना ताप व दाब उत्पन्न हो जाता है जो उस प्लेट को liquid state में बदल देती है।  प्लेटों को द्रवीकृत होने के लिए लगभग 900 डिग्री C – 1600′ C ताप की आवश्यकता होती है।

भू सतह से गहराई पर जाने पर 30 डिग्री प्रति किलोमीटर ताप व 35Kb/KM दाब बढ़ता है।  लेकिन जैसे जैसे गहराई पर जाते है रेडियो सक्रियता के कारण अचानक दाब लगने आदि के कारण ताप अधिक बढ़ता है अत: मैग्मा का निर्माण अधिकतर अर्भ-क्रस्ट में ही होता है।
Accent of magma 
मैग्मा के ऊपर आने के लिए अधिक दाब व उर्जा की आवश्यकता होती है।  मैग्मा निम्न मुख्य कारको से ऊपर आ सकता है।
squeezing (दबाना)
volume expansion(आयतन बढ़ना)
boyency rise (उत्पलावन बल)
sudden presser release
जब मैग्मा निर्मित हो जाता है तो उसकी ऊर्जा बहुत अधिक हो जाती है यह ऊर्जा ऊपर वाली या अपने निकट की प्लेटों पर दबाव डालती है या अचानक प्रेसर रिलीज होने से आयतन एक्सपोज हो जाता है और निकटवर्ती प्लेटों में क्रेक उत्पन्न हो जाते है जिससे मैग्मा ऊपर आने लगता है या जब मैग्मा का घनत्व अन्य निकटवर्ती प्लेटों से कम होता है तो उत्पलावन के कारण भी मैग्मा ऊपर आने लगता है।  इस प्रकार मैग्मा के ऊपर आने के लिए ये चारो अलग अलग या एक साथ कार्य कर सकते है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close