वाक्यांश के लिए एक शब्द बताइए | वाक्यांशों के लिए एक शब्द किसे कहते हैं , परिभाषा क्या है one word substitution in hindi

By  

one word substitution in hindi वाक्यांश के लिए एक शब्द बताइए | वाक्यांशों के लिए एक शब्द किसे कहते हैं , परिभाषा क्या है उदाहरण ?

वाक्यांश के लिए एक शब्द
कम-से-कम शब्दों में अपनी बात कहने के लिए ऐसे शब्द प्रयुक्त किये जाते हैं, जो किसी वाक्यांश के अर्थ को पूरी तरह व्यक्त करने में समर्थ होते हैं। यहाँ ऐसे शब्दों की सूची प्रस्तुत है, जो वाक्यांश के स्थान पर प्रयुक्त किये जाते हैं-
अतिथि जिसके आने की कोई तिथि (पहले से) पता न हो।
अज्ञ – जो कुछ भी नहीं जानता हो।
अल्पज्ञ –  जो बहुत कम जानता हो।
अप्रत्याशित –  जिसकी आशा न की गई हो।
आशातीत आशा से अधिक।
अधिनियम विधायिका द्वारा स्वीकृत नियम ।
अनित्य जो नित्य न हो (नाशवान)।
अध्यादेश निश्चित अवधि के लिए लागू किया गया आदेश।
अतुलनीय जिसकी तुलना न की जा सके।
अनुपम जिसकी उपमा न की जा सके।
अपठित जो पहले पढ़ा हुआ न हो।
अपठनीय जिसे पढ़ा न जा सके।
अस्तबल जहाँ घोड़े बाँधे जाते हों।
अस्त्रागार जहाँ अस्त्र रखे जाते हों।
अंतेवासी वे शिष्य जो आचार्य के पास (गुरुकुल) में रहते हैं।
अप्सरा स्वर्ग की सुन्दरी।
अगोचर जो इन्द्रियों से परे हो।
अविवेकी जिसे भले-बुरे का ज्ञान न हो।
आपादमस्तक पैर से लेकर मस्तक तक।
अन्तरिक्ष धरती और आकाश के बीच का स्थान।
आधुनिक जिसकी सोच नए जमाने की हो।
अनाहूत जिसे बुलाया न गया हो।
अद्वितीय जिसके समान कोई दूसरा न हो।
अनिर्वचनीय जिसे वाणी द्वारा व्यक्त न किया जा सके।
अभूतपूर्व जैसा पहले कभी न हुआ हो।
अजातशत्रु जिसका कोई शत्रु उत्पन्न ही न हुआ हो ।
अन्तर्यामी जो मन की बात जानता हो।
आध्यात्मिक जिसका सम्बन्ध अध्यात्म से हो ।
आत्मिक जिसका सम्बन्ध आत्मा से हो।
अप्रवासी देश का वह व्यक्ति जो विदेश में रहता हो ।
अपव्ययी व्यर्थ का खर्च करने वाला।
अयाचित जिसकी याचना न की गयी हो।
आजानुबाहु घुटनों तक लम्बी बाँहों वाला।
आलोचक गुण-दोष का विवेचक ।
अन्त्यज जिसका जन्म निम्न वर्ण में हुआ हो ।
अधोहस्ताक्षरीजिसके नीचे हस्ताक्षर हैं।
अनुवाद एक भाषा के भाव-विचार दूसरी भाषा में व्यक्त करना।
अनामिका कनिष्ठिका और मध्यमा के बीच की अंगुली।
अधिसूचना सरकारी गजट में छपी सूचना ।
अपराह्न दोपहर के बाद का समय ।
अपरिहार्य जिसका परिहार करना सम्भव न हो।
अनायास बिना प्रयास के।
अग्रज पहले जन्म लेने वाला।
अनुज पीछे (बाद में) जन्म लेने वाला।
आशुकवि जो तुरंत कविता कर सके।
अवज्ञा आदेश की अवहेलना।
अभियुक्त जिस पर अभियोग लगाया गया हो।
अपराधी जिसका अपराध सिद्ध हो गया हो।
अपरिग्रह आवश्यकता से अधिक ग्रहण न करने की वृत्ति ।
आक्रान्ता जिसने आक्रमण किया हो।
आद्योपान्त आदि से अन्त तक।
अंकशायिनी वह स्त्री जो (पति या नायक की) गोद में सोती है।
अश्वारोही घोड़े पर सवार व्यक्ति।
अपारदर्शी जिसके आर-पार न देखा जा सके।
अस्त्र फेंककर चलाया जाने वाला हथियार ।
अवैध जो विधिसम्मत न हो।
अवध्य जो वध करने योग्य न हो।
अनिश्चित जिसके बारे में कुछ निश्चित हो ।
अच्युत जो कभी च्युत (स्थान से गिरना) न हुआ हो ।
अनुगामी पीछे चलने वाला। अनर्घ्य जिसकी कीमत कम हो।
अणिमा वह सिद्धि जिससे शरीर को अत्यंत सूक्ष्म (छोटा) बनाया जा सके।
अकथित जो कहा न गया हो।
अटल जो अपनी बात से न टले ।
अनिवार्य जिसका निवारण न किया जा सके।
अजेय जिसे जीता न जा सके, न जीतने योग्य ।
अनुर्वर जिस जमीन में कुछ उपजता न हो।
आग्नेयी पूर्व-दक्षिण के बीच की दिशा, अग्नि की पत्नी (स्वाहा)
आजीवन जीवन पर्यन्त
अंतर्कथा कथा (या प्रसंग) के बीच में आने वाली कथा ।
अंडज जो अंडे से जन्म लेता है।
आप्तकाम जिसकी सभी कामनाएँ पूर्ण हो चुकी हों।
आद्यंत आदि से अंत तक।
आमंत्रित जिसे किसी ने निमंत्रित किया हो।
आसेतु हिमालय सेतुबंध (रामेश्वर) से लेकर हिमालय तक।
आबालवृद्ध बालक से वृद्ध तक सभी।
आगतपतिका वह नायिका (स्त्री) जिसका पति परदेश से आ गया
हो।
अंतक जीवन का अंत करने वाला (यमराज)।
अंजलिका हाथ जोड़कर प्रणाम करने की क्रिया ।
अंतपुर राजमहल के भीतर का भाग (रनिवास)।
अंतरिम दो कालों के बीच का समय।
अंतेवासी गुरु के समीप (आश्रम में) रहने वाला छात्र।
आयात विदेश से सामान मँगाना।
इन्दीवर नीले रंग का कमल।
ईशान उत्तर-पूर्व के बीच का कोण (दिशा)।
ईर्ष्यालु जो दूसरों से ईर्ष्या करता है।
इन्द्रजीत जिसने इन्द्र को जीत लिया हो।
इन्द्रियातीत इन्द्रियों से परे।
इतिवृत्त वह कथा जो क्रमानुसार हो।
इहलौकिक जो इस लोक से सम्बन्धित हो।
ईप्सा मन की इच्छा।
इच्छुक मन में कोई इच्छा रखने वाला।
इन्द्र देवताओं में जो श्रेष्ठ है (सुरेन्द्र)।
इमामवाड़ा ताजिए रखने की जगह।
इमाम मस्जिद में नमाज पढ़ाने वाला।
ऊसर जिस भूमि में कुछ भी पैदा न होता हो।
उर्वर उपजाऊ भूमि।
उरग छाती के बल चलने वाला।
उदयाचल वह पर्वत जहाँ से सूर्य उदित होता है।
उच्छिष्ट भोजन के बाद बची जूठन ।
उऋण जिसने ऋण चुका दिया हो ।
उपर्युक्त ऊपर कहा हुआ।
उपरिलिखित ऊपर लिखा हुआ।
उल्लेख ऊपर लिखा गया लेख।
उभयनिष्ठ जिसकी निष्ठा दोनों ओर हो।
उपकृत किसी के उपकार से दबा हुआ।
उद्धारक उद्धार करने वाला।
उदारमना जिसका मन उदार हो।
उषाकाल अरुणोदय पूर्व की लालिमा का समय ।
उपमान जिससे उपमा दी जाय।
उपमेय जिसकी उपमा उपमान से दी जाए, उपमा देने योग्य।
उपासक जो उपासना करता है।
उपास्य जिसकी उपासना की जाए, उपासना करने योग्य ।
उपकारी जो उपकार करने की वृत्ति रखता है।
उद्भिज धरती फोड़कर जन्म लेने वाला (वृक्ष)।
उपादान वह सामग्री जो वस्तुओं के निर्माण में काम आती है।
उत्क्षिप्त ऊपर की ओर फेंका गया।
उच्चतम जो सबसे ऊँचा (बड़ा) हो।
उच्छ्वास ऊपर की ओर आने (ली जाने वाली सांस ।
ऊर्ध्वगामी ऊपर की ओर जाने वाला।
ऐरावत इन्द्र का हाथी।
ऐन्द्रिक जिसका सम्बन्ध इन्द्रियों से हो।
एकपक्षीय एक पक्ष से सम्बन्धित ।
एकाक्षी एक आँख वाला।
ऐहिक जो इस लोक से सम्बन्धित हो ।
कसेरा बर्तन बेचने वाला।
कुशाग्र तीव्र बुद्धि वाला।
कूपमण्डूक बहुत कम जानने वाला, अपने स्थान पर सीमित ।
कृतसंकल्प जिसने संकल्प किया है।
कृतज्ञ उपकार को मानने वाला।
कृतघ्न उपकार को न मानने वाला।
किंकर्तव्यविमूढ़ जिसे कर्तव्य का बोध न हो।
कुलटा चरित्रहीन स्त्री।
कली बिना खिला फूल।
कुमारी अभी जिसका विवाह न हुआ हो ऐसी कन्या।
कुलीन जो अच्छे कुल में उत्पन्न हुआ हो।
कुलांगार कुल को नष्ट (या कलंकित) करने वाला।
कृतार्थ जिसने अपना कर्तव्य कर लक्ष्य प्राप्त कर लिया हो।
कृतकृत्य कार्य पूरा करने पर जो प्रसन्न हो।
खाद्यान्न खाने योग्य अन्न।
खण्डित जिसका कोई भाग टूट गया हो।
खण्डिता वह नायिका, जिसका पति किसी अन्य स्त्री के साथ
रात बिताकर प्रातःकाल रमण के चिह्नों से युक्त
होकर घर लौटा हो।
खग्रास ऐसा ग्रहण जिसमें सूर्य पूरा ढक गया हो।
खाद्य जो खाने योग्य हो।
खेचर जो आकाशचारी हो।
खड्गहस्त जो सदैव हाथ में तलवार रखता हो।
गरिष्ठ शीघ्र न पचने वाला भोजन ।
गोचर जहाँ तक इन्द्रियों की पहुँच हो ।
गेय जिसे गाया जा सके।
गोधूलि संध्या और रात्रि के बीच की वेला ।
गंगोत्री गंगा का उद्गम स्थल।
गूंगा जो बोल न सके।
गणिका शरीर बेचने वाली स्त्री (वेश्या)।
ग्रामीण गाँव का निवासी।
गोपनीय छिपाने योग्य विषय या बात ।
गुरुत्वाकर्षणपृथ्वी की वह शक्ति, जिससे वह किसी वस्तु को अपनी ओर खींचती है।
गीतिनाट्य अभिनय एवं गायन के द्वारा प्रस्तुत की जाने वाली नाट्य रचना।
गगनचुंबी आकाश को छूने वाला (बहुत ऊँचा)।
गांगेय गंगा के पुत्र (भीष्म या देवव्रत)।
गुरुडम दूसरों से पूजा करवाने की वृत्ति ।
गुरुमुखी पंजाबी भाषा की लिपि।
गीतिरूपक वह रूपक जिसमें गद्य रूप कम हो, गेयता अधिक हो।
गीतिकाव्य वह काव्य जिसमें गीति तत्व (गेयता) अधिक हो।
घृणित जो घृणा का पात्र हो।
घृणास्पद जो घृणा के योग्य हो।
घूसखोर घूस (रिश्वत) लेने वाला व्यक्ति ।
घसियारा घास खोदकर जीवन-यापन करने वाला व्यक्ति ।
घनश्याम बादल की तरह रंग वाला (कृष्ण)
चक्रवात चक्राकार घूमती तेज हवाएँ।
चन्द्रशेखर जिसके मस्तक पर चन्द्रमा हो।
चिरंतन जो चिरकाल से चला आ रहा है।
चिन्तनीय चिन्ता करने योग्य ।
चिरंजीव जो चिरकाल तक जीवित रहे।
चम्पू गद्य-पद्य मिश्रित रचना।
चन्द्रमौलि जिसके मस्तक पर चन्द्रमा हो ।
चिह्नित जिस पर चिन्ह लगाया गया हो।
चतुष्पद जिसके चार पैर हों (जानवर)।
चतुष्पथ चार रास्ते जहाँ मिलते हों।
चर्चित जो चर्जा का विषय हो।
चितचोर चित्त को चुराने वाला।
चतुर्वेदी चारों वेदों को जानने वाला।
छापामार छिपकर आक्रमण करने वाला।
छिद्रान्वेषी दूसरों के दोष ढूँढ़ने वाला।
जिजीविषा जीवित रहने की इच्छा। जानने की इच्छा।

जिज्ञासा जीतने की इच्छा।
जिगीषा जल में रहने वाला प्राणी।
जठराग्नि पेट की वह आग जो भोजन को पचाती है।
जनश्रुति लोगों से सुनी हुई बात।
जितेन्द्रिय जिसने इन्द्रियों को जीत लिया हो।
जलद जल बरसाने (देने) वाला।
टकसाल जहाँ सिक्के ढाले जाते हैं।
त्रिवेणी गंगा, यमुना, सरस्वती (नदियों) का संगम ।
तस्कर चोरी-छिपे माल ले जाने वाला।
त्रैमासिक जिसकी आवृत्ति तीन महीने में एक बार होती हो ।
तीर्थकर ज्ञान में प्रवेश का मार्गदर्शन करने वाला।
त्रिकालदर्शी भूत, भविष्य, वर्तमान तीनों कालों को देख सकने वाला।
त्यागपत्र पद-त्याग हेतु भेजा गया पत्र ।
तितीर्षा तैरने की इच्छा।
तुलनीय तुलना करने योग्य ।
तुरंग वेग से चलने वाला (घोड़ा)।
तटस्थ निष्पक्ष रहने वाला।
तत्वबोधिनी वह साधना जिसके द्वारा तत्व ज्ञान प्राप्त हो सके।
त्याज्य जो त्यागने योग्य हो।
तूणीर बाण रखने का खोल (तरकस)।
त्राता जिसने किसी आर्त व्यक्ति की पुकार सुनकर उसकी रक्षा
की हो।
दुराचारी जो बुरा आचरण करता है।
दुर्बोध जो कठिनाई से समझ में आए ।
दुराग्रह अनुचित बात के लिए किया गया आग्रह ।
दुः साध्य जिसका उपचार कठिन हो।
दुव्र्यसनी जिसमें तमाम व्यसन हों।
दुष्कर जिसे कर पाना कठिन हो।
दावाग्नि वन (जंगल) में लगने वाली आग ।
दुस्तर जिसे पार करना कठिन हो।
दुर्दम्य जिसका दमन करना कठिन हो।
दम्पति पति-पत्नी का युग्म।
दत्तक जिसे गोद लिया गया हो।
दुर्निवार जिसका निवारण करना कठिन हो।
दुर्गम जहाँ जाना (पहुँचना) कठिन हो।
दुर्मिक्ष वह समय जब कठिनाई से भिक्षा मिलती है (काल)।
दामोदर जिसके पेट में, माँ ने रस्सी बाँध दी हो (कृष्ण)।
दुभाषिया दोनों पक्षों (व्यक्तियों) की भाषा समझकर एक-दूसरे की भाषा में अनुवाद करके समझाने वाला।
देवनागरी हिन्दी भाषा की लिपि
दावानल जंगल में लगने वाली आग।
दीक्षांत दीक्षा के अंत में होने वाला समारोह ।
दौहित्र पुत्री का पुत्र।
दौहित्री पुत्री की पुत्री।
द्विपद दो पैरों वाला (आदमी)
दिदृक्षा देखने की इच्छा।
दित्सा देने की इच्छा ।
दुर्भागया जिस स्त्री का भाग्य खराब हो।
द्वैपायन जिसका जन्म द्वीप पर हुआ हो ।
द्विवेदी दो वेदों का जानकार।
दुरभिसंधि दुष्टता से की गई साजिश ।
दशानन दश आनन वाला (रावण)।
दुष्पाचय जो कठिनाई से पचता हो ।
दु्रतगामी तीव्र गति से चलने वाला।
दुर्लभ जो कठिनाई से प्राप्त हो ।
दीर्घसूत्री जो विलम्ब से काम करे।
धर्मादा धर्म के लिए दिया जाने वाला धन ।
धर्मशाला जहाँ यात्रियों को निःशुल्क ठहराया जाता हो वह स्थान।
धनुर्धारी धनुष को धारण करने वाला।
धीरोदात्त ऐसा नायक जिसमें धैर्य के साथ-साथ उदात्त गुण हो
धु्रव जो अपने स्थान पर अटल रहे।
नवोढ़ा ऐसी नायिका जिसमें लज्जा की अधिकता हो ।
नववधू ऐसी स्त्री जिसका विवाह अभी हुआ हो।
निरापद जिससे कोई हानि न हो।
निशीथ अर्द्धरात्रि का आकाश।
निर्निमेष बिना पलक झपकाए एकटक देखना ।
नास्तिक जो ईश्वर में विश्वास नहीं करता हो।
निर्विकार जो विकार रहित हो।
नश्वर जो नाशवान हो।
नवजात जो अभी (नया-नया) उत्पन्न हुआ है।
निर्मम जो ममता से रहित हो।
निर्दय जो दया से रहित हो।
निर्धन जो धन से रहित हो।
निन्दनीय जो निन्दा करने योग्य हो।
निशाचर जो रात्रि में विचरण करता हो।
निरुद्देश्य जिसका कोई उद्देश्य न हो।
निरुत्साह जिसमें उत्साह न हो।
नीतिज्ञ जो नीति का ज्ञाता हो।
निर्जीव जिसमें जीवन न हो।
निर्मत्सर जिसके मनमें मत्सर (ईर्ष्या) न हो।
नवोदित जिसका उदय अभी हाल में हुआ हो।
निस्पृह जिसमें कोई स्पृहा (इच्छा) न हो।
नेपथ्य रंगमंच पर पर्दे के पीछे का स्थान ।
निःसंतान जिसके कोई संतान ही न हो।
निःशुल्क जिस काम के लिए कोई शुल्क न दिया (लिया) जाय। ननिहाल नाना-नानी का घर।
नासेतुद जिसके शरीर पर आघात न लगे।
निरीस जो बड़ों का आदर करना न जानता हो।
परिव्राजक घूमने-फिरने वाला साधु ।
परकीया परपुरुष से प्रेम करने वाली स्त्री।
पदच्युत जिसे पद से हटा दिया गया हो।
पाण्डुलिपि पुस्तक का हाथ से लिखा गया मसौदा।
परोक्ष जो प्रत्यक्ष न हो।
प्रत्यक्ष जो आँख के सामने हो।
पारदर्शी जिसके आर-पार देखा जा सके।
पथ्य रोगी का भोजन।
पथभ्रष्ट जो अपने पथ (लक्ष्य) से भटक गया हो।
पाशविक पशुओं जैसा आचरण करने वाला।
पेय जिसे पिया जा सके।
पैतृक जो पिता से प्राप्त हो।
प्रदोष रात्रि का प्रथम प्रहर।
पार्थय रास्ते का भोजन जो यात्री साथ लाते हैं।
प्रवासी देश का वह व्यक्ति जो परदेश में रहता हो ।
प्रत्युत्पन्नमति जिसे तुरन्त उत्तर सूझ जाए।
प्रत्यागत जो लौट गया हो।
पृष्टव्य जो पूछने योग्य हो।
प्रधानमंत्री मंत्रियों में प्रधान (च्तपउम डपदपेजमत)
प्रोषितपतिका जिस नायिका (स्त्री) का पति परदेश गया हो।
प्राध्यापक प्रकृष्ट (बड़ा) अध्यापक जो किसी कालेज या
विश्वविद्यालय में पढ़ाता हो।
प्रयोगशाला वैज्ञानिक प्रयोग जहाँ किए जाते हैं, वह स्थान ।
पेय जो पीने योग्य हो।
बंध्या ऐसी स्त्री जो सन्तान को जन्म ही न दे सके।
बेरोजगार जो किसी भी रोजगार से रहित हो।
बहुभाषाविद् बहुत सारी भाषाओं को जानने वाला।
बड़वाग्नि समुद्र में लगने वाली आग।
बहुश्रुत ऐसा व्यक्ति जिसने बहुत से शास्त्र सुने हों।
बहुमूल्य जिसका मूल्य बहुत अधिक हो।
बेखबर जिसे किसी बात की खबर न हो।
बहिष्कृत जिसे जाति या समाज से बाहर निकाल दिया गया हो।
बीतराग जो सभी राग-द्वेषों से मुक्त हो।
ब्रह्ममुहूर्त सूर्योदय से पूर्व की दो घड़ी का समय ।
भूतपूर्व जो पहले (पद पर) था।
भूगर्भवेत्ता जिसे पृथ्वी के भीतर की जानकारी हो।
भैरवी प्रातःकाल गायी जाने वाली रागिनी ।
भुक्तभोगी जो किसी स्थिति को पहले भोग चुका हो ।
मध्याह्न दोपहर का समय।
मुमुक्षु मोक्ष का इच्छुक।
मद्यप शराब पीने वाला।
मृत्युंजय जिसने मृत्यु को जीत लिया हो।
मरुस्थल जहाँ केवल रेत हो।
मूकदर्शी चुपचाप (बिना हस्तक्षेप किये) देखने वाला।
मेघनाद मेघ के समान नाद (गर्जना) करने वाला।
महात्मा जिनकी आत्मा महान् हो।
मृगनयनी मृग जैसे नेत्रों वाली।
मितव्ययी सीमित व्यय करने वाला।
मातृहन्ता माता को मारने वाला।
मृदुभाषी मृदु वचन बोलने वाला।
मधुभाषी मधुर वचन बोलने वाला।
मुमूर्षा मरने (मृत्यु) की इच्छा।
मनोवृत्ति मन की वृत्ति।
महत्वाकांक्षी जिसकी इच्छाएँ बहुत हों।
मेघनाद मेघ की तरह नाद करने वाला।
मेधावी असाधारण मेधा (बुद्धि) वाला व्यक्ति
मातृहंता माता की हत्या करने वाला
महामना जिसका मन महान हो।
मीनाक्षी मीन जैसे नेत्रों वाली।
मुख्यमंत्री किसी प्रदेश के मंत्रियों का प्रधान (मुख्य)
मुकदमेबाज जो मुकदमा लड़ता रहता हो
माननीय जो मान के योग्य हो।
यायावर निरन्तर यात्रा करते रहने वाला व्यक्ति
युयुत्सा युद्ध की इच्छा।
युधिष्ठिर युद्ध में स्थिर (बुद्धि) रहने वाला।
युगद्रष्टा अपने युग का ज्ञान रखने वाला।
यूप बलि पशु को बाँधने वाला खम्भा
यथाविधि विधि के अनुसार
यौवन युवा होने की अवस्था।
यशस्वी यश प्राप्त व्यक्ति।
युद्धपोत नौसेना का जहाज।
यथासाध्य जहाँ तक सध सके।
यथाशक्ति शक्ति के अनुसार।
युयुत्सु युद्ध का इच्छुक।
रोमांचकारी जिसे देखकर रोमांच हो जाए।
रंगशाला जहाँ बैठकर नाटक देखा जाता है।
राजस्व कर से प्राप्त सरकारी धन।
रतौंधी रात में दिखाई न देने वाला रोग।
राजपत्र सरकार द्वारा प्रकाशित गजट ।
राष्ट्रपति किसी देश का सबसे बड़ा राज्याधिकारी (च्तमेपकमदज)।
रंगमंच जहाँ नाटक का मंचन होता है।
रेचक खाली करने वालाध्वाली।
रिक्थ उत्तराधिकार में प्राप्त सम्पत्ति ।
राजद्रोह राजाध्राज्य के प्रति किया गया द्रोह ।
रक्तरंजित रक्त से सना हुआ।
राजनीतिज्ञ राजनीति की जानकारी रखने वाला।
राजदंड वह दंड जिससे राज्य चलाया जाता है।
लोमहर्षक जिसे देखकर रोम (लोम) खड़े हो जाएँ।
लाइलाज जिस रोग का कोई इलाज न हो।
लौकिक इस लोक से सम्बन्धित ।
लोकगीत लोक में प्रचलित गीत।
लब्धप्रतिष्ठ जिसने प्रतिष्ठा प्राप्त कर ली हो।
लौहपुरुष जो पुरुष लोहे जैसा दृढ़ (मजदूत) इरादे वाला है।
लिप्सा पाने की इच्छा।
लोकतंत्र वह शासन प्रणाली जो लोक (मत) पर आधृत है।
लकड़हारा लकड़ी काटकर जीवन-यापन करने वाला।
विधुर जिस पुरुष की पत्नी मर गई हो।
विधवा जिस स्त्री का पति मर गया हो।
वीणापाणि जिसके हाथ में वीणा हो।
विकलांग जिसका कोई अंग दोषपूर्ण अथवा टूटा-फूटा हो
वैष्णव विष्णु का उपासक (भक्त)।
विश्वसनीय जो विश्वास करने योग्य हो।
वैध जो विधि के अनुकूल हो।
विदुषी विद्वान् एवं ज्ञानी महिला।
वंदनीय जो वंदना के योग्य हो।
वाचाल बहुत ज्यादा बोलने वाला।
विस्थापित जिसे अपने मूल स्थान से हटाकर अन्यत्र बसाया गया हो।
विवादित जो विवाद का विषय हो।
विवक्षा बोलने की इच्छा।
विपक्षी प्रतिपक्षी व्यक्ति।
विधिप्रदत्त विधि द्वारा प्रदत्त।
विधिसंगत जो विधि द्वारा उपयुक्त (संगत) ठहराया गया हो।
विजित जो जीत लिया गया हो।
वायुयान वायु में चलने वाला यान।
वाहक सामान ढोने वाला व्यक्ति ।
व्याख्याता जो किसी विषय की व्याख्या करे।
व्यभिचारी परस्त्री से अनुचित सम्बन्ध रखने वाला।
शरणागत जो शरण में आया हो।
शरणार्थी जो शरण का इच्छुक (प्रार्थी) हो ।
शासकीय जिसका सम्बन्ध शासन से हो।
शाश्वत् जो सदैव रहता है।
शताब्दी सौ वर्ष का समय।
शैव भगवान शिव का भक्त (उपासक)।
शाक्त जो शक्ति का उपासक (भक्त) हो
शिलालेख शिला (पत्थर) पर लिखा लेख ।
श्मशान वह स्थान जहाँ मुर्दे (शव) जलाए जाते हैं।
शयनागार सोने का कमरा (ठमक त्ववउ)
शिक्षक जो शिक्षा प्रदान करे।
शाकाहारी जो शाक (सब्जी) खाता हो, निरामिषभोजी।
शूर्पणखा जिसके नख सूर्प (सूप) के समान हो ।
शिक्षार्थी जिसका प्रयोजन शिक्षा प्राप्त करना हो।
शिरोधार्य सिर पर धारण करने योग्य ।
शहीद देश पर मरने वाला।
सर्वज्ञ सब कुछ जानने वाला।
सार्वजनिक जिसका सम्बन्ध सर्वजन (जनता) से हो।
समशीतोष्ण समान रूप से ठण्डा और गर्म ।
सनातन जो सदा से चला आ रहा हो।
संक्रामक संक्रमण से फैलने वाला (रोग)।
समदर्शी समान दृष्टि से देखने वाला।
सहोदर एक ही माँ की सन्तान ।
सपत्नीक पत्नी के साथ।
सव्यसाची जो बाएँ हाथ से बाण चलाने में कुशल हो।
स्त्रैण स्त्रियों जैसी आदत वाला।
संगीतज्ञ संगीत जानने वाला।
सँपेरा साँप को पकड़ने वाला तथा साँप का खेल दिखाने वाला।
सुलभ जो आसानी से प्राप्त हो।
संदिग्ध जिसके संबंध में संदेह हो।
सहोदर एक ही उदर से जन्म लेने वाले ।
सुपाठ्य जो आसानी से पढ़ा जा सके।
सूत्रधार जो कठपुतली का सूत्र धारण करता है।
संश्लेषण अलग-अलग अवयवों को परस्पर जोड़ना।
सद्यः प्रसूता जिसने अभी-अभी बच्चे को जन्म दिया हो।
संगम जहाँ दो या अधिक नदियाँ मिलती हों।
सारस्वत जो सरस्वती से सम्बन्धित हो।
स्थानापन्न जिसने आकर किसी दूसरे का स्थान लिया हो।
सार्वभौम जिसका सम्बन्ध सम्पूर्ण भूमि से हो।
समकालीन एक ही समय के व्यक्ति।
हवि हवन की जाने वाली सामग्री।
हस्तगत जो हाथ में आ गया हो।
हंसवाहिनी हंस जिसका वाहन हो ऐसी स्त्री।
हंसगामिनी हंस की तरह चलने वाली स्त्री।
हस्तलिखित जो हाथ से लिखा गया है।
हस्तक्षेप अन्य के कार्य में दखल देना।
हस्तान्तरित दूसरे के हाथ सौंपना।
हितैषी हित की इच्छा रखने वाला।
हरावल सेना का वह दस्ता जो सबसे आगे रहता है।
हास्यास्पद हँसने योग्य।
हस्तलाघव हाथ की चतुराई।
हौंदा हाथी की पीठ पर बैठने के लिए रखी जाने वाली
चैकी।
क्षम्य क्षमा करने योग्य।
क्षणभंगुर क्षण में टूट जाने वाला।
क्षुधातुर जो भूख से व्याकुल हो।
त्रिपथगा तीन पथों से जाने वाली (गंगा)।
त्रिवेदी तीन वेदों को जानने वाला।
त्रिकालज्ञ तीनों कालों की बात जानने वाला।
त्रिकुटी दोनों भौंहों के बीच का स्थान ।
त्रिनेत्र तीन नेत्रों वाला (भगवान शंकर)।
त्रिपदी तीन टाँगों (पैरों) वाली तिपाई।
ज्ञेय जो जाना जा सके।
ज्ञाता जिसे पता हो (जानकारी हो)।
ज्ञातव्य जो जानने योग्य है।