किण्वन किसे कहते हैं | fermentation meaning in hindi definition किण्वन की परिभाषा

By  

fermentation meaning in hindi definition किण्वन की परिभाषा किण्वन किसे कहते हैं |

विविध

तेल व वसा की सोडियम हाइड्रॉक्साइड के साथ क्रिया क्या कहलाती है। – किण्वन
मक्खन किस प्रकार का कोलॉइड है ?
-जल वसा में परिक्षिप्त होता है
कपड़े धोने का साबुन क्या है ?
-प्राकृतिक रूप से पाये जाने वाले उच्चतर वसा अम्ल से बने सोडियम लवणों का मिश्रण
संश्लेषित डिटर्जेण्ट क्या है? -एरोमैटिक और ऐलिफैटिक
सल्फोनिक अम्ल से बने सोडियम लवणों का मिश्रण
कठोर जल में साबुन के झाग क्यों नहीं बनते हैं?
-क्योंकि उच्च वसा अम्ल के कैल्सियम और मैग्नीशियम लवण जल में अघुलनशील होते हैं
जन्तुओं द्वारा कौन सी औषधि प्राप्त होती है ? -एन्टीटॉक्सिन
क्वार्टजाइट किसका कायान्तरिक होता है ? -बलुआ पत्थर का
एन्जाइम क्या है ? -नाइट्रोजन युक्त जटिल यौगिक
किस प्रकार के तत्व उत्तम उत्प्रेरक सिद्ध होते हैं ? -सक्रमण तत्व
एक द्रव के वाष्पन प्रक्रम के साथ क्या परिवर्तित होता है ? -एण्ट्रॉपी
कोकाकोला जैसे शीतल पेय में काफी मात्रा में क्या होती है ? -टैनिन
शरीर में निर्जलन के समय जो पदार्थ त्यागा जाता है वह क्या है ?
-सोडियम क्लोराइड
कौनसा पदार्थ रबड़ के टायरों में पूरक के रूप में प्रयुक्त होता है ?
-कार्बन ब्लैक
कौनसा एन्जाइम स्टार्च को अपचायक शर्करा में जल अपघटित कर देता है? -एमाइलेज
शरीर में सोडियम तथा पोटैशियम आयनों की भूमिका शरीर में किसे सन्तुलित करने के लिए होती है ? -परासरण दाब
पौधे कार्बन को किस रूप में ग्रहण करते हैं ? -कार्बन डाइऑक्साइड
समुद्र के जल से साधारण नमक किस विधि द्वारा प्राप्त कर सकते हैं ?
-वाष्पन
समुद्र के जल से शुद्ध जल किस विधि द्वारा प्राप्त कर सकते हैं ?
-आसवन
आलू में सबसे अधिक क्या होता है ? -मण्ड
‘ग्रीन हाउस प्रभाव‘ यह नाम किस वैज्ञानिक ने दिया ?
-स्वाण्टे आहीनियस
सूर्य की किरणों का कौनसा भाग सोलर कुकर को गर्म करता है?
-अवरक्त किरणें
फलों के परिरक्षण के लिए चीनी का घोल क्यों प्रयोग में लाया जाता है?
-नमी अवशोषित हो जाती है, जिससे सूक्ष्मजीवों की वृद्धि रुक जाता है
जीवाणुनाशक गैमेक्सीन का सूत्रीकरण किस पर आधारित है ?
-बैंजीन हेक्साक्लोराइड
डी.डी.टी. किनकी अभिक्रिया से प्राप्त होता है ?
-2,2,2 ट्राइक्लोरो ऐसीटेल्डिहाइड क्लोरोबैंजीन
विटामिन । क्या है ? -ऐक्सोरो फाइटॉल
पेट्रोल किसका मिश्रण है ? -ऐल्केन
फीनॉल से प्राप्त विस्फोटक का नाम क्या है ? -पिक्रिक अम्ल
पारा 0°ब् पर भी द्रव बना रहता है इसका क्या कारण है ?
-बहुत उच्च आयनन ऊर्जा तथा क्षीण धात्विक बन्ध
वायु के प्रमुख अवयवों का बहुतायत में सही वृद्धि क्रम क्या है ?
-आर्गन, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन
पौधे के पुष्पन के लिए उपयोगी तत्व कौनसा है ? -फॉस्फोरस
न्यूट्रॉन पर कौन सा आवेश होता है ? -कोई आवेश नहीं
किस वैज्ञानिक के नियम के अनुसार, किसी परमाणु के दो इलेक्ट्रॉन की चारों क्वाटंम संख्याएँ समान नहीं हो सकती ? -पाउली
किसी परमाणु के गुण किस पर निर्भर करते हैं ?
-इलेक्ट्रॉनिक संरचना पर
खाद्य तेलों को किस प्रक्रिया से वनस्पति घी में बदला जा सकता है ?
-हाइड्रोजनीकरण
विद्युत् संयोजक यौगिकों में क्या परिवर्तन होता है ?
-इलेक्ट्रॉन एक परमाणु से दूसरे परमाणु में आसानी से स्थानान्तरित हो जाते हैं
विखण्डन अभिक्रिया में तत्व के नाभिक पर क्या प्रभाव पड़ता है ?
-टूटकर दो छोटे नाभिक बनाता है तथा कुछ मौलिक नाभिकीय कणों को घटा देता है
कृत्रिम रेडियोएक्टिवता की खोज किसने की थी ?
-एफ. जोलियट व आई. क्यूरी ने
रसायन सार-सग्रह
अम्ल वर्षा-यह मुख्यतः वायुमण्डलीय ैव्2 के भ्2ैव्4 बनाने तथा छव्2 भ्छव्3- बनाने और इन अम्लों के वर्षा के पानी में घुलकर पृथ्वी पर बरसने के कारण होती है।
मिश्र धातु-धातुओं या धातु और अधातुओं के सरल मिश्रण और ठोस विलयनों को, जिनमें धात्विक गुण होते हैं, मिश्रधातु कहते हैं।
अमलगम-मरकरी का अन्य धातुओं के साथ मिश्रधातु । सिल्वर अमलगम दाँतों की कैविटी भरने में काम आता है।
ऐरोमैटिक यौगिक- वे यौगिक जिनमें 6 कार्बन परमाणु जुड़कर चक्र बनाते हैं। ये कार्बन परमाणु एकान्तर स्थिति में तीन एकल बन्ध के साथ और तीन द्विबन्ध के साथ जुड़े रहते हैं।
एरोसोल-किसी गैस में द्रव या ठोस कणों का परिक्षेपण एरोसोल कहलाता है। जब परिक्षेपित कण ठोस होता है तो एरोसोल को धुआँ कहते हैं। जब परिक्षेपित पदार्थ द्रव होता है तो उसे कोहरा कहते हैं। अतः धुआँ = गैस ़ ठोस कण
कोहरा = गैस ़ द्रव कण
एवोगैड्रो परिकल्पना-समान ताप तथा दाब पर सभी गैसों के समान आयतन में अणुओं की संख्या समान होती है।
बेकिंग चूर्ण-सोडियम बाइकार्बोनेट, स्टार्च, क्रीम ऑफ टार्टर एवं सोडियम अमोनियम सल्फेट का मिश्रण, जो बेकिंग में काम आता है।
बैंजेल्डिहाइड-कड़वे बादाम का तेल जो रंजक, सुगन्ध बनाने में प्रयुक्त होता है।
बैंजीन- कोलतार के प्रभाजी आसवन से प्राप्त रंगहीन द्रव, जिसका उपयोग विलायक के रूप में किया जाता है।
सेविन (भोपाल गैस त्रासदी)-भोपाल में 2-12-1984 की रात्रि को एक भयंकर गैस दुर्घटना हुई, जिसमें यूनियन कार्बाइड लिमिटेड के संयन्त्र के टैंक से प्राणघातक गैस, मेथिल आइसोसायनेट रिसकर घने बादल के रूप में भोपाल के ऊपर फैल गई। इस संयन्त्र में डप्ब् का उपयोग कार्बारिल नामक कीटनाशी के उत्पादन के लिए किया जाता था। इस कीटनाशी का व्यापारिक नाम ‘सेविन‘ था।
अपररूपता-कोई तत्व एक से अधिक रूपों में विद्यमान रहे, जिनके भौतिक गुण भिन्न-भिन्न हों किन्तु रासायनिक गुण समान हों, जैसे कार्बन के अपररूप हीरा तथा कोयला आदि हैं।

कार्बन के अपररूप
प्रकृति में कार्बन तत्व अनेक भौतिक गुणों के साथ विविध रूपों में पाया जाता है। हीरा एवं ग्रेफाइट दोनो ही कार्बन के परमाणुओं से बने हैं कार्बन के परमाणुओं के परस्पर आबंधन के तरीकों के आधार पर ही इनमें अंतर होता है। हीरे में कार्बन का प्रत्येक परमाणु कार्बन के चार अन्यु परमाणुओं के साथ आबंधित होता है जिससे एक दृढ त्रिआयामी संरचना बनती है। ग्रेफाइट में कार्बन के प्रत्येक परमाणु का आबंधन कार्बन के तीन अन्य परमाणुओं के साथ एक ही तल पर होता है जिससे षटकोणीय व्यूह मिलता है। इनमें से एक आबंध द्विआबंधी होता है जिसक कारण कार्बन की संयोजकता पूर्ण होती है।
ग्रेफाइट की संरचना में षट्कोणीय तल एक दूसरे के ऊपर व्यवस्थित होते है।
इन दो विभिन्न संरचनाओं के कारण हीरे एवं ग्रेफाइट के भौतिक गुणधर्म अत्यन्त भिन्न होते हैं, जबकि उनके रासायनिक गुणधर्म एकसमान होते है। हीरा अब तक का ज्ञात सर्वाधिक कठोर पदार्थ है, जबकि ग्रेफाइट चिकना एवं फिसलनशील होने के साथ-साथ विद्युत का सुचालक भी होता है।
शुद्ध कार्बन को अत्यधिक उच्च दाब एवं ताप पर उपचारित (ैनइपमबजपदह) करके हीरे को संश्लेषित किया जा सकता है। ये संश्लिष्ट हीरे आकार में छोटे परन्तु प्राकृतिक हीरों से अभेदनीय होते हैं।
फुलेरीन कार्बन अपररूप का अन्य वर्ग है। सबसे पहले ब्-60 की पहचान की गई जिसमें कार्बन के परमाणु फुटबॉल के रूप में व्यवस्थित होते है। चूंकि यह अमेरिकी आर्किटेक्ट बकमिंस्टर फुलर (ठनबाउपदेजमत थ्नससमत) द्वारा डिजाइन किए गए जियोडेसिक गुंबद के समान लगते हैं, इसीलिए इस अणु को फुलेरीन नाम दिया गया।