X किरणें क्या है , X किरण की खोज किसने की , एक्स-रे , क्ष किरणों (x-ray in hindi)

By  

(x-ray in hindi) X किरणें क्या है , X किरण की खोज किसने की , एक्स-रे , क्ष किरणों : X-किरणें विद्युत चुम्बकीय ऊर्जा वाली बहुत ही शक्तिशाली किरणें होती है , जब कोई तीव्र इलेक्ट्रॉन पुंज एक उच्च गलनांक और उच्च परमाणु भार वाले पदार्थ पर गिरता है तो इससे जो किरणें उत्सर्जित होती है उन किरणों को X किरणें कहते है।

X किरणों की खोज 1895  में विल्हेम कॉनराड रोंजन (Wilhelm Conrad Roentgen) द्वारा की गयी थी जो एक जर्मनी के विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर थे , यह आविष्कार उन्होंने अपनी प्रयोग शाला में कैथोड रे tube पर कार्य करते हुए किया था इसलिए कभी कभी X-किरणों को रॉन्जन किरणें भी कहा जाता है।

X किरणों के प्रकार (types of x ray in hindi)

मुख्य रूप से एक्स रे (X rays) को दो भागों में बांटा गया है –

1. कोमल X किरणें (soft x rays)

2. कठोर x किरण (hard x ray)

अब इन दोनों प्रकार की एक्स किरणों के बारे में विस्तार से अध्ययन करते है।

1. कोमल X किरणें (soft x rays) : ऐसी किरणें जिनकी भेदन क्षमता कम होती है जो केवल कोमल पदार्थों को ही भेदने की क्षमता रखती है उन्हें कोमल X किरण कहते है , इन किरणों की तरंग दैर्ध्य का मान उच्च होता है तथा इनकी आवृत्ति का मान निम्न होता है।

2. कठोर x किरण (hard x rays) : जिन किरणों की भेदन क्षमता बहुत अधिक होती है अर्थात जो कठोर पदार्थों को भी आसानी से भेद सकती है ,ऐसी किरणों को कठोर x किरणें कहते है।  इनकी तरंग दैर्ध्य कम होती है तथा आवृत्ति का मान उच्च होता है।

X-किरणों के गुण (properties of x rays)

  • x किरणें विद्युत चुम्बकीय विकिरण होती है जिनकी तरंग दैर्ध्य 10 A से 0.01 A के मध्य होती है।
  • खुली जगह में एक सीधी रेखा के रूप में गति करती है।
  • ये किरणें प्रकाश के वेग से गति करती है , निर्वात में इनकी गति 3.00 × 108 m/s होती है।
  • इनकों नग्न आखों से नहीं देखा जा सकता है।
  • इनमे कोई ध्वनी उत्पन्न नहीं होती है और न ही कोई गंध उत्पन्न होती है।
  • चुम्बकीय क्षेत्र तथा विद्युत क्षेत्र द्वारा ये किरणें विक्षेपित नहीं होती है।
  • सामान्य प्रकाश की तरह ये किरणें भी अपवर्तन , परावर्तन , विवर्तन , व्यतिकरण आदि घटनाओं को प्रदर्शित करती है।
  • सीसा x किरणों का सबसे अच्छा अवशोषक होता है।
  • इन किरणों का उपयोग राडार में नहीं किया जा सकता है क्यूंकि ये किरणें लक्ष्य से परावर्तित कम होती है और लक्ष्य द्वारा अवशोषित अधिक होती है।
  • ये किरणें कॉम्पटन प्रभाव तथा प्रकाश विद्युत प्रभाव को प्रदर्शित करती है।
  • जब इन किरणों को जीवित पदार्थो पर आपतित किया जाता है तो ये किरणें उत्तकों और स्वेत रुधिर कोशिकाओं को नष्ट कर देते है।

X किरणों का उपयोग (uses of X rays)

  • रेडियोग्राफी में इनका उपयोग किया जाता है।
  • किसी भी क्रिस्टल की संरचना अध्ययन x किरणों की मदद से की जाती है।
  • चिकित्सा के क्षेत्र में x किरणों का बहुत महत्व है , कई रोगों की जांच और निदान x किरणों से सहायता से किया जाता है।
  • रेडियो चिकित्सा के क्षेत्र में।
  • प्रयोगशाला में विभिन्न प्रकार के प्रयोगों में इन किरणों का प्रयोग किया जाता है।