ऐमीन क्या है , प्रकार , बनाने की विधि , हॉफमैन ब्रोमाइड निम्नीकरण , गेब्रिएल थैलीमाइड अभिक्रिया

By  

परिचय : जब एल्केन में से एक H के स्थान पर दूसरा -NH2 आता है तो उन्हें एलीफैटिक ऐमिन कहते है।

R-H → R-NH2

जब बेंजीन में से एक H के स्थान पर -NH2 समूह आता है तो उन्हें ऐरोमैटिक ऐमिन कहते है।

C6H6 → C6H5-NH2

ये चार प्रकार के होते है :

  1. प्राथमिक ऐमिन :  

क्रियात्मक समूह  -NH2

साधारण नाम – एल्किल ऐमिन

IUPAC नाम – एल्केनेमिन

उदाहरण – CH3-CH2-CH2-NH2 (propan-1-amine)

  1. द्वितीयक ऐमिन :  

क्रियात्मक समूह -NH or =NH

साधारण नाम – डाई एल्किल एमीन

IUPAC नाम – N-एल्केनेमिन

उदाहरण –  CH3-CH2-NH-CH2-CH(N-मेथिल एथेनेमिन)

  1. तृतीयक ऐमीन :

क्रियात्मक समूह :  ≡N

साधारण नाम – trialkyl amine

IUPAC नाम – N,N -dialkyl alkanamine

  1. चतुष्य ऐमीन :

साधारण नाम – टेट्रा ऐल्किल ऐमोनियम हैलाइड

सभी ऐमीन क्षारीय प्रकृति के होते हैक्योंकि ये प्रोटोन को ग्रहण करते है।

सभी ऐमीन में नाइट्रोजन का SPसंकरण होता है इसकी ज्यामिति पिरामिडी होती है।

 

 1ऐमीन बनाने की विधि :

  1. नाइट्रो एल्केन या नाइट्रोबेंजिन के अपचयन से। 

इस क्रिया में NO2 समूह -NH2 समूह में परिवर्तित होता है।

R-NO2   6H  → R-NH2 + 2H2O

  1. सायनाइड के अपचयन से :

R-CN + 4H → R-CH2-NH2

  1. हॉफमैन ब्रोमेमाइड निम्नीकरण (Hoffman bromide degradation):

जब ऐमाइड की क्रिया Br2 व NaOH के साथ की जाती है तो  1ऐमीन बनते है , इस क्रिया में कार्बन की संख्या कम  है

अतः इसे अवरोहल भी कहते है।

R-CO-NH2 + Br2 + 4NaOH →  R-NH2 + 2NaBr + 2H2O + Na2CO3

  1. गेब्रियल थैलिमाइड अभिक्रिया (Gabriel Thalimide Reaction) :

इस अभिक्रिया से एनेलिन प्राप्त नहीं किया जा सकती , क्योंकि ऐनिलीन बनाने के लिए हैलोबेंजीन की आवश्यकता होती है इसमें अनुनाद के कारण कार्बन के हैलोजन के मध्य द्विबंध आ जाते है जिसे नाभिक स्नेही प्रतिस्थापन अभिक्रिया नहीं होती।

  1. हैलो एल्केन की अमोनिया से क्रिया करने पर :

इस क्रिया में 10 , 20 , 30 व चतुष्यक ऐमीन बनते है , इस क्रिया को अमोनी अपघटन कहते है।

  1. एमाइड के अपघटन से :

CH3-CH2-CO-NH2 + 4H →   H2O + CH3-CH2-CH2-NH3