राष्ट्रपति किसे कहते हैं | भारत का राष्ट्रपति किसे कहा जाता है परिभाषा क्या है ? president of india definition in hindi

By   October 17, 2020

president of india definition in hindi राष्ट्रपति किसे कहते हैं | भारत का राष्ट्रपति किसे कहा जाता है परिभाषा क्या है ?

भारत का राष्ट्रपति
यह निगरानी करने के लिए कि राष्ट्रपति यानी राज्य-प्रमुख, एक औपचारिक मुखिया है और यह भी कि उसने किसी वास्तविक शक्ति को अनाधिकार स्वयं नहीं अपनाया है, संविधान में विस्तृत प्रावधान रखे हैं। राष्ट्रपति पाँच वर्ष की अवधि हेतु परोक्षतः चुना जाता है और संसद द्वारा उसके विरुद्ध प्रस्तुत महाभियोग कार्रवाइयों के आधार पर ही उसे हटाया जा सकता है। संविधान एक उप-राष्ट्रपति के पद की भी व्यवस्था देता हैय वह भी परोक्षतः चुना जाता है और राष्ट्रपति की अक्षमता अथवा मृत्यु की दशा में राज्य-प्रमुख के रूप में कार्य करता है।
अर्हताएँ
भारतीय संविधान के अनुच्छेद 58 व 59 भारत के राष्ट्रपति पद हेतु अर्हताएँ निर्धारित करते हैं। राष्ट्रपति पद हेतु प्रत्याशी भारत का नागरिक हो, 35 वर्ष आयु पूरी कर चुका हो और वे सब योग्यताएँ रखता हो जो एक लोकसभा का सदस्य बनने के लिए आवश्यक हैं। वह चुनाव के समय न तो संघ, राज्य अथवा स्थानीय सरकारों के तहत कोई लाभ का पद ग्रहण किए हो, न ही वह संसद अथवा राज्य विधानसभा के किसी सदन का सदस्य/ की सदस्या हो। इसके अलावा, प्रत्याशी के पास वे अन्य योग्यताएँ भी हों जो संसद द्वारा समय-समय पर निर्धारित की गई हों।

परिचय
भारत सरकार की कार्यकारी शक्ति भारत के राष्ट्रपति में निहित है, जो औपचारिक राज्य-प्रमुख तथा देश का प्रतीक, दोनों होता है। भारतीय संविधान, तथापि, समुचित शासनाधिकार दिए बिना राष्ट्रपति पद को प्रभुत्व और प्रतिष्ठा प्रदान करता है। जबकि राष्ट्रपति अनिवार्यतः एक औपचारिक भूमिका ही निभाता है। प्रधानमंत्री वास्तविक कार्यकारी शक्ति का प्रयोग करता है। जबकि राष्ट्रपति राज्य प्रमुख होता है, प्रधानमंत्री सरकार प्रमुख होता है। राष्ट्रपति प्रधानमंत्री की मदद और सलाह से ही सरकार के वास्तविक कार्य संपादित करता है। एक राजनीति-शास्त्री के अवलोकनानुसार, औपचारिक पद में निहित कार्यकारी शक्तियों का प्रयोग करना राष्ट्रपति के लिए देश के उच्चतम पदाधिकारी में रखी जाने वाली आस्था का दुरुपयोग और अपमान करना ही होगा। कार्यकारिणी के इन दो महत्त्वपूर्ण पदों के पदाधिकारी किस प्रकार मनोनीत किए अथवा चुने जाते हैं? भारतीय राजनीतिक व्यवस्था में राष्ट्रपति तथा प्रधानमंत्री की क्या स्थिति है? भारत विद्यमान जैसी एक संसदीय प्रणाली में कार्यपालिका तथा विधायिका के बीच क्या संबंध है? ये कुछ प्रश्न हैं जिनका उत्तर हम इस इकाई में तलाशेंगे।

कार्यपालिका
इकाई की रूपरेखा
उद्देश्य
परिचय
भारत का राष्ट्रपति
अर्हताएँ
चुनाव-विधि
राष्ट्रपति का कार्यकाल तथा पदच्युति
राष्ट्रपति की शक्तियाँ
आपात्कालीन शक्तियाँ
प्रधानमंत्री
मंत्रिपरिषद् तथा मंत्रिमण्डल
सामूहिक उत्तरदायित्व
मंत्रिमंडल तथा संसद
प्रधानमंत्री की शक्ति तथा प्रभाव के स्रोत
राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री
सारांश
कुछ उपयोगी पुस्तकें
बोध प्रश्नों के उत्तर

 उद्देश्य
सभी संसदीय प्रणालियों की ही भाँति, भारत में भी एक नाममात्र की तथा वास्तविक, दोनों प्रकार की कार्यकारिणी है। इस इकाई में भारत के राष्ट्रपति पद तथा प्रधानमंत्री के नेतृत्व में मंत्रिपरिषद् की जाँच-परख है। इस इकाई को पढ़ने के बाद आप इस योग्य होंगे कि:
ऽ भारत के राष्ट्रपति की शक्तियों का वर्णन कर सकें।
ऽ भारत के राष्ट्रपति की निर्वाचन प्रक्रिया को स्पष्ट कर सकें,
ऽ मंत्रिपरिषद् के संयोजन तथा प्रकार्यों का वर्णन कर सकें,
ऽ प्रधानमंत्री की शक्ति एवं प्रभाव के स्रोतों को पहचान सकें, और
ऽ भारतीय राजनीतिक व्यवस्था में राष्ट्रपति तथा प्रधानमंत्री की स्थिति पर चर्चा कर सकें।