GST कब लागू हुआ भारत में ? भारत देश में जीएसटी कब लागू किया गया था when gst implemented in india in hindi

By   February 22, 2021

when gst implemented in india in hindi GST कब लागू हुआ भारत में ? भारत देश में जीएसटी कब लागू किया गया था ?

GST कब लागू हुआ भारत में ?

उत्तर : भारत देश में जीएसटी 1 जुलाई 2017 को प्रभावी रूप से पूरे देश में एक साथ लागू किया गया था।
चूँकि भारत देश में किसी भी प्रकार के कर अथवा टैक्स को लागू करने के लिए इसके लिए संविधान में लिखित कानून होना आवश्यक होता है और इसके पहले 115 वां संविधान संशोधन विधेयक संसद में पेश किया गया लेकिन कुछ कारणवश इस विधेयक को पारित नहीं किया जा सका।
फिर 2014 में नयी सरकार द्वारा पुनः GST लागू करने के लिए संसद में 122 वाँ संविधान संशोधन विधेयक पेश किया गया और इस बार यह विधेयक पारित हो गया और संविधान में 101 वाँ संसोधन किया गया जिसमे GST अर्थात गुड्स एंड सर्विस टैक्स को जोड़ा गया।
सबसे पहले भारत देश में GST लागू करने की सिफारिश केलकर समिति के द्वारा दी गयी थी जिसके अध्यक्ष विजय केलकर थे। उनका कार्य यही था कि भारत देश में GST के लिए रोड मैप तैयार किया जाए या इसके सम्बद्ध में अपने विचार प्रस्तुत किये जाए।

जिएसटी लागू करने के कारण बताइए ?

1. भारत में दोहरे कर की समस्या थी अर्थात एक वस्तु पर एक से अधिक बार कर वसूला जाता था।
2. टैक्स के ऊपर टैक्स की समस्या थी अर्थात एक वस्तु को एक से अधिक बार विक्रय करने की स्थिति में कर पर भी दूसरी बार में विक्रय होने पर कर दिया जाता है इसे केस्केडिंग प्रभाव की समस्या कहा जाता है।
3. जनता पर टैक्स का भार अत्यधिक था जिसे कम करने के लिए GST लागू करने की सिफारिश की गयी ताकि जनता पर से टैक्स भार को कम किया जा सके।
4. भारत में कर चुकाने की प्रणाली काफ कठिन थी इसे आसान बनाने के लिए GST कर व्यवस्था को लागू किया गया ताकि सभी द्वारा आसानी से कर प्रणाली का अनुसरण किया जा सके।
5. किसी एक ही वस्तु पर केंद्र और राज्य दोनों द्वारा टैक्स लिए जाने पर जनता और सरकार दोनों असामंजस्य की स्थिति में थे , जनता या व्यापारी सोचता था कि किसे टैक्स दिया जाए और सरकार सोचती थी कि कितना टैक्स लिया जाए ताकि व्यापारी बिना किसी समस्या के राज्य सरकार और केंद्र सरकार दोनों टैक्स अदा कर सके।
6. एक ही वस्तु पर विभिन्न प्रकार के टैक्स लिए जाते थे जिससे व्यापारी भी परेशान था।
चूँकि भारत के अलग अलग राज्य में टैक्स की दर अलग थी जिसके कारण अलग अलग राज्यों में एक ही वस्तु का मूल्य अलग अलग था जिसके कारण भारत एक विखंडित बाजार बन रहा था। भारत के सभी राज्यों और हर जगह एक ही बाजार जैसा स्थापित करने के लिए एक ही प्रकार का कर अर्थात GST लागू किया गया।
7. भारत के सभी राज्यों को विकास के असमान अवसर मिल रहे थे , भारत देश के सभी राज्यों को विकास के समान अवसर प्रदान करने के लिए देश में एक ही प्रकार का टैक्स लागू करना आवश्यक था।
8. चूँकि भारत में कर नियम सख्त थे जिसे आसानी से हर व्यापारी द्वारा समझा नहीं जाता था और वह उसका अनुसरण भी नहीं कर पाता था जिसके कारण भारत देश में इससे सम्बन्धित क़ानूनी विवादों की संख्या अत्यधिक बढ़ रही थी , इन्हें कम करने के लिए आसान कर पद्धति GST लागू करना आवश्यक था।
9. विभिन्न प्रकार के कर होने के कारण किसी भी व्यापारी के लिए इसकी अनुपालना अत्यधिक कठिन था और यदि वह इसकी पालना करता है तो यह इसे काफी महंगा पड़ता था।
10. सरकार को भी विभिन्न कर प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रशासन व्यवस्था की आवश्यकता थी जिसमें सरकार को यह व्यवस्था कठिन और खर्चीली पड़ रही थी।
11. कर की चोरी को रोकने के लिए यह GST लाया गया।
12. सिस्टम में विभिन्न कमियों का फायदा उठाकर हो रहे भ्रष्टाचार को भी खत्म करना GST लागू करने का उद्देश्य था।