बुक्स ऑफ एकाउंट्स क्या है टैली में | books of accounts in tally in hindi फाइनल एकाउंट्स किसे कहते है

By  

books of accounts in tally in hindi बुक्स ऑफ एकाउंट्स क्या है टैली में फाइनल एकाउंट्स किसे कहते है परिभाषा बताइये ?

रिपोर्ट प्रिंटिंग
वाउचर्स एंटर करने के बाद आप किसी की रिपोर्ट के प्रिंट भी निकाल सकते हैं। अंतिम वाउचर एंटर करने के साथ आप किसी भी समय अपडेटिड रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं। प्रिंटिंग के लिए ।सज़च् दबाएँ।
प्रिंटिंग डायलॉग
प्रिंटिंग डायलॉग को तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है
1. प्रिंटिंग डायलॉग स्क्रीन के ऊपरी हिस्से में जनरल प्रिंटिंग विकल्प होते है।
2. उसके मध्य हिस्से में रिपोर्ट के टाइटल और अन्य सूचनाएँ होती हैं।
3. तीसरे भाग में करंट रिपोर्ट के विकल्प देख सकते हैं।
प्रिंटिंग डायलॉग के बटन
क्रमवार रिपोर्ट प्रिंटिंग विकल्प को सेट करें तथा रिपोर्ट प्रिंट करें। प्रिंटिंग विकल्प को सेट करने में रिपोर्ट प्रिंटिंग के दाएँ भाग के बटनों की मदद लें।
पेज नंबर सेटिंग
पेज नंबर की शुरुआत : मेंशन की गई जगह पर पेज नंबर लिखकर शुरुआत करें।
पेज रेंज
पेज की रेंज रिपोर्ट के कुछ निश्चित किए गए पेजों के प्रिंट निकालने के लिए एंटर की जाती है। इसके अलावा पूरी रिपोर्ट प्रिंट करने के लिए ।सस सिलेक्ट कर सकते हैं, जो टैली में डिफॉल्ट सेट होती है। प्रिंट फॉरमैट

निम्नलिखित विवरण सेट करने के लिए प्रिंट फॉरमैट थ् बटन पर क्लिक करें।
1. नॉन इंपेक्ट प्रिंटर : इसके लिए नोट मोड सिलेक्ट करें।
2. डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर : इससे प्रिंट करने के लिए डॉट मैट्रिक फॉरमैट सिलेक्ट करें। उसके बाद डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर ड्राइवर सही तरीके से सिलेक्ट करें।
मीडिया में रिपोर्ट डेटा सेव करने या फास्ट प्रिंटिंग करने के लिए ुनपबाध् कतंजि सिलेक्ट करें तथा सेव करने के लिए फाइल नेम एंटर करें।
नंबर ऑफ कॉपीज
रिपोर्ट की ज्यादा कॉपी प्रिंट करने के लिए c:copies बटन सिलेक्ट करें तथा सेव करने के लिए फाइल नेम एंटर करें। सामान्यतः यह 1 कॉपी के
प्रिंटर सिलेक्शन
अन्य प्रिंटर सिलेक्ट करने के लिए s: select printer का बटन दबाएँ तथा प्रिंटरों की सूची में से प्रिंटर सिलेक्ट करें।
रिपोर्ट टाइटल
रिपोर्ट टाइटल के लिए जपजसम बटन पर क्लिक करें तथा निम्नलिखित पॉइंट सेट करें
1. टाइटल : करेंट रिपोर्ट के लिए टैली एक स्टैंडर्ड रिपोर्ट टाइटल डिस्प्ले करता है, जिसे इच्छानुसार बदल सकते हैं।
2. सब-टाइटल : प्रिंटिंग के लिए टाइटल के ठीक नीचे वाली सबटाइटल लाइन पर एंटर करें।
3. एडीशनल इन्फॉर्मेशन : रिपोर्ट टाइटल पर आवश्यक सिलेक्टेड प्रिंट करने के लिए Yes’ या ‘No’ करें।
स्क्रीन पर रिपोर्ट प्रिव्यू
प्रिंटिंग रिपोर्ट का Print Preview देखने के लिए Print Preview command का प्रयोग किया जाता है। डिस्प्ले प्रिव्यू साइज को छोटे या बड़े रूप में देखने के लिए स्क्रीन के बटन को क्लिक करें।
बुक्स ऑफ एकाउंट्स
टैली में कई प्रकार की एकाउंट्स बुक्स हो सकती हैं
1. डे बुक।
2. कैश बुक।
कैश बुक समय की समाप्ति पर खाते के शुरुआती और अंतिम बैलेंस के विवरण को दरशाती है। इसमें सभी प्रकार की प्राप्तियों तथा भुगतानों का ब्योरा होता है।
Gateway fo Tally > Display > Accounts Books > Csa/Bank Book
जर्नल
टैली में जर्नल बुक का प्रयोग कैश/बैंक बुक में मेन्शन किए जानेवाले सभी लेन-देनों के अलावा Transactions को दर्ज करने के लिए किया जाता है।
Gateway fo Tally > Display > Accounts Books > Journal Register
जर्नल बुक में दर्ज किए जानेवाली कुछ एंट्रीङ्त
1. खरीद बुक।
2. खरीद वापसी बुक।
3. बिक्री बुक।
4. बिक्री वापसी बुक।
5. प्राप्य बिल बुक।
6. देय बिल बुक।
7. जर्नल प्रोपर।
8. लैजर बुक।
Gateway fo Tally > Display > Accounts Books > Ledger > All Accounts
फाइनल एकाउंट्स
बैलेंस शीट : बैलेंस शीट सभी एसेट्स तथा लायबिलिटीज को दरशानेवाली विशेष फाइनेंशियल स्टेटमेंट है। बैलेंस शीट स्क्रीन के लिए गेटवे से बैलेंस शीट सिलेक्ट करें तथा क्मजंपसमक फॉरमेट प्राप्त करने के लिए F1 : Detailed button प्रेस करें तथा प्रिंट के लिए Alt के साथ P Key दबाएँ।
बैंलेस शीट का कन्फिगरेशन
बैलेंस शीट की कन्फिगरेशन स्क्रीन ओपन करने के लिए बैलेंस शीट पर F12 प्रेस करें तथा आवश्यकतानुसार ऑप्शन सेट करें।
वर्टिकल बैलेंस शीट
वर्टिकल बैलेंस शीट के लिए कन्फिगरेशन स्क्रीन में Sow Vertical Balance Seet पर Yes करें। इसमें सभी फंड के सोर्सेस और एप्लीकेशन के फिगर्स भी डिस्प्ले होते हैं।
लाभ-हानि खाता (Profit and Loss Account)
प्रॉफिट एंड लॉस एकाउंट एक निश्चित समय के ऑपरेशनल रिजल्ट को डिस्प्ले करता है। यह एकाउंट व्यवसायों के नेट फिगर तथा नेट प्रॉफिट व लॉस को दरशाता है।
प्रॉफिट व लॉस एकाउंट देखने के लिए गेटवे पर च्तवपिज ंदक स्वे ।बबवनदज सिलेक्ट करें तथा पूरी जानकारी के लिए Fl:Detailed Button पर क्लिक करें। प्रॉफिट व लॉस कन्फिगरेशन के लिए F12 : Configure पर क्लिक करें।
बैलेंस शीट तथा लाभ-हानि खातों के अलावा अन्य प्रकार की रिपोर्टों को देखने के लिए गेटवे मेन्यू से display ऑप्शन को सिलेक्ट करके आवश्यक रिपोर्ट को चुनें और देखें।
टैली से बाहर निकलना
टैली पर कार्य समाप्त होने के बाद टैली से बाहर आने के लिए गेटवे मेन्यू में फनपज ऑप्शन को क्लिक करें या बटन को प्रेस करें। यदि आप टैली की किसी अन्य स्क्रीन पर हैं तो फ बटन दबाकर टैली के गेटवे मेन्यू पर आ सकते हैं तथा फ दबाकर टैली से proper बाहर निकल सकते हैं।

पेजमेकर
पेजमेकर का वर्तमान वर्जन 7.0 नौ जुलाई, 2007 को रिलीज हुआ। हालाँकि पेजमेकर में कई पावरफुल वर्ड प्रोसेसिंग और ग्राफिक्स फीचर हैं, लेकिन इसकी विशेषता टेक्स्ट और आर्ट को जोड़ने की है। पेजमेकर पब्लिकेशन कार्य में बहुत ही उपयोगी है।
पेजमेकर की स्क्रीन
पेजमेकर की स्क्रीन में टूल बॉक्स के साथ ही अन्य टूल्स, जैसे एलर्स, गाइड और पैलेट्स की सुविधा भी मिलती है। इसकी मदद से आप मनवांछित रूप से अपना पेज सेट कर सकते हैं।
1. Rulers : स्क्रीन में टॉप पर और स्क्रीन के बाएँ किनारे की ओर होता है। इसका प्रयोग गाइड लाइनों के साथ पेज पर डिजाइन का फ्रेम बनाने के लिए किया जाता है।
2. Guides : रूलर से बाहर खींचे जाते हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार कई क्षैतिज और लंबवत् गाइडस सेट कर सकते हैं।
3. Styles Palette : उस कमांड में परिवर्तन करता रहता है, जो स्टाइल क्रिएट करने, एडिट करने और एप्लाई करने के लिए दी जाती है।
4. Controll Palette : अपने फीचर में परिवर्तन करता रहता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि क्या चीज सेलेक्ट की गई है। सभी उपलब्ध कमांड, जो उस चीज को प्रभावित करती हैं, पैलेट में पाई जाती हैं।
5. Colour Palette : उन कमांड को व्यवस्थित करती है, जो कलर क्रिएट करने, एडिट करने और एप्लाई करने के लिए दी जाती हैं।
6. डेंजमत च्ंहमे च्ंसमजजम : उन कमांड को व्यवस्थित करती है, जो मास्टर पेज और उनकी संघटक क्रिएट करने, एडिट करने और एप्लाई करने के लिए दी जाती हैं।
7. Layers Palette : उन कमांड को व्यवस्थित करती है, जो लेयर क्रिएट करने, एडिट करने और एप्लाई करने के लिए दी जाती हैं।
टूलबॉक्स
पेजमेकर के टूलबॉक्स में वे सारे टूल्स होते हैं, जो पेजमेकर में इस्तेमाल होते हैं।
यदि टूलबॉक्स स्क्रीन पर दिखाई न दे रहा हो तो निम्न स्टेप से उसे लेकर आएँरू
1. Window पर क्लिक करें, विंडो मेन्यू खुल जाएगा।
2. Sow Tool में क्लिक करें।
टूलबॉक्स आपकी डॉक्यूमेंट विंडो के सामने प्रदर्शित होने लगेगा। यदि आप टूलबॉक्स को छिपाना चाहते हैं तो निम्न स्टेप अपनाएँः
1. Window पर क्लिक करें, विंडो मेन्यू खुल जाएगा।
2. Hide Tool में क्लिक करें।
रूलर्स दिखाना
पेजमेकर में रूलर्स के कई काम हैं। वे डॉक्यूमेंट में किसी ऑब्जेक्ट की स्थिति और आकार दरशाते हैं। रूलर्स चयनित मेजरमेंट सिस्टम की यूनिट भी दरशाते हैं।
रुलर को देखने के लिएः
1. View पर क्लिक करें, व्यू मेन्यू खुल जाएगा।
2. Sow Rulers पर क्लिक करें।
रूलर्स डॉक्यूमेंट के ऊपर और बाईं ओर दिखने लगेंगे।
रुलर छिपाने के लिए करें :
1. View पर क्लिक करें, व्यू मेन्यू खुल जाएगा।
2. Hide Rulers पर क्लिक करें, रुलर्स छिप जाएँगे।
कंट्रोल पैलेट में काम करना
कंट्रोल पैलेट फीचर आपके द्वारा लेआउट में सेलेक्ट ऑब्जेक्ट के हिसाब से बदलते रहते हैं। यदि आपने अपने प्वॉइंटर से टेक्स्ट सेलेक्ट कर रखा है तो कंट्रोल पैलेट आपको टेक्स्ट ऑब्जेक्ट को एक यूनिट की तरह मूव करने, रिसाइज, फिलप, स्केव या रोटेट करने के कंट्रोल उपलब्ध कराती है। कंट्रोल पैलेट देखने के लिए
1. विंडो पर क्लिक करें, विंडो मेन्यू खुल जाएगा।
2. Sow Control Palette पर क्लिक करें, कंट्रोल पैलेट खुल जाएगी।
टेक्स्ट डालना
पेजमेकर का मुख्य कार्य और क्षमता इसकी टाइप को एडिट और मेनीपुलेट करने की होती है। हालाँकि आप अपना अधिकांश टेक्स्ट स्टैंडर्ड वर्ड प्रोसेसिंग प्रोग्रामों में जेनरेट कर सकते हैं, लेकिन पेजमेकर आपको इसके लिए पावरफुल टेक्स्ट मेनीपुलेशन टूल्स उपलब्ध कराएगा। पेजमेकर में टेक्स्ट फारमेशन के लिए जरूरी सभी चीजें उपलब्ध रहती हैं, जैसे कि फोंट, साइज, कलर, लीडिंग, पैराग्राफ इंडेंट आदि। हेडलाइन में कॉलम का पूरा स्पेस भरने के लिए आप कैरेक्टर की विड्थ में भी परिवर्तन कर सकते हैं। आप किन्हीं दो खास कैरेक्टर के बीच में या पूरे टेक्स्ट की रेंज के स्पेस में परिवर्तन कर सकते हैं।
टेक्स्ट टूल
पेजमेकर का टेक्स्ट टूल नए टेक्स्ट एरिया को क्रिएट करने, टेक्स्ट को सेलेक्ट करने और इंसरशन प्वॉइंट को मूव करने के लिए प्रयोग किया जाता है। पेजमेकर में टेक्स्ट या तो टेक्स्ट ब्लॉक के अंदर रहता है या फिर ऐसे फ्रेम में रहता है, जो टेक्स्ट ब्लॉक की तरह इस्तेमाल किया जा रहा हो। टेक्स्ट ब्लॉक क्रिएट करने के लिए टेक्स्ट टूल का प्रयोग करें।
टेक्स्ट ब्लॉक्स बनाना
पेजमेकर में टेक्स्ट क्रिएट करने से पहले टेक्स्ट ब्लॉक को क्रिएट करें :
1. टूल बॉक्स में ज्मगज टूल पर क्लिक करें या फिर Sift Alt F1  को एक साथ दबाएँ।
2. पेस्टबोर्ड पर क्लिक करें, तिरछा खींचें, ताकि एक टेक्स्ट ब्लॉक बन जाए। जैसे ही आप खींचते हैं, आप देखेंगे कि एक चौकोर आकृति स्क्रीन पर उभर आएगी। ये टेक्स्ट ब्लॉक की सीमाएँ दरशाती है।
3. माउस बटन को छोड़ दीजिए। एक कर्सर नजर आने लगेगा।
4. अपना टेक्स्ट टाइप करिए।
इस समय आप टेक्स्ट टाइप कर सकते हैं। यदि आप कहीं और क्लिक करेंगे या फिर टूल चेंज करेंगे तो यह टेक्स्ट ब्लॉक अपने आप खत्म हो जाएगा। पेजमेकर खाली टेक्स्ट ब्लॉक्स को अपने आप समाप्त कर देता है।
टेक्स्ट को प्लेस करना
आप पेजमेकर डॉक्यूमेंट में किसी और सॉफ्टवेयर प्रोग्राम, जैसे एम.एस. वर्ड से भी टेक्स्ट इनसर्ट कर सकते हैं :
1. File पर क्लिक करें, थ्पसम मेन्यू खुल जाएगा।
2. Place पर क्लिक करें, Place डायलॉग बॉक्स खुल जाएगा।
3. अब उस डॉक्यूमेंट को खोजें और उसे सेलेक्ट कीजिए, जिसका कंटेंट आपको प्लेस करना है।
4. Open पर क्लिक करिए। माउस प्वॉइंटर भरे हुए टेक्स्ट के आइकोन में बदल जाएगा।
5. एक टेक्स्ट ब्लॉक क्रिएट कीजिए या फिर पेज या कॉलम के ऊपर बाएँ हिस्से पर क्लिक करिए। टेक्स्ट आपके पेज पर प्लेस हो जाएगा।
टेक्स्ट को फ्रेम में डालना
स्टोरी को व्यवस्थित करने के लिए टेक्स्ट ब्लॉक के साथ-साथ आप फ्रेम का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। फ्रेम टूल आम ड्राइंग टूल्स जैसा ही दिखता है, सिवाय इसके कि इनमें एक्स (ग) बना होता है।
1. टूल बॉक्स में फेम टूल पर क्लिक करें।
2. पेजमेकर के फ्रेम टूल्स में से किसी एक की सहायता से कोई फ्रेम बनाएँ। ,चौकोर, अंडाकार या षटभुज आकृति, जिसके अंदर एक्स बना हुआ है।
यह तय करिए कि ऑब्जेक्ट सेलेक्ट रहे।
3. File पर क्लिक करिए, File मेन्यू खुल जाएगा।
4. Place पर क्लिक करें, Place डायलॉग बॉक्स खुल जाएगा।
5. उस डाक्यूमेंट को ढूंढ़िए और उसे सेलेक्ट करिए, जिसका टेक्स्ट आप प्लेस करना चाहते हैं।
6. Open पर क्लिक करिए। माउस प्वॉइंटर लोडेड टेक्स्ट आइकॉन में बदल जाएगा।
7. फेरम पर क्लिक करिए। टेक्स्ट फ्रेम में आ जाएगा। स्पेलिंग चेक करना
पेजमेकर का स्पेलिंग
टूल्स लगभग वैसा ही है जैसा कि ज्यादातर वर्ड प्रोसेसिंग प्रोग्रामों में होता है। इसमें मुख्य अंतर यह जानना है कि मेन्यू प्रदर्शित करने के लिए स्पेलिंग कमांड कैसे दी जाए।
स्पेलिंग चेक करना
1. उस टेक्स्ट ब्लॉक पर क्लिक करिए, जिसकी स्पेलिंग आप चेक करना चाहते हैं।
2. Edit पर क्लिक करिए।
3. Edit Story पर क्लिक करिए।
उस टेक्स्ट ब्लॉक के लिए स्टोरी एडिटर विंडो खुल जाएगा।
4. Utilities पर क्लिक करिए।
5. Spelling पर क्लिक करिए।
Spelling डायलॉग बॉक्स खुल जाएगा।
6. Start पर क्लिक करिए।
स्पेल चेकर उस पहले शब्द को खोजेगा, जिसकी स्पेलिंग गलत होगी।
7. नीचे की लिस्ट बॉक्स में सुझाई गई सही स्पेलिंगों में से चाही गई सही स्पेलिंग पर क्लिक करिए।
8. Replace कर क्लिक करिए।
टेक्स्ट में मौजूद शब्द इस सही शब्द से बदल जाएगा और स्पेल चेकर दूसरा गलत शब्द खोजकर सामने लाएगा।
9. जब तक टेक्स्ट के प्रत्येक शब्द की स्पेलिंग सही न हो जाए तब तक इन स्टेप्स को दोहराते रहिए। जब तक ‘स्पेलिंग चेक कंप्लीटश् का मैसेज सामने न आ जाए।
10. Spelling डायलॉग बॉक्स को क्लोज कर दीजिए।
11. Story editor विंडो को भी क्लोज कर दीजिए।