शीतकालीन अयनांत (Winter Solstice in hindi) , अयनांत शीतकालीन क्या है

By  

(Winter Solstice in hindi) शीतकालीन अयनांत : क्या आप जानते है कि शीतकालीन अयनांत क्या होता है और आज गूगल ने अपने डूडल पर इस Winter Solstice को क्यों लगाया हुआ है।

इसे सर्दी का मध्य भी कहा जाता है अर्थात सर्दियों के दिनों का मध्य का दिन जो इस साल 21 दिसंबर 2018 को आ रहा है , यह दिन वर्ष का सबसे छोटा दिन होता है और दूसरी तरफ इस दिन की रात्री वर्ष की सबसे बड़ी रात्री होती है।

अत: शीतकालीन अयनांत एक खगोलीय घटना है जो हर साल एक दिन होती है और इस बार यह शुक्रवार 21 दिसंबर 2018 को घटित होने जा रही है , यह दिन साल का सबसे छोटा दिन होगा और रात्री साल की सबसे बड़ी होती है।

यह खगोलीय घटना इसलिए होती है क्यूंकि इस समय पृथ्वी के ध्रुवों में से एक ध्रुव सूरज से बहुत अधिक या अधिकतम झुकाव पर स्थित रहता है , यह साल में दो बार होती है और एक गोलार्द्ध में एक बार होती है।

यह शीतकालीन अयनांत उत्तरी गोलार्द्ध में दिसम्बर 21 को देखने को मिलेगी और दक्षिण गोलार्द्ध में यह लगभग जुलाई माह में देखने को मिलेगी।

चूँकि हमारा देश उत्तरी गोलार्द्ध में पड़ता है इसलिए हमारे उत्तरी गोलार्द्ध में यह शीतकालीन अयनांत की खगोलीय घटना आज यानी 21 दिसंबर को होने जा रही है और इसलिए ही गूगल ने इसे यादगार बनाने के लिए अपने डूडल पर इसे स्थान दिया है ताकि हम भी इस खगोलीय घटना के बारे में जाने और अधिक से अधिक जानाकरी प्राप्त करे और यह भी जान पाए कि आज का दिन सबसे छोटा और रात सबसे लम्बी होने वाली है।

इस साल कुछ और खास होने जा रहा है इसलिए यह शीतकालीन अयनांत खास है –

शुक्रवार और शनिवार यानी 21 और 22 तारीख को आसमान में पूरा चाँद दिखने वाला है , अमेरिका के मूल एक खगोलीय ने बताया था कि दिसंबर माह का पूर्ण चाँद यह बताता है कि आज से शर्दी का सबसे ठंडा दिन शुरू है और आज कि रात्री सबसे लम्बी रात्री है और इसलिए पहले इसे लम्बा चाँद की रात नाम दिया गया बाद में इसे शीतकालीन अयनांत नाम दे दिया गया।

इसलिए आप भी इस सर्दी में अच्छे से गर्म कपडे पहन लीजिये और अपनी तबियत का ध्यान रखते हुए इस सर्दी का मजा लीजिये और साथ ही अपने बच्चो को सर्दी के मौसम में बचाकर और ध्यान से रखिये।

सर्दी मुबारक।