आनुवांशिक लक्षण , आनुवांशिकी , आनुवाँशिक का जनक , आनुवांशिकता /वंशागति

 आनुवांशिक लक्षण:-

वे लक्षण जो माता-पिता से संतान में आते है उन्हें आनुवाँशिक लक्षण कहते है। ये लक्षण सतत् रूप में एक पीढी से दूसरी पीढी में जाते है।

आनुवांशिकता /वंशागति (heredity):-

एक पीढी से दूसरी पीढी में आनुवाँशिक लक्षणों के प्राप्त होने की क्रियाएं आनुवाँशिकता कहलाती है।

 आनुवांशिकी (genetics):- 

जीव विज्ञान की वह शाखा जिसमें आनुवाँशिक लक्षणों एवं उनकी वंशागति के बारे में अध्ययन किया जाता है उसे आनुवाँशिक कहते है।

आनुवाँशिक का जनक:- जीवन परिचय

 पूरा नाम :- ग्रेगर जाॅन मेण्डल

 जन्म स्थान :- सिल्सियाँ, हेेन ड्राफ आस्ट्रिया

 जन्म दिनाँक :- 22.7.1822

 प्रयोग किए :- 1856-1863 7 वर्ष

 प्रकाशन :- 1866

 पुस्तक :- नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी आॅफ ब्रून

 शीर्षक :- वार्षिकी में, पादप स्मरण पर प्रयोग

 मृत्यु :- 6-1-1880

2 thoughts on “आनुवांशिक लक्षण , आनुवांशिकी , आनुवाँशिक का जनक , आनुवांशिकता /वंशागति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!