Monthly Archives: November 2017

फास्फोरस पेन्टा क्लोराइड (PCl5) Phosphorus penta chloride

Phosphorus penta chloride फास्फोरस पेन्टा क्लोराइड (PCl5) :  बनाने की विधि : 1. श्वेत फास्फोरस की क्रिया क्लोरीन से करने पर – P4 + 10Cl2 → 4PCl5 2. फास्फोरस की क्रिया सल्फ्यूरिक क्लोराइड से करने पर – P4 + 10SO2Cl2 → 4PCl2 + 10SO2 गुण : 1. यह हल्के पिले रंग का ठोस पदार्थ है। 2. जल से क्रिया PCl5  + 4H2O → 5HCl +… Continue reading »

फास्फीन (PH3) , फास्फोरस ट्राई क्लोराइड (PCl3) बनाने की विधि , गुण , उपयोग

फास्फीन (PH3) (Phosphine) बनाने की विधियां : स्वेत फास्फोरस की क्रिया NaOH के सान्द्र विलयन से करने पर P4 + 3NaOH + 3H2O → PH3 + 3NaH2PO2 कैल्शियम फास्फाइड की क्रिया HCl या H2Oसे करने पर Ca2P2 + 6HCl → 3CaCl2 + 2PH3 Ca3P2 + 6H2O → 3Ca(OH)2 + 2PH3 गुण (properties) : यह रंगहीन सड़ी मछली के समान गंध युक्त अत्यंत विषैली गैस है। यह CuSO4 तथा… Continue reading »

फास्फोरस (P) के अपरूप Phosphorus in hindi

Phosphorus in hindi फास्फोरस (P) के अपरूप : यह निम्न है श्वेत फास्फोरस (White phosphorus): यह श्वेत पारभासी मोम के समान ठोस पदार्थ है इसमें लहसुन जैसी गंध आती है इसे चाकू से आसानी से काटा जा सकता है यह अंधेरे में चमकता है क्योंकि वायु में इसका ऑक्सीकरण हो जाता है ,  ऑक्सीकरण से… Continue reading »

HNO3 नाइट्रिक अम्ल क्रियाएं तथा गुण परिक्षण Nitric acid reactions and properties test

Nitric acid reactions and properties test (HNO3 नाइट्रिक अम्ल क्रियाएं तथा गुण परिक्षण) नोट : Note : N2O5 में N की संयोजकता चार होती है। प्रश्न 1: द्विवयीकृत हो जाता है क्यों ? उत्तर : 2NO2  → N2O4 NO2 में विषम संख्या में इलेक्ट्रॉन होते है यह अधिक स्थायित्व प्राप्त करने के लिए द्वित्यकृत हो जाता है द्विवयीकृत अणु (N2O4) में सम संख्या इलेक्ट्रॉन… Continue reading »

नाइट्रोजन (N2) , (NH3)अमोनिया बनाने की विधि व गुण Nitrogen and Ammonia properties

नाइट्रोजन (N2) (Nitrogen) बनाने की विधि : गुण प्रयोगशाला विधि :      NaNO2 + NH4Cl → NaCl + N2 + 2H2O     2NaN3→ 2Na + 3N2 Ca(N3)2 → Ca + 2N2 अमोनियम डाइक्रोमेट को गर्म करने पर (NH4)2Cr2O7 → N2 + 4H2O + Cr2O3 गुण : यह रंगहीन , गंधहीन,  स्वादहीन अक्रिय गैस है O2 से क्रिया N2  + O2 → 2NO N2+ 3H2 → 2NH3 4 . धातुओं से… Continue reading »

हाइड्रोजन के प्रति क्रियाशीलता Hydrogen Perfection in hindi

Hydrogen Perfection हाइड्रोजन के प्रति क्रियाशीलता : यह सभी तत्व हाइड्रोजन से क्रिया करके EH3 प्रकार के यौगिक बनाते हैं | NH3 अमोनिया PH3  फास्फीन AsH3  आर्सीन SbH3 स्टीबीन BiH3 बिस्मथिन    NH3 के अतिरिक्त सभी गैस विषैली होती हैं E-H की बंध लंबाई बढ़ने पर बंद सुगमता ( आसानी) से टूटता है जिससे हाइड्रोजन… Continue reading »

कुछ प्रश्न उत्तर N2 गैस है जबकि अन्य तत्व ठोस अवस्था में होते हैं क्यों ?

प्रश्न 1 : N2 गैस है जबकि अन्य तत्व ठोस अवस्था में होते हैं क्यों ? उत्तर : N का आकार छोटा होने के कारण यह दूसरे नाइट्रोजन परमाणु से pπ -pπ बंध बना लेता है अर्थार्थ नाइट्रोजन के परमाणुओं के मध्य तीन बंद पाए जाते हैं ,N2 के  अणुओं के मध्य दुर्बल वांडरवाल बल… Continue reading »

15 वर्ग के तत्वों के गुण क्या क्या होते है properties of elements of 15 block

What are the properties of elements of 15 classes 15 वर्ग के तत्वों के गुण क्या क्या होते है पी ब्लॉक एलिमेंट्स : वह तत्व जिनमें आखरी इलेक्ट्रॉन p कक्षक में पाया जाता है उन्हें p खंड के तत्व कहते हैं यह आवर्त सारणी के 13 से लेकर 18 तक के वर्ग में आते हैं इस… Continue reading »

उपसहसंयोजक यौगिक (Coordination Compounds) notes in hindi

12th class chemistry hindi notes उपसहसंयोजक यौगिक (Coordination Compounds) द्विकलवण , संकुल या उपसहसंयोजक यौगिक , Ligand definition लिगेंड का वर्गीकरण   कीलेट  लिगेंड ,समन्वय मंडल , उपसहसंयोजन संख्या , होमोलेप्टिक , हेट्रो लेप्टिक संकुल   उपसहसंयोजक यौगिकों का नामकरण Naming Sub-coordinator compounds   संकुल यौगिकों का सूत्र लिखना Write a formula for package compounds  … Continue reading »

उपसहसंयोजक यौगिकों के गुण तथा उपयोग , स्थायित्व Properties and Uses

Properties and Use of Sub-Covalent Compounds उपसहसंयोजक यौगिकों के गुण तथा उपयोग : औषधि के रूप में (As medicine) : सिस –  प्लेटिनम का उपयोग ट्यूमर के निदान में किया जाता है शरीर में कॉपर की अधिकता को कम करने के लिए d- पेनिसिल एमीन से क्रिया की जाती है लेड ( शीशा) के विषैले… Continue reading »