Basic Terminology of C language in hindi c कंप्यूटर भाषा में सामान्य शब्दावली , शब्द का मतलब

By  

कंप्यूटर भाषा में सामान्य शब्दावली , शब्द का मतलब Basic Terminology of C language in hindi :-

BASIC STRUTURE OF C LANGUAGE : C प्रोग्राम बहुत सारे BULIDING BLOCK का समूह होता है|इन BUILDING BLOCK को FUNCTION कहते है|

FUNCTION दो या दो से अधिक STATEMENTS का समूह होता है जिससे कोई SPECIFIC कार्य कर सकते है|C PROGRAM को बनाने के LIYE सबसे पहले इन FUNCTION को SET करना पड़ता है और उन्हें जोड़ा जाता है|

DOCUMENTATION SECTION : इस SECTION में प्रोग्राम की COMMENT LINES लिखी जाती है |जैसे प्रोग्राम का नाम ,PROGRAMMER का नाम ,DATE,TIME और PLACE|

LINK SECTION : LINK SECTION COMPLIER को FUNCTION से लिंक करता है जिनकी PROGRAMME में आवश्कता होती है|इसमें SYSTEM LIBARRY मई रखे फंक्शन को लिंक करना मुख्य होता है |

DEFINITION SECTION : इस SECTION में सभी CONSTANT को DEFINE कित्य जाता है |

GLOBAL DECLARATION SECTION : कुछ FUNCTION में VARIABLE दो या दो आधिक FUNCTION में उसे होता है |उन VARIABLE को GLOBAL VARIABLE कहते है|इस SECTION में GLOBAL VARIABLE को DEFINE किया जता है |और इस FUNCTION में सभी USER DEFINE FUNCTION को DEFINE किया जाता है |

MAIN () SECTION : सभी C PROGRAM एक MAIN FUNCTION होता है |इस FUNCTION में दो SUB SECTION होते है |

DECLARTION SECTION: इस SECTION में सभी VARIABLE ,CONSTANT जो उस FUNCTION में यूज़ होते है को DECLARE किया जाता है|

EXECUTION SECTION : इस SECTION में PROGRAME का LOGIC को DEFINE किया जता है |किसी प्रोग्राम में इस SECTION में एक लाइन जरुर होनी चहिये|दोनों सेक्शन {} मई CLOSE होता है |

SUB FUNCTION SECTION : इस SECTION में सभी SUB FUCTION को डिफाइन किया जाता है जिसे पुरे प्रोग्राम में कभी भी यूज़ किया जा सकता है |

उदहारण के लिए : // Program Name : hello word print , Date : 21/12/2018 , // Declartion section // Location : Jaipur // #include // link sectoion // #define pi=22.7 // defination section // main () { int a=45; //declartion section // //printing begins // printf(“hello world”); // execution section // printf(“%d”,a); //printing stop // } Print Command : Printf command consol screen पर data को print करने के लिए Predefine फंक्शन है |इसकी header file का नाम conio.h है|Header file computer सिस्टम्स में location का नाम है जहाँ पर predefine function store जोते है | जैसे Math function के लिए Math.h STRING function के लिए String.h PRINT OR SCAN functionके लिए conio.h इन HEADER FILE को #INCLUDE DIRECTIVE से LINK किया जाता है| Print function को उसे करने के लिए syntax नीचे है | printf(“Message that Programmer want to print”); Message जिसे प्रिंट करना है यो हमेशा “” से CLOSE होगा|C language में सभी statements ; से close होते है| उदहारण 1 : #include’ void main() { Printf(“Good morning!”) ; } इस प्रोग्राम मे आउटपुट होगा := Good morning! उदहरण 2 : #include main() { printf(“I am boy,\n And you ?”); } इस प्रोग्राम मे I am boy के बाद backslash constant \n जो की न्यू line मे जाने के लिए होता है use किया गया है | इस प्रोग्राम का आउटपुट होगा := I am boy, And you ? Printf function मे किसी variable को print करने के लिए उनके format specification को define किया जाता है |जैसे integer के %d , float के लिए %f आदि है |इस तरह की printing statementका syntax नीचे है | printf (“format specifier”, variable name ); उदहारण के लिए # include main () { int a=45; printf(“Your roll Number is %d .”,a); } इस उदहारण का आउटपुट होगा = Your roll Number is 45 . Scan Function: complier user के द्वारा दिया गया data को Read इस function से करता है |इसकी header file भी conio.h है| इसका syntax नीचे है | scanf(“control string “,& variable name); syntax मे control string का मतलब है यूजर द्वारा दिए गये data के type से है |variable का नाम जिनके memory address पर data store होगा | &variablename हमेशा variable की address को define करता है | उदहारण : SCANF(“%d”,&a); // combine example of add two digit : #include void main () { int a,b,c; printf(“Your first Input=”); scanf(“%d”,&a); printf(“your second input=”); scanf(“%d”,&b); c=a+b; printf(“Addition Of Input is %d .”,c); } इस प्रोग्राम का आउटपुट होगा = your first input=212 your second input=123 addition Of Input is 345 .