संस्कृतिकरण की अवधारणा क्या है परिभाषा किसे कहते है sanskritization in hindi अवधारणा किसने दी

By   November 25, 2020

sanskritization in hindi संस्कृतिकरण की अवधारणा क्या है परिभाषा किसे कहते है संस्कृतिकरण की अवधारणा किसने दी लेख निबंध का समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए ?

शब्दावली

संस्कृतिकरण :  इस संकल्पना को एम.एन. श्रीनिवास ने प्रवर्तित किया। उसके अनुसार ‘संस्कृतिकरण‘ उस प्रक्रिया को कहते हैं, जिसमें उच्च वर्ग अथवा द्विज जाति के लोगों के अनुकरण में नीची जाति के हिन्दू या जनजाति के लोग या दूसरे समूहों के लोग अपने रीति-रिवाजों, संस्कारों, विचारधारा और रहन-सहन की पद्धति को बदल देते हैं।
एककालिक समसामयिक संदर्भ में, ऐतिहासिक पृष्ठभूमि का उल्लेख किए बिना, किये जाने वाले समाज के अध्ययन को एककालिक (synchronic) अध्ययन कहते हैं।
अमूर्तीकरण यह शब्द वस्तु से अलग उसके गुण की अभिव्यक्ति करता है और उसके मूर्त रूप को बताने के बजाय उसके आंतरिक रूप की ओर संकेत करता है। इस इकाई के संदर्भ में इस शब्द का उपयोग मानव-व्यवहार के वर्णनात्मक विवरण की जगह सैद्धांतिक विचारों को अभिव्यक्त करने के लिए किया गया है।
आदिवासी जनजातियां किसी स्थान के मूल निवासी। ऑस्ट्रेलिया के जनजातीय लोगों को सामान्यतः आदिवासी (aborigines) कहा जाता है।
नृजाति विवरण (ethnography) विशेष विषय पर लिखा विवरण

 कुछ उपयोगी पुस्तकें
मेयर, लूसी, 1984. एन इंट्रोडक्शन टु सोशल एन्थ्रोपोलॉजी आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः नई दिल्ली

मलिनॉस्की और रैडक्लिफ – ब्राउन के विचारों की समालोचना
इकाई की रूपरेखा
उद्देश्य
प्रस्तावना
प्रकार्यात्मक पद्धति – मिथक अथवा वास्तविकता
समाज का विज्ञान बनाम समाजशास्त्र
सामाजिक नृशास्त्र का विशिष्ट स्थान
रैडक्लिफ-ब्राउन का क्षेत्रीय शोधकार्य
रैडक्लिफ-ब्राउन का सैद्धांतिक योगदान
मलिनॉस्की और रैडक्लिफ-ब्राउन के मार्गदर्शन में नृशास्त्रीय शोधकार्य का विकास
मलिनॉस्की का प्रभाव
रैडक्लिफ-ब्राउन का प्रभाव
बीसवीं सदी के तीसरे-चैथे दशक के बाद नृशास्त्रीय शोध का विकास
सारांश
शब्दावली
कुछ उपयोगी पुस्तकें
बोध प्रश्नों के उत्तर

उद्देश्य
इस इकाई का अध्ययन करने के बाद आपके लिए संभव होगा
ऽ समाजशास्त्रीय सिद्धांत के विकास में मलिनॉस्की और रैडक्लिफ-ब्राउन की आपेक्षिक स्थितियों को समझना
ऽ नृशास्त्रियों की आने वाली पीढ़ियों पर मलिनॉस्की और रैडक्लिफ-ब्राउन के प्रभाव को आंकना।

प्रस्तावना
जहां यह इकाई इस खंड की पिछली चार इकाइयों का समालोचनात्मक विवरण है वहीं यह समाजशास्त्रीय विचारधारा में आने वाले आधुनिक विकास की झांकी भी है। समाजशास्त्रीय सिद्धांत में मलिनॉस्की और रैडक्लिफ ब्राउन ने जो योगदान किया, उसके बारे में इकाई 22, 23, 24 और 25 में विचार किया गया है। इन इकाइयों को पढ़ते समय आपने दोनों विद्वानों के विचारों के सशक्त और कमजोर पक्षों के बारे में अपनी सम्मति बनाई होगी। हमने भी इस इकाई में नृशास्त्रीय सिद्धांतों के इतिहास के संदर्भ में इन दोनों विद्वानों के योगदान का समीक्षात्मक मूल्यांकन प्रस्तुत किया है। इस प्रकार के मूल्यांकन से सम्पूर्ण समाजशास्त्रीय विचारधारा में उनकी आपेक्षिक स्थिति को समझने में आपको सहायता मिलेगी।

यह तो आपको मालूम ही है कि मानव-सभ्यता के इतिहास में रुचि रखने वाले सामाजिक विचारकों ने आदिम समाजों के अध्ययन को उपयोगी समझा। उनके विचार में आदिम समाज मानव विकास की आरंभिक अवस्थाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं, जिसके अध्ययन से उन्हें मानव जाति की प्रगति के नियमों को खोजने में मदद मिली। इस विचार श्रृंखला में मलिनॉस्की ने मूलतः एक क्रांतिकारी दृष्टिकोण को हमारे सामने रखा। उसके अनुसार आदिम संस्कृतियों को समझने के लिए आवश्यक है कि हम देखें कि कोई भी रीति-रिवाज या विश्वास कैसे उस समाज के अनुरक्षण (maintenance) में काम आता है। इसी दृष्टिकोण को सामाजिक नृशास्त्र की प्रकार्यवादी विचारधारा के रूप में जाना जाने लगा। कुछ विचारकों ने, जिनमें रैडक्लिफ-ब्राउन (1971ः 188-9) भी एक है, इसके अस्तित्व पर भी संदेह किया और इसे केवल एक मिथक के रूप में माना लेकिन फट (1957) जैसे कुछ अन्य विचारकों ने सामाजिक वास्तटिता के प्रकार्यात्मक दृष्टि से विश्लेषण करने के मलिनॉस्की के प्रयास को समाजशास्त्रीय अध्ययन में एक नया मोड़ माना।

इस इकाई के भाग 26.2 में बताया है कि गहन क्षेत्रीय शोधकार्य की परंपरा इस विचार-पद्धति की विशेषता है, मानव-व्यवहार को समझने की कोशिश में क्षेत्रीय शोधकार्य से हमारे सामने चमत्कारी परिणाम आए। यही कारण है कि प्रकार्यात्मक पद्धति तथा क्षेत्रीय शोधकार्य दोनों को समाजशास्त्र में लाने का श्रेय मलिनॉस्की को दिया जाता है। क्षेत्रीय शोधकर्ता के रूप में मलिनॉस्की का स्थान सबसे आगे है। हाँ, सिद्धांतकार के रूप में वह पूर्णतया असफल रहा है। उसकी सैद्धांतिक असफलताओं की समीक्षा का फल हुआ कि अन्य विचारकों ने मलिनॉस्की के प्रकार्यात्मक दृष्टिकोण में कुछ नए तत्व जोड़े। भाग 26.3 में हमने मलिनॉस्की के सैद्धांतिक दृष्टिकोण की कमियों पर विचार करने के बाद रैडक्लिफ-ब्राउन के साहसपूर्ण प्रयासों के बारे में विचार किया है। उसके ये प्रयास हमें आदिम समाजों को, और उससे भी आगे मोटे-मोटे रूप से मानव-समाजों को समझने में मजबूत सैद्धांतिक आधार प्रदान करते हैं। रैडक्लिफ-ब्राउन ने समाज के विज्ञान की भाँति समाजशास्त्र को देखा और उसमें सामाजिक नृशास्त्र की विशेष जगह बनाई। साथ में उसने मलिनॉस्की द्वारा चलाई क्षेत्रीय शोधकार्य की परंपरा को भी आगे बढ़ाया।

मलिनॉस्की और रैडक्लिफ-ब्राउन दोनों के अनेक शिष्यों ने अनेक क्षेत्रीय शोधकार्य किये। दोनों विद्वानों के प्रत्यक्ष मार्गदर्शन में व्यापक स्तर पर हुए क्षेत्रीय शोधकार्यो से सामाजिक नृशास्त्र की अभूतपूर्व प्रगति हुई। इसकी संक्षिप्त समीक्षा भाग 26.4 में प्रस्तुत की गई है। मानव समाजों के अध्ययन के लिए हमने इस विषय में आगे चलकर विकसित हुए विचारों की ओर भी भाग 26.4 में संकेत किया है। स्पष्ट है कि प्रकार्यवादी विश्लेषण से मानव व्यवहार की वैकल्पिक व्याख्या प्रस्तुत करने में महती सफलता मिली। यही कारण है कि प्रकार्यवादी पद्धति का समाजशास्त्र में अभी भी अद्वितीय स्थान है, भले ही बाद में अन्य नई-नई पद्धतियों का विकास हुआ।

सारांश
इस इकाई में हमने मलिनॉस्की और रैडक्लिफ-ब्राउन के योगदान का मूल्यांकन किया। पहले हमने मलिनॉस्की की उपलब्धियों की समीक्षा की। उसके बाद हमने कुछ विस्तार से रैडक्लिफ-ब्राउन की विद्वत्ता की क्षेत्रीय शोधकर्ता और सिद्धांतकार के रूप में चर्चा की। हमने मलिनॉस्की और रैडक्लिफ-ब्राउन के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष मार्गदर्शन में नृवैज्ञानिक अनुसंधान की समीक्षा की। इस इकाई के अंत में समाजशास्त्रीय सिद्धांत में मलिनॉस्की तथा रैडक्लिफ-ब्राउन के बाद हुए विकास का संक्षिप्त विवरण दिया।

संदर्भ ग्रंथ सूची
अ)
बखोफन, जे.जे. 1861. दि मदर-राइट. प्रिस्टन यूनिवर्सिटी प्रेसः प्रिस्टन (राल्फ मनहाइम द्वारा 1967 में अनूदित)।
बेटसन, जी. 1958. नावेन. स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः स्टैनफोर्ड (सर्वप्रथम 1936 में प्रकाशित)।
बीटी, जे.एच.एम. 1964. अदर कल्चर्स. रटलज एण्ड केगन पॉलः लंदन,
दर्खाइम, ई.ई. 1947. दि डिवीजन ऑफ लेबर. फ्री प्रेसः न्यूयार्क
दर्खाइम, ई.ई. 1976. दि एलीमेंट्र फार्स ऑफ दि रिलीजस लाइफ एलेन एण्ड अनविनः लंदन
इवन्स प्रिचर्ड, ई.ई. 1937. विचक्राफ्ट, ओरेकल्स एण्ड मैजिक अमंग दि अजांदे ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
इवन्स प्रिचर्ड, ई.ई. 1940. दि नुअर. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः आक्सफोर्ड
इवन्स प्रिचर्ड, ई.ई. 1940. दि पोलिटिकल सिस्टम्स ऑफ दि अनुआक. ए.एम.एस. प्रेसः लंदन
इवन्स प्रिचर्ड, ई.ई. 1949. दि सानुसी ऑफ साइरेनाइका. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
इवन्स प्रिचर्ड, ई.ई. 1951. किनशिप एण्ड मैरिज अमंग दि नुअर. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
इवन्स प्रिचर्ड, ई.ई. 1954. सोशल एंथ्रोपोलॉजी. कोएन एण्ड वेस्ट लिमिटेडः लंदन (सर्वप्रथम 1951 में प्रकाशित)।
इवन्स-प्रिचर्ड ई.ई. और फोर्टिज मेयर (संपा.) 1940. अफ्रीकन पोलीटिकल सिस्टम्स. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
फर्गुसन, ए. 1767. एन एस्से ऑन दि हिस्ट्री ऑफ सिविल सोसायटी. एडिनबरा यूनिवर्सिटी प्रेसः एडिनबरा
फर्थ, रेमण्ड 1951. वी दि टिकोपिया. जार्ज एलेन एण्ड अनविनः लंदन (सर्वप्रथम 1936 में प्रकाशित)
फर्थ, रेमण्ड (संपा.), 1957. मैन एण्ड कल्चर. रटलज एण्ड केगन पॉलः लंदन
फोर्टिज, एम. 1945. दि डायनामिक्स ऑफ क्लैनशिप अमंग दि टालेंसी. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
फोर्टिज, एम. 1949. दि वेव ऑफ किनशिप अमंग दि टालेंसी. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
फ्रेजर, जे.जी. 1922. दि गोल्डन बाउ. मैक्मिलनः लंदन (सर्वप्रथम 1890 में प्रकाशित)
हॉबहाउस, एल.टी. 1906. मॉर्ल्स इन इवोल्युशनः ए स्टडी इन कंपेरेटिव एथिक्स. जानसन प्रेसः लंदन
जैन, आर.के. 1989. ए.आर.रैडक्लिफ-ब्राउन एण्ड दि दर्खाइमियन स्कूल ऑफ फ्रेच सोशोलॉजीः मेथोडोलोजिकल रिफ्लैक्शन्स. स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, वर्किंग पेपर सिरीज, 1989-04,55 पृष्ठ
जुनोद, एच.ए. 1912-13 दि लाइफ ऑफ साउथ अफ्रीकन ट्राइब. ए.एम.एस. प्रेसः लंदन
कैबरि, फिलिस, एम. 1939 एबोरोजिनल वोमनः सेक्रेड एण्ड प्रोफेन. जार्ज राटलज एण्ड सन्जः लंदन
कूपर, एडम 1975. एंथ्रोपोलीजिस्ट्स एण्ड एंथ्रोपोलिजी–दि ब्रिटिश स्कूल. पेनगुइनः लंदन
कूपर एडम 2000. कल्चरः द ऐन्थ्रोपॉलजिस्ट्स एकाउन्ट. हार्वर्ड यूनीवर्सिटी प्रेसः केम्ब्रिज, एम ए
कूपर, हिल्डा, 1947. एन अफ्रीकन एरीस्टोक्रेसीः रैंक अमंग दि स्वाजी. क्लेरण्डन प्रेसः ऑक्सफोर्ड
लीच, ई.आर. 1957. दि एपिस्टेमोजोजिकल बैकग्राउंड टू मलिनास्कीज इंपिरिसस्म. इन रेमण्ड फर्थ (संपा.) कल्चरः एन इवैल्युशन ऑफ दि वर्क ऑफ ब्रोनिस्ला मलिनॉस्की. राटलज एण्ड कैगन पॉलः लंदन
लेवी ब्रल, एल. 1923. प्रिमिटिव मेंटलिटी (सर्वप्रथम 1922 में फ्रेंच में प्रकाशित) लिलियन ए.. क्लेयर द्वारा अनूदित. ए.एम.एस. प्रेसः लंदन
लेवी बुल, एल. 1926. हाऊ नेटिव्स थिंक (सर्वप्रथम 1922 में फ्रेंच में प्रकाशित) लिलियन ए. क्लेयर द्वारा अनूदित. आयेर कम्पनी पब्लिशजः लंदन
लोवी. आर. एच., 1937. दि हिस्ट्री ऑफ एंथ्रोनोलोजिकल थ्योरी. फर्रार एण्ड राइनहाटः न्यूयॉर्क
मैक्लेनन, जे.एफ. 1865. प्रिमिटिव मैरिज. डर्बी बुक्सः लंदन
मेन, एच. 1961. एंशिएंट लॉ. एवरीमैन्स लाइब्रेरीः लंदन
मेन, एच. 1871. विलेज–कम्युनिटीज इन दि ईस्ट एण्ड वेस्ट. डर्बी बुक्सः लंदन
मजूमदार, डी.एन. 1937. ए ट्राइब इन ट्रांजिशनः ए स्टडी इन कल्चर पैटर्न्स. लांगमैन ग्रीन्स एण्ड कम्पनीः लंदन
मलिनॉस्की, बी. 1922. अर्गोनाट्स ऑफ दि वेस्टर्न पैसिफिक वेवलैंड प्रेसः लंदन
मलिनॉस्की, बी. 1929. दि सैक्सुअल लाइफ ऑफ सेवेजिस इन नार्थ वेस्ट मलेनेसिया. हरकोर्टः न्यूयार्क
मलिनॉस्की, बी. 1931. कल्चर. एन्साइक्लोपीडिया ऑफ दि सोशल साइंसिस में 4ः 621-46
मलिनॉस्की, बी. 1935. कोरल गार्डन्स एण्ड देयर मैजिक. इंडियाना यूनीवर्सिटी प्रेसः ब्लूमिंगटन
मलिनॉस्की, बी. 1944. ए साइंटिफिक थ्योरी ऑफ कल्चर. दि नॉर्थ कैरोलाइना यूनिवर्सिटी प्रेसः चैपेल हिल
मलिनॉस्की, बी. 1948. मैजिक, साइंस एण्ड रिलीजन एण्ड अदर एक्सेज. सोवेनिर प्रेसः लंदन (सर्वप्रथम 1925 में प्रकाशित) मांटेस्क्यू, बैरन, डी, 1748. दि स्पिरिट ऑफ दि लाज (1949 में टी. नजेंट द्वारा अनूदित) ऑक्सफोर्ड यूनीवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
मॉगर्न, एल.एच. 187,. सिस्टम्स ऑफ कसेंग्युनिटी एंड एफीनिटी ऑफ दि ह्यूमन फैमिली. स्मिथसोनियन कंट्रीब्यूशन टू नालेज 17ः 4-602
मॉगर्न, एल.एच. 1877. एन्शिएन्ट सोसाइटी. यूनीवर्सिटी ऑफ अरीजोना प्रेसः अरीजोना
नाडेल एस.एफ. 1957. मलिनॉस्की ऑन मैजिक एंड रिलिजन (जादू तथा धर्म के बारे में मलिनॉस्की के विचार) रेमण्ड फर्थ (संपा.) की पुस्तक मैन एण्ड कल्चर में. रटलज एण्ड कैगन पॉलः लंदन
नीबोएर, एच.जे. 1990. स्लेवरी ए.एन इंडस्ट्रियल सिस्टमः एथनोलोजीकल रिसर्चेज. बी. फ्रेंकलिनः न्यूयार्क
पासेन्स, टी., 1957. मलिनॉस्की एण्ड द थियरी ऑफ सोशल सिस्टम्स (मलिनॉस्की तथा सामाजिक प्रणालियों का सिद्धांत) रेमण्ड फर्थ (संपा.) की मैन एण्ड कल्चर में। रटलज एण्ड केगन पॉलः लंदन
पैरी, डब्ल्यू, जे. 1923. दि चिल्ड्रन ऑफ दि सन. ए.एम.एस. प्रेसः न्यूयार्क
पिडंगटन., आर. 1957. मलिनॉस्कीज थियरी ऑफ नीड्स (मलिनॉस्की का आवश्यकताओं का सिद्धांत) रिमण्ड फर्थ (सं.पा.) की मैन एण्ड कल्चर में। रटलज एण्ड केगन पॉलः लंदन
पोकॉक, डी.एफ, 1961. सोशल एंथ्रोपोलॉजी. शीड एण्ड वार्डः लंदन
रैडक्लिफ-ब्राउन, ए.आर. 1964. दि अंडमान आइलैंडर्स. फ्री प्रेसः ग्लेनको (सर्वप्रथम 1922 में प्रकाशित)
रैडक्लिफ-ब्राउन, ए.आर. 1971. स्ट्रक्चर एण्ड फंक्शन इन प्रिमिटिव सोसाइटीज. कोएन एण्ड वेस्ट लि.ः लंदन (सर्वप्रथम 1952 में प्रकाशित)
रिचडर्स, ए.आई. 1932. हंगर एण्ड वर्क इन ए सेवेज ट्राइब. ग्रीनवुड प्रेसः लंदन
रिचडर्स, ए.आई. 1939. लैंड, लेबर एण्ड डाइट इन नार्दर्न रोडेशिया. ऑक्सफोर्ड यूनीवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
रिवर्स, डब्ल्यू. एच.आर. 1906. दि. टोडाज, मैक्मिलनः लंदन
रिवर्स, डब्ल्यू. एच.आर. 1914. दि हिस्ट्री ऑफ दि मलेनेसियन सोसाइटी. कैम्ब्रिज यूनीवर्सिटी प्रेसः कैम्ब्रिज
शपीरा, आई. 1950. मैरीड लाइफ इन अफ्रीकन ट्राइब. ऑक्सफोर्ड यूनीवर्सिटी प्रेसः ऑक्सफोर्ड
शपीरा, आई. 1943. नेटिव लैंड टेन्योन इन बेचुआनालैंड प्रोटेक्टोरेट. वडेल प्रेसः लंदन
स्मिथ, ए. 1776. ए इंक्वायरी इंटू दि नेचर एण्ड काजिस ऑफ दि वेल्थ ऑफ नेशन्स. (पनगुइन संस्करण 1969 में प्रकाशित) पेनगुइनः लंदन
स्मिथ, डब्ल्यू. रॉबर्टसन 1889. लेक्चर्स ऑन दि रिलीजन ऑफ दि सेमाइटस. आर्डेन लाइब्रेरीः लंदन
श्रीनिवास, एम.एन. 1952. रिलीजन एण्ड सोसाइटी अमंग दि कुर्गस ऑफ साउथ इंडिया. ऑक्सफोर्ड यूनीवर्सिटी प्रेसः लंदन
श्रीनिवास, एम.एन. (सं.पा.) 1958. मेथड इन सोशल एंथ्रोपोलॉजी. यूनीवर्सिटी ऑफ शिकागो प्रेसः शिकागो
टाइलर, ई.बी. 1865. रिसर्चिज इंटू दि अर्ली हिस्ट्री ऑफ मैनकाइंड एण्ड दि डेवलपमेंट ऑफ सिविलाइजेशन. फ्रोनिक्स बुक्सः लंदन
टाइलर, ई.बी. 1871. प्रिमिटिव कल्चर. मरेः लंदन
टाइलर, ई.बी. 1881. एंथ्रोपोलॉजीः एन इंट्रोडक्शन टू दि स्टडी ऑफ मैन एण्ड सिविलाइजेशन. एपलटनः न्यूयार्क
वेस्टरमार्क, ई. 1891. दि हिस्ट्री ऑफ ह्यूमन मैरिज. जॉनसन रिप्रः लंदन
वेस्टरमार्क, ई. 1906. दि ओरीजिन एण्ड डेवलपमेंट ऑफ दि मॉरल आइडियाज. जॉनसन रिप्रः लंदन

ब) हिंदी में उपलब्ध पुस्तकें
ब्रॉनिस्लाव, मलिनॉस्की, वन्य समाज में अपराध और प्रथा. मध्य प्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमीः भोपाल
शपीरा, हेरी एल. मानव, संस्कृति और समाज. मध्य प्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमीः भोपाल
मेयर, लूसी, सामाजिक नृविज्ञान की भूमिका. बिहार हिंदी ग्रंथ अकादमीः पटना
सत्यदेव, सामाजिक विज्ञानों की शोध पद्धतियां. हरियाणा हिंदी ग्रंथ अकादमीः चण्डीगढ़
शल्य, यशदेव, संस्कृति, राजस्थान हिंदी ग्रंथ अकादमीः जयपुर