विशेषण शब्दों के साथ प्रयुक्त शब्द | उदाहरण और  दृष्टान्त शब्द | कुछ शब्दयुग्म

By  

विशेषण शब्दों के साथ प्रयुक्त शब्द

प्रत्येक भाषा में बहुत बार ऐसा होता देखा जाता है कि कई शब्द विशेष शब्दों के साथ ही प्रयुक्त होते और भिन्न-भिन्न रूपों में रखे जाते हैं। इसके लिए कोई विशेष नियम नहीं होते । बोलचाल में रोज प्रयुक्त होने के कारण वैसा प्रयोग करने की चाल पड़ जाती है । जैसे, आठ-दस दिन में जाऊँगा। सात-आठ कमरे दे दो । इनमें आठ-दस तथा सात-आठ ऐसे ही प्रयोग हैं । इनके स्थान पर सात नौ या सात दस नहीं कहा जा सकता । ऐसे ही चुगली खाना कहा जाता है । चुगली देना नहीं कहा जाता । विद्या में बृहस्पति के समान कहा जाता है, इन्द्र के समान नहीं कहा जाता । इनमें कुछ प्रयोग तो नित्य के व्यवहार में आने से और कुछ जातीय इतिहास की विशेष घटनाओं से बन जाते हैं ।

जैसे   –  अन्धाधुन्ध, अटकल पच्चू, काट-छाँट, खींचातानी, जैसे-तैसे, जोड़-तोड़, दाना-पानी, धूमधाम, मुठभेड़, चमक-दमक, ऐसी तैसी, आगे पीछे आदि ।

ये प्रयोग साहित्य के अध्ययन से ही जाने जा सकते हैं।

कुछ ऐतिहासिक प्रयोग नीचे दिये जाते हैंः-

हम्मीर हठ = अनूठी आन

धन – कुबेर = अत्यधिक धनवान्

राम राज्य = ऐसा राज्य जिसमें बहुत सुख हो

विभीषण = घर का भेदी

नारदमुनि = इधर-उधर की बातें कर कलह कराने वाला व्यक्ति

परशुराम का कोप = अत्यधिक क्रोध

दुर्वासा का शाप = उग्र शाप

कर्ण का दान = महादान

भगीरथ प्रयत्न = बहुत बड़ा प्रयत्न

भीष्म प्रतिज्ञा = कठोर प्रतिज्ञा

पाँचाली चीर = बड़ी लम्बी, समाप्त न होने वाली वस्तु

रामबाण = तुरन्त प्रभाव दिखाने या कभी न चूकने वाली वस्तु

कुम्भकर्णी नींद = बहुत गहरी, लापरवाही की नींद

चाणक्य नीति = कुटिल नीति

महाभारत   = भयंकर युद्ध

लंका काण्ड  = भयंकर युद्ध

कुछ शब्दयुग्म जिनके प्रयोग में प्रायः भूल होती हैः

उदाहरण  दृष्टान्त

कविता = काव्य

उपहार  = भेंट

अवस्था  = दशा

उपकरण  = साधन

अधिकारी = भागी

वैर  = शत्रुता

विचार = धारणा

ठोकर = धक्का

त्रुटि           = दोष

अनुग्रह     = कृपा

क्रोध         = रोष

शंका        = संदेह

स्वतन्त्रता  =  स्वाधीनता

प्रयोग       =  व्यवहार

आदर       = सम्मान

आसरा      = भरोसा

कष्ट          = दुःख

घुड़की      = झिड़की

अनुराग     = प्रेम

अड़चन    = बाधा

प्रतिमा     = मूर्ति

चिंतन      = मनन

बल         =शक्ति

सभ्यता     = संस्कृति

साधारण =      सामान्य

छुटकारा   = मुक्ति

कीर्ति       = यश

मिलाई      = मिलप

नमूना      =  बसपगी

किराया     = भाड़ा

बुद्धि        = समक्ष

तुलना       = मिलान

पदार्थ        = वस्तु

चेष्टा         = प्रयत्न

अध्यक्ष    = सभापति

तालिका    = सूची

अन्तर     = भेद

उपस्थिति  = विद्यमानता

प्रयाण      = प्रस्थान