अर्द्ध पारगम्य झिल्ली क्या है , परिभाषा , उदाहरण , अर्धपारगम्य झिल्ली का अर्थ (Semi permeable membrane in hindi)

By  
(Semi permeable membrane in hindi) अर्द्ध पारगम्य झिल्ली क्या है , परिभाषा , उदाहरण , अर्धपारगम्य झिल्ली का अर्थ : आपने देखा होगा कि जब मटर के दानों को पानी में रखा जाता है तो वे फूलने लगते है ठीक इसी प्रकार जब कोई मृत जिव किसी पानी में पड़ा रहा है तो इसका शरीर भी फूलने लगता है।
इसके विपरीत जब करेले का कडवापन दूर करना होता है अर्थात कडवापन बाहर निकालना होता है तो करेले को नमक के विलयन में रख दिया जाता है जिससे करेले का कडवापन बाहर निकल जाता है या दूर हो जाता है।
क्या आप बता सकते है ऐसा क्यों होता है ?
ये सब घटनाएँ अर्द्ध पारगम्य झिल्ली द्वारा संपन्न हो पाती है , अर्थात इन सभी में अर्द्ध पारगम्य झिल्ली पायी जाती है जिसके कारण यह संभव हो पाता है।
अर्द्ध पारगम्य झिल्ली : यह एक ऐसी परत होती है जो केवल विलायक के कणों को गुजरने देती है लेकिन विलेय के कणों या अणुओं को इससे होकर गुजरने नहीं देती है।
अर्थात अर्द्ध पारगम्य झिल्ली एक प्रकार की जैविक या कृत्रिम झिल्ली या परत होती है जो केवल इससे कुछ विशेष प्रकार के अणुओं , आयनों या कणों को गुजरने देती है बाकी अन्य कणों को रोक देती है या गुजरने नहीं देती है।
यह एक सतत शिट की तरह होती है , अर्धपारगम्य झिल्ली में विशेष छिद्र होते है जो केवल कुछ विशेष कणों या अणुओं को इनसे होकर गुजरने देते है और जो कण इन छिद्रों के अनुरूप नहीं होते है वे कण अर्धपारगम्य झिल्ली से होकर नहीं गुजर पाते है इसलिए इस झिल्ली से केवल विलायक के कण आसानी से गुजर जाते है लेकिन विलेय के कण इससे होकर नहीं गुजर सकते है।
जैसा कि हमने ऊपर पढ़ा कि अर्धपारगम्य झिल्ली जैविक या प्राकृतिक , किसी भी प्रकार की हो सकती है , जैविक झिल्ली वह होती है जो जीवों में प्राकृतिक रूप से पायी जाती है जैसे हमारे शरीर कई प्रकार की झिल्ली पायी जाती है जैसे रक्त को शुद्ध करने के लिए भी एक विशेष प्रकार की झिल्ली पायी जाती है जो केवल रक्त के शुद्ध कणों को गुजरने देती है लेकिन इसमें अन्य कणों को गुजरने से रोक देती है जिससे रक्त शुद्ध हो जाता है।
दूसरी होती है कृत्रिम अर्द्ध पारगम्य झिल्ली , जो मानव निर्मित होती है , जैसे हमें किसी विलयन से एक विशेष प्रकार के कणों को अलग करना है तो हम उसकी प्रकृति के आधार पर एक अर्द्ध पारगम्य झिल्ली का निर्माण करेंगे जो केवल उन्ही कणों को गुजरने दे जिनको हमें पृथक करना है और हमें वे कण पृथक मिल जाते है।
उदाहरण :
चित्र में किडनी में अर्द्ध पारगम्य झिल्ली को दर्शाया गया है –

यहाँ पीले रंग में झिल्ली को दिखाया गया है जो किडनी में कार्य कर रही है उसके समान है , यह प्राकृतिक या जैविक प्रकार की झिल्ली है।
यह झिल्ली लाल रुधिर के कणों को इससे गुजरने नहीं देती है लेकिन अवांछित कणों को इससे गुजरने देती है जिससे रुधिर शुद्ध हो जाता है और किडनी जब इन अवांछित कणों की सांद्रता अधिक हो जाती है तो यूरिन या पेशाब बनता है जिसमें अवांछित कण यूरिया होता है।