भारत का सुपर कंप्यूटर कौन सा है supercomputer in india name in hindi भारत में बनाया गया सुपर कम्प्यूटर कौनसा हैं ?

By  

supercomputer in india name in hindi भारत का सुपर कंप्यूटर कौन सा है ?

महत्वपूर्ण प्रश्न
1. भारत में बनाया गया सुपर कम्प्यूटर कौनसा हैं ?
(अ) ILLIAC (ब) PARAM (स) IBM-3090 (द) DEC
2. दूसरी जनरेशन (पीड़ी) में पेश की हाई हाई लेवल प्रोग्रामिंग भाषा (लैंग्वेज) है –
(अ) फॉस्ट्रॉन (Fk~ Or~ t~ RAN) IV, पास्कल (PASCAL) बेसिक (BASIC)
(ब) C/C़़ (स) कोबोल (COBOL) और फॉरट्रॉन
(द) इनमें से कोई नहीं
3. पहली जनरेशन (पीडी) के कम्प्यूटर का मुख्य कंपोनेट था रू
(अ) ट्रांजिस्टर (ब) वैक्यूम ट्यूब और वाल्वस
(स) इंटीग्रटेड सर्किटस (द) इनमें से कोई नहीं
4. दूसरी जनरेशन (पीडी) कंप्यूटर कब विकसित किया गया था ?
(अ) 1949 से 1955 (ब) 1956 से 1965
(स) 1965 से 1970 (द) 1970 से 1990
5. माइक्रो प्रोसेसर कौनसी जनरेशन (पीड़ी) में पेश किया गया था ?
(अ) पहली जनरेशन (ब) दूसरी जनरेशन
(स) तीसरी जनरेशन (द) चैथी जनरेशन
6. इनमें से कौनसा एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का उदारहण नहीं है ?
(अ) विंडोज 7 (ब) पेजमेकर
(स) नोटपैड (द) फोटोशाप
7. इनमें से कौन कम्प्यूटर हार्डवेयर पर रन करता है और दूसरे सॉफ्टवेयर को रन करने के लिए प्लेटफॉर्म प्रदान करता है ?
(अ) ऑपरेटिंग सिस्टम (ब) एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर
(स) ए और बी (द) इनमें से कोई नहीं
8. ENIAC का विस्तारित रूप है –
A- Electronic Networks Integrated Ace Computer
B- Electronic Numerical Integration and Calculation
C- Electronic Numerical Integrator & Computer
D- Electronic November Is A Crossing
9. रॉ फैक्ट्स जैसे लेटर्स, वर्डस एंड ध्वनि को क्या कहा जा सकता है रू
(अ) डाटा (ब) यूजर रेस्पोंस (स) प्रोग्राम (द) कमांड

कुछ महत्वपूर्ण बिंदु –

1. प्रथम जनरेशन (1942-1956) – इलेक्ट्रॉनिक घटक के रूप में वैक्यूम ट्यूब तथा डाटा संग्रहण के लिए चुम्बकीय ड्रम का प्रयोग, इस जनरेशन के कम्प्यूटर को इनपुट, पंच कार्ड और कागज टेप द्वारा किया जाता था।
2. दूसरी जनरेशन (1956-1965) – इनमें इलेक्ट्रॉनिक घटक के रूप में ट्रांजिस्टर और डेटा संग्रहण के लिए चुम्बकीय कोर (प्राइमरी मैमोरी) तथा चुम्बकीय टेप एवं चुम्बकीय डिस्क (सैकण्डरी) के रूप में प्रयोग। कोबोल और फोरट्रान प्रोग्रामिंग भाषाएं शुरू हुई।
3. तीसरी जनरेशन (1965-1975) – इनमें इलेक्ट्रॉनिक घटक के रूप में इंटीग्रेटेड सर्किट (IC) का प्रयोग। इनमें आउटपुट और इनपुट के लिए मानीटर और की-बोर्ड का प्रयोग। इनमें टाइम शेयरिंग और मल्टी प्रोग्रामिंग आपरेटिंग सिस्टम की शुरूआत ।
4. चतुर्थ पीढ़ी (1975–1988) – इसमें माइक्रो प्रोसेसर की शुरूआत हुई। टस्ैप् तकनीक का उपयोग। इनमें टाइम शेयरिंग, रियल टाईम प्रोसेसिंग, डिस्ट्रीब्युटेड ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल हुआ।
5. 1971 में इंटेल 4004 चिप विकसित हुई।
6. C, C़़, डेटाबेस का इस्तेमाल किया – चतुर्थ पीढ़ी के पर्सनलध् डेस्कटाप कम्प्युटर में।
7. पंचम जनरेशन (1988 से अब तक) – ULSI तकनीक का इस्तेमाल ।
8. ULSI का विस्तृत नाम दृ अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटीग्रेशन ।
9. आर्टिफिसियल इंटेलिजेन्स वोइस रिकग्निशन, मोबाईल संचार, सैटेलाइट संचार, सिग्नल डाटा प्रोसेसिंग की शुरूआत हुई – पंचम जनरेशन।
10. JAVA, VB और .Net की शुरूआत – पंचम जनरेशन। 1
11. प्रथम जरनेशन के सिस्टम – ENIAC, EDVAC, TBM701
12. सैकण्ड जरनेशन के सिस्टम – Honeywell 400, CDc~ 1604, IBM 7030
13. थर्ड जरनेशन के सिस्टम – IBM 360/370, CDc~ 6600, PDp~ 8/11
14. चतुर्थ जरनेशन के सिस्टम – Apple II, VAx~ 9000, CRAy~ 1/2
15. पंचम जरनेशन के सिस्टम – IBM पेन्टियम, परम।
16. पास्कालिन – 1642 में ब्लेस पास्कल द्वारा किया गया एक संख्यात्मक पहिया कैलकुलेटर का आविष्कार।
17. लाइबनिट्स मैकेनिकल गुणक – वर्ष 1646 में Gotfried Wilhem Von Leibnç ने आविष्कार किया, जिससे गियर और डायल प्रणाली पर गुणा किया जा सकता था।
18. यांत्रिक कैलकुलेटर (ARITHOMETER) – फ्रांसीसी Charles Xavier Thomas De Colmar ने आविष्कार किया।
19. चार्ल्स बैवेज – गणितज्ञ, वर्तमान कम्प्युटर के जनक ।
20. हरमन होलेरिथ – कम्प्यूटिंग के लिए Jacquard अवधारणा लागू की जिसमें कार्ड से डाटा को स्टोर किया जाता था।
21. अगस्ता एडीए किंग – चार्ल्स वेज के सहायक मशीन के डिजाइन में महत्वपूर्ण भूमिका।
22. ENIAC – प्रथम All-purpose इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कम्प्यूटर।
23. ENIAC का विस्तृत नाम – Electronic Numerical Integrator and Calculator
24. UNIVAC – यह सांख्यिक और वर्णमाला दोनों प्रकार के डेटा को संभालने के लिए पहला कम्प्यूटर वाणिज्यिक कम्प्यूटर था।
25.WWW का विस्तृत नाम दृ वर्ड वाइब वेब (World Wide Web)
26. WWW – 1990 से शुरूआत।
27. कम्प्यूटर दृ यह एक इलेक्ट्रोनिक डिवाइस है, जिसमें डेटा को इनपुट करते हैं, प्रोसेस करते है, स्टोर करते है और इच्छित स्वरूप में परिणाम देते हैं।
28. डेटा – यह रॉ फैक्ट्स एण्ड फिगर्स है।
29. सूचना प्रणाली के पांच भाग होते हैं – डेटा, हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, प्रोसीजर एवं लोग।
30. सॉफ्टवेयर है – एक प्रोग्राम जो कम्प्यूटर के कार्य करने का निर्देश देता है।