ओजोन अवक्षय परत व इसके प्रभाव कारण ,  प्रभाव रोकथाम के उपाय Ozone depletion layer

Ozone depletion layer ओजोन अवक्षय परत व इसके प्रभाव , कारण ,  प्रभाव(effects) , रोकथाम के उपाय/प्रयास

क्षोभमण्डल में मौसम संबंधी परिवर्तन होते है। जबकि समताप मण्डल में ताप लगभग स्थिर रहता है। तथा इसमें अच्छा ओजोन पाया जाता है जो हानिकारक पराबैंगनी विकिरणों से हमारी रक्षा करता है ओजोन परत की मोटाई इकाई डॉबसन यूनिट (du) है।

 ओजोन अवक्षय परत व इसका कारण:-

ओजोन परत की मोटाई में कमी आने के कारण ओजोन स्थिर पतला होता जाता है इस क्रियाको ओजोन अवक्षय कहते है।

अटाँर्कटिका क्षेत्र में ओजोन की खतबस्तुत अधिक पतली हो गयी है तथा इसे ओमोन छिद्र कहते है।

पराबैंगनी किरणों की उपस्थिति में ओजोन आॅक्सीजन में विघटित होती रहती है तथा पुनः ओजोन का निर्माण भी होता रहता है।

O3  ⇌  O2  + O  (UV की उपस्थिति में )

CFC से UV की उपस्थिति में क्लोरीन मुक्त होती है जो ओजोन के अपघटन में उत्प्रेरक के रूप में काम आती है CFC की उपस्थिति में यह एक सतत् एवं स्थाई किया है इस प्रकार ओजोन परत की मोटाई में कमी आ जाती है।

CFC → Cl उत्प्रेरक

प्रभाव(effects):-

छोटी तरंग दैध्र्य की पराबैंगनी किरणें ओजोन परत के द्वारा अवशोषित हो जाती है किन्तु न्ट.ठ किरणें ओजोन परत के पतले होने के कारण पृथ्वी की सतह तक पहुंचती है तथा हानिकारक प्रभाव उत्पन्न करती है जो निम्न है:-

1     क्षतिग्रस्त हो जाता है तथा इसमें उत्परिवर्तन हो सकता है

2     त्वचा कैसर हो सकता है।

3     हिम अंधता मोतियाबिद हो जाता है। तथा काॅर्निया क्षतिग्रस्त हो सकता है।

 रोकथाम के उपाय/प्रयास(Prevention measures / efforts):-

ओजोन अबक्षय को रोकने के लिए अन्र्तराष्ट्रीय प्रयास किये गये। माॅस्ट्रियल कना में 1987 में एक अन्तराष्ट्रीय संधि पर हस्ताक्षर किये गये जिसे माॅस्ट्रियल प्रोटोकाल कहते है।

यह संधि 1999 में लागू हुई तथा इसमें विकसित एवं विकासशील देशों के लिए अलग-2 मानक रखते हुये यह तय किया गया कि व अन्य ओजोन अवक्षयाकारी तत्वों के उत्सर्जन में कमी की जाये।

One thought on “ओजोन अवक्षय परत व इसके प्रभाव कारण ,  प्रभाव रोकथाम के उपाय Ozone depletion layer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!