logic gate (तार्किक द्वार) क्या है ये कितने प्रकार के होते है , प्रतीक चिन्ह और सत्यमान सारणी

By  

प्रश्न 1 : सिग्नल कितने प्रकार की है। समझाइये।

उत्तर :  signal दो प्रकार के होते है।

  1. अनुरूप सतत:- ये ऐसे सिग्नल है जिसमें चार राशि जैसे वोल्टेज धारा आदि का मान समय के अनुसार निरन्तर प्राप्त होता है जब ध्वनि को विद्युत संकेतों में परिवर्तित करते है तो ऐसे ही सिग्नल प्राप्त होते है।

डाइग्राम

  1. आंकिक सिग्नल (डिजिटल):- ये ऐसे सिग्नल है जिनमें चर राशि का मान तक निश्चित समय अन्तराल के बाद ही प्राप्त होता है इसमें सिग्नल 0 और 1 अवस्था में प्राप्त होते है। 0 का तात्पर्य राशि प्राप्त नहीं होना है जबकि अवस्था 1 का तात्पर्य राशि का अधिकतम मान प्राप्त होना है।

डाइग्राम

प्रश्न 2 :  logic gate (तार्किक द्वार) क्या है ये कितने प्रकार के होते है। इनके प्रतीक चिन्ह और सत्यमान सारणी दीजिए।

उत्तर :logic gate :  ये ऐसे अंकिय इलेक्ट्राॅनिक परिपथ है जिनमें निर्गत और निवेश में तार्किक समबद्व का पालन होता है ये निम्न प्रकार के है।

  1. NOT gate:  यह सर्वाधिक मूलभूत तार्किक द्वार है जिसमें निवेशी सिग्नल 1 और निर्गत सिग्नल भी 1 ही होता है।  इसमें निर्गत सिग्नल निवेशी सिग्नल के विपरित होता है। इसलिए इसे व्युत्क्रम द्वार भी कहते है। इसका संकेत चिन्ह निम्न है।

note-gate

सत्यमान सारणी:- निर्गत और निवेशी की सभी सम्भावनाओं को व्यक्त करने वाली सारणी को सत्यमान सारणी कहते है जो निम्न है।

A Y
0 1
1 0

 

  1. Or gate:  इसमें निवेशी संकेत दो यादों से अधिक होते है और निर्गत सकेत 1 ही होता है इसमें 0 अवस्था तभी प्राप्त होगी जब सभी निवेश 0 अवस्था में है इसका प्रतीक चिन्ह और सत्यमान सारणी निम्न है।

Or-gate

सत्य सारणी

A B Y

0 0 0

1 0 1

0 1 1

1 1 1

  1. AND gate:  इसमें निवेशी संकेत दो या दो से अधिक होत है। परन्तु निर्गत संकेत 1 ही होता है। इसमें निर्गत अवस्था 1 तभी प्राप्त होगी जब सभी निवेश 1 अवस्था में हो इसका प्रतीक चिन्ह और सत्यमान सारणी निम्न है।

AND-gate

सत्यमान सारणी

A B Y

0 0 0

0 1 0

1 0 0

1 1 1

  1. NOR gate:  इसे सार्वधिक अथवा सार्व द्वार भी कहते है। इससे अन्य सभी द्वारा बनाए जा सकते है। इसमें निवेशी संकेत दो या दो से अधिक तथा निर्गत संकेत एक होता है। Or  द्वारा से प्राप्त संकेत को नाॅट (NOT) द्वार में प्रवेश करते है। इसका प्रतीक चिन्ह व सत्यमान सारणी निम्न है।

NOR-gate

सत्यमान सारणी

A B Y

0 0 1

0 1 0

1 0 0

1 1 0

  1. NAND gate :  इसे भी सार्वत्रिकअथवा सार्व गेट कहते है। निवेशी संकेत दो या दो से अधिक होत है और निर्गत संकेत 1 होता है AND द्वार से प्राप्त संकेत को NOT द्वार में प्रवेश करते है इसमें अवस्था 0 तभी प्राप्त होगी जब सभी निवेश 1 अवस्था में है इसका प्रतीक चिन्ह व सत्यमान सारणी चिन्ह निम्न है।

nand

सत्यमान सारणी

A B Y

0 0 1

0 1 1

1 0 1

1 1 0