समस्थानिक , समभारिक और समन्यूट्रॉनिक क्या है , परिभाषा , तत्व उदाहरण (Isospin , isobars and isotones in hindi)

By  
(Isospin , isobars and isotones in hindi) समस्थानिक , समभारिक और समन्यूट्रॉनिक क्या है , परिभाषा , तत्व उदाहरण :

समस्थानिक की परिभाषा : किसी एक ही तत्व के वे परमाणु जिनका परमाणु क्रमांक तो समान होता है लेकिन उनका द्रव्यमान भार अलग अलग होते है ऐसे परमाणुओं को समस्थानिक कहते है। चूँकि इनके परमाणु क्रमांक समान होते है अत: स्पष्ट है कि समस्थानिक तत्वों में प्रोटॉन की संख्या तो समान होती है लेकिन न्यूट्रॉन की संख्या अलग अलग होती है। एक ही पदार्थ के सभी समस्थानिकों के रासायनिक गुण समान होते है और चूँकि इनमें प्रोटॉन की संख्या समान होती है अर्थात परमाणु  क्रमांक समान होता है इसलिए आवर्त सारणी में इनकी स्थिति भी समान होती है।
जैसा कि नाम से स्पष्ट है “समस्थानिक” अर्थात ” समान स्थान”
चूँकि किसी परमाणु के नाभिक में उपस्थित प्रोटोन की संख्या को परमाणु क्रमांक कहते है , और चूँकि समस्थानिकों का परमाणु क्रमांक समान होता है अत: स्पष्ट है कि समस्थानिक में प्रोटॉन की संख्या समान होती है और चूँकि सामान्य अवस्था किसी परमाणु में जितने प्रोटोन होते है उतने ही इलेक्ट्रॉन होते है इसलिए समस्थानिक के लिए यह माना जाता है इनमें न्यूट्रॉन की संख्या अलग अलग होती है इसलिए ये समस्थानिक होते है और न्यूट्रॉन की संख्या अलग अलग होने के कारण समस्थानिक का परमाणु भार भिन्न होता है।
उदाहरण : कार्बन के तीन समस्थानिक होते है जिन्हें कार्बन-12 , कार्बन-13 और कार्बन-14 द्वारा लिखा जाता है , इन समस्थानिको का परमाणु द्रव्यमान (भार) क्रमशः 12 , 13 और 14 होता है।
कार्बन का परमाणु क्रमांक 6 होता है इसका मतलब यह है कि कार्बन में 6 प्रोटोन होते है तथा इसके समस्थानिको में न्यूट्रॉन की संख्या क्रमशः 6 , 7 और 8 होती है।

समभारिक (isobars)

अलग अलग पदार्थों या तत्वों के वे परमाणु जिनके परमाणु द्रव्यमान तो समान होते है लेकिन उनके परमाणु क्रमांक अलग अलग होते है ऐसे परमाणुओं को समभारिक कहते है।
चूँकि किसी परमाणु में उपस्थित प्रोटोन की संख्या को ही उसका परमाणु क्रमांक कहते है इसलिए हम कह सकते है कि समभारिक परमाणुओं में प्रोटोन की संख्या अलग अलग होती है लेकिन चूँकि समभारिकों में परमाणु भार समान होता है अत: इनमें प्रोटोन तथा न्यूट्रॉन का योग समान होता है। क्यूंकि सम भारिक परमाणु में द्रव्यमान भार या द्रव्यमान समान होते है।
सम भारिक के परमाणु क्रमांक अलग अलग होते है अत: आवर्त सारणी में समभारिकों का स्थान अलग अलग होता है। तथा समभारिक के रासायनिक गुण भी अलग अलग होते है।
उदाहरण : कार्बन तथा नाइट्रोजन , दोनों का परमाणु भार 40 होता है लेकिन दोनों के परमाणु क्रमांक अलग अलग होते है अत: कार्बन तथा नाइट्रोजन समभारिक है।
इसी प्रकार Ar , K , और Ca का परमाणु द्रव्यमान (भार) समान होता है और इनका परमाणु क्रमांक भिन्न (क्रमश: 18 , 19 और 20) होता है इसलिए ये भी एक दुसरे के समभारिक है। (18Ar4019K4020Ca40)

समन्यूट्रॉनिक (isotones)

अलग अलग पदार्थों के वे परमाणु जिनके नाभिक में न्यूट्रॉन की संख्या तो समान होती है लेकिन प्रोटोन की संख्या अलग अलग होती है ऐसे तत्वों के परमाणुओं को समन्यूट्रॉनिक कहते है।
याद रखे ऐसे समन्यूट्रॉनिक परमाणुओं के परमाणु क्रमांक तथा परमाणु द्रव्यमान (भार) अलग अलग होते है इन समन्यूट्रॉनिक परमाणुओं में केवल न्यूट्रॉन की संख्या समान होती है।
उदाहरण : 36S, 37Cl, 38Ar, 39K, and 40Ca ये समन्यूट्रॉनिक है इन सभी में 20 न्यूट्रॉन  पाए जाते है। इसलिए इन्हें समन्यूट्रॉनिक-20 कहा जाता है।