सब्सक्राइब करे youtube चैनल

(what is proton in hindi) proton ki khoj kisne ki प्रोटॉन क्या है , प्रोटोन की परिभाषा : प्रोटोन भी एक उप परमाण्वीय कण है जिस पर धनात्मक आवेश उपस्थित होता है।  प्रोटॉन को p+
चिन्ह द्वारा दर्शाया जाता है। प्रोटॉन व न्यूट्रॉन नाभिक के अंतर पाया जाता है जबकि इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर चक्कर लगाता या यादृच्छ गति करता रहता है।

 प्रोटोन पर उतना ही आवेश उपस्थित होता है जितना इलेक्ट्रान पर रहता है लेकिन प्रकृति में विपरीत होता है अर्थात इलेक्ट्रान पर ऋणात्मक आवेश होता है जबकि प्रोटोन पर धनात्मक आवेश होता है।  proton का भार 1.67262 × 10−27 किलोग्राम होता है यह भार न्यूट्रॉन से कुछ कम होता है तथा electron के भार का लगभग 1,836 गुना होता है। किसी तत्व में उपस्थित प्रोटॉन की संख्या को उस तत्व की परमाणु संख्या कहते है।
उदाहरण के लिए मान लीजिये किसी तत्व में प्रोटोन की संख्या 15 है तो इस तत्व की परमाणु संख्या का मान भी 15 होगा। परमाणु संख्या के आधार पर तत्वों को आवर्त सारणी में रखा जाता है।
जब किसी परमाणु में उपस्थित इलेक्ट्रॉन और नाभिक में उपस्थित प्रोटोन की संख्या बराबर हो तो उस परमाणु को उदासीन परमाणु कहा जाता है।
प्रोटोन पर इलेक्ट्रान जितना ही आवेश होता है लेकिन दोनों की प्रकृति विपरीत होता है , प्रोटोन पर 1.60217733 x 10-19 C धनात्मक आवेश होता है।
प्रोटोन की खोज अर्नेस्ट रदरफोर्ड ने की थी। प्रोटोन के अलावा नाभिक में न्यूट्रॉन होते है जो उदासीन होते है अर्थात न्यूट्रॉन पर कोई आवेश नही होता है , न्यूट्रॉन की खोज जेम्स चेडविक ने की थी।
न्यूट्रॉन की खोज प्रोटोन और इलेक्ट्रान की खोज के बाद हुई थी।