वेग नियम या वेग समीकरण या वेग व्यंजक velocity equation in chemistry in hindi

velocity equation in chemistry in hindi (वेग नियम या  वेग समीकरण या वेग व्यंजक) : वेग नियम के अनुसार अभिक्रिया का वेग क्रियाकारको की सांद्रता के गुणन फल के समानुपाती होता है।

अभिक्रिया वेग व क्रियाकारको की सांद्रता में सम्बन्ध को जिस समीकरण से व्यक्त किया जाता है उसे वेग समीकरण कहते है।

माना एक समीकरण निम्न है।

N1A + N2B →  उत्पाद

वेग नियम से

अभिक्रिया वेग ∝ [A]n1 [B]n2

अभिक्रिया वेग =  K[A]n1 [B]n2

यहाँ k एक स्थिरांक है जिसे विशिष्ट अभिक्रिया वेग या वेग नियतांक कहते है।

नोट : अभिक्रिया की  स्टॉइकियोमिट्रिक  की सहायता से वेग नियम नहीं लिखा जाता परन्तु यह प्रयोगों द्वारा ज्ञात करके लिखा जाता है।

उदाहरण : CHCl3  + Cl2   = CCl4  + HCl

प्रायोगिक वेग ∝ [CHCl3][Cl2]1/2

उदाहरण : CH3COOC2H5 + H2O  = CH3COOH + C2H5OH

प्रायोगिक वेग ∝ [CH3COOC2H5 ] [H2O]

उदाहरण :2A + 3B →  उत्पाद

के लिए वेग समीकरण लिखो।

अभिक्रिया वेग = k [A]2[B]3

 

One thought on “वेग नियम या वेग समीकरण या वेग व्यंजक velocity equation in chemistry in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!