सम्मान सूचक शब्द | आदर सूचक शब्द कौन कौनसे है ? आदर सूचक शब्द in English words of honor and respect in hindi

By  

words of honor and respect in hindi , सम्मान सूचक शब्द | आदर सूचक शब्द कौन कौनसे है ? आदर सूचक शब्द in English ?

सम्मानसूचक शब्द

शिष्टाचार के नाते सम्मान प्रकट करने के लिए समाज में कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग होता है जिन्हें सम्मानसूचक शब्द अथवा पदवीवाचक शब्द कहते हैं जैसे-.

उस्ताद –  किसी कला अथवा विद्या में चतुर पुरुष के लिए आता है।

कुँवर –  क्षत्रियों, जमींदारों तथा राजपूतों के नाम के पहले आता है ।

कुमारी –  अविवाहित स्त्रियों के नाम के पहले आता है।

ठाकुर –  क्षत्रियों के नाम के पहले आता है।

पंडित –  ब्राह्मणों अथवा जैनधर्म के पुरोहितों के नाम के पहले आता है।

प्रजापति – कुम्हारों के पहले आता है।

बाबा – पितामह अथवा साधुओं के लिए आता है।

बौहरे – ब्याज पर रुपये देने वालों के लिए आता है।

महन्त – धनी साधुओं अथवा उनके अखाड़ों के प्रधानों के लिए आता है।

महरा – कहारों के लिए आता है।

महामहिम –  गवर्नरों तथा राजदूतों के नाम से पहले आता है।

मास्टर  – किसी कला के ज्ञाता अथवा शिक्षक के लिए आता है।

मिर्जा –  मुगलों के नाम से पहले आता है।

मुंशी –  ब्राह्मणेतर शिक्षकों, कायस्थों अथवा मुहर्रिरों के लिए आता है।

मौलवी –  मुसलमान अध्यापकों के लिए आता है।

रैदास चमारों के लिए आता है।

लाला – व्यापारी वैश्यों अथवा सेठों के नाम से पहले आता है।

वर्मा –  क्षत्रियों के नाम से पहले आता है। आज कायस्थ लोग भी अपने नाम के आगे इसका प्रयोग करते हैं ।

बाल्मीकि –  मेहतर के लिए आता है।

शर्मा –  ब्राह्मणों के लिए आता है। आजकल बढ़ई भी इसका प्रयोग करते हैं ।

शाह –  व्यापारियों के नाम से पहले आता है।

श्रद्धेय –  आदरणीय व्यक्तियों के पहले आता है ।

श्री  – अपराधी तथा कुत्सित व्यक्तियों के अतिरिक्त सभी प्रकार के व्यक्तियों के पहले आता है।

सुश्री –  अविवाहित स्त्रियों के लिए।

श्रीमती विवाहित स्त्रियों के नाम से पहले आता है।

श्रीमान् –  श्रीयुक्त आदरणीय पुरुषों के नाम से पहले आता है।

सरदार – सिक्खों के लिए आता है।

स्वामी –  साधुओं के लिए आता है । स्त्रियाँ अपने पति के लिए तथा नौकर अपने मालिकों के लिए भी इसका प्रयोग करते हैं।

हरिजन –  प्राचीन काल में इसका प्रयोग भगवान् के भक्तों के लिए होता था, किन्तु आधुनिक काल में यह अछूतों के लिए प्रयोग किया जाता है।

हाजीजी –  हज करके लौटे हुए मुसलमानों के लिए आता है।

हाफिजजी –  कुरान को कंठस्थ करने वाले मुसलमानों के लिए प्रयुक्त होता है।

रायबहादुर – रायसाहब ये पद विशिष्ट हिन्दुओं के लिए अंग्रेजों ने प्रदान किये थे।

खान बहादुर –  यह पद विशिष्ट मुसलमानों के लिए अंग्रेजों ने प्रदान किया ।

भारतरत्न – पद्म विभूषण, पद्मश्री-कांग्रेस सरकार ने ये पद विशिष्ट व्यक्तियों को प्रदान किये।

परमवरी चकक्र अशोक चक्र, वीर चक्र वीरता के लिए सैनिकों तथा पुलिस वालों को ये पद प्रदान किये जाते हैं।