प्रतीक : विद्युत परिपथ आरेख में प्रयुक्त विभिन्न प्रतीक , device symbols used in electric circuit in hindi

By  

विधुत परिपथ 

विधुत परिपथ जो की अलग अलग विधुत अवयव तथा संयोजी तारों से मिलकर बनता है। आरेख जो की विधुत धारा के पूर्ण प्रवाह को को दर्शाता है को विधुत परिपथ या विधुत परिपथ आरेख कहते हैं। विधुत परिपथ जो की अलग अलग अवयव जैसे की एक सेल अथवा एक बैटरी, एक प्लग कुंजी आदि तथा संयोजी तारों से मिलकर बनता है तथा इसमें प्रवाहित होने वाली विधुत धारा को दर्शाता है।

विधुत धारा का पूर्ण प्रवाह ही अर्थात पुरे परिपथ में विधुत परिपथ कहलाता है।

यदि विधुत धारा का प्रवाह पूर्ण नहीं हो तो विधुत परिपथ भी पूर्ण नहीं होता है। विधुत धारा के प्रवाह के बाधित होने की स्थिति में विद्युत यंत्र भी कार्य नहीं करते है।

विद्युत कुंजी या स्विच 

विधुत कुंजी या स्विच एक प्रकार का यन्त्र है जिसके दवारा विधुत धारा के प्रवाह को रोका जा सकता है या उस विधुत परिपथ को पूर्ण कर उसमे विधुत धारा को प्रवाहित किया जा सकता है।

घरों में पंखे, बल्ब तथा अन्य सभी विद्युत यंत्र विद्युत कुंजी या स्विच से जुड़े रहते है जिसकी मदद से हम उसमे प्रवाहित होने वाली विधुत धारा को नियंत्रित कर सकते है।

विद्युत कुंजी या स्विच ऑन होता है तब परिपथ पूर्ण होता है और उसमे विधुत धारा प्रवाहित होती है तथा जब विधुत स्विच ऑफ होती है, तो विद्युत परिपथ टूट जाता है और इसमें विधुत धारा प्रवाहित नहीं होती है। विधुत स्विच के ऑन होने उस परिपथ में जुड़े सभी उपकरण भी कार्य करने लगते है। विधुत स्विच के ऑफ होने पर उस विद्युत परिपथ से जुड़े विधुत उपकरण कार्य नहीं करते है।

विद्युत परिपथ आरेख 

विधुत परिपथ का कागज पर चित्र विधुत परिपथ आरेख कहलाता है। विधुत परिपथ में जुड़े सभी विधुत यन्त्र को अलग अलग प्रतीकों द्वारा दर्शाता जाता है।

विद्युत परिपथ आरेख में प्रयुक्त विभिन्न प्रतीक (device symbols used in electric circuit in hindi)

विद्युत परिपथ में विभिन्न अवयवों को विभिन्न प्रतीकों द्वारा निरूपित किया जाता है। जो की कुछ इस प्रकार से है

 

1.विद्युत सेल : विद्युत सेल को दो समांनांतर रेखाओं जिसमें एक थोड़ी बड़ी तथा छोटी रेखा होती है जो कि दो क्षैतिज रेखा (wire) के द्वारा जुड़ी होती है के द्वारा निरूपित किया जाता है। क्षैतिज रेखाओं में छोटी रेखा को ऋण ध्रुव चिन्ह के साथ तथा बड़ी रेखा को धनात्मक चिन्ह के साथ दर्शाता जाता है।

2.बैटरी अथवा सेलों का संयोजन : बैटरी दो या दो से अधिक सेलों का संयोजन होती है जिसे दो से ज्यादा उदग्र समानांतर रेखाओं के द्वारा निरूपित किया जाता है।

3.प्लग कुंजी अथवा स्विच (खुली) : प्लग कुंजी अथवा स्विच (खुली) को छोटी कोष्ट के चिन्ह अर्थात् () जो दोनों तरफ से क्षैतिज रेखाओं से जुड़ी होती है के द्वारा निरूपित किया जाता है।

4.प्लग कुंजी अथवा स्विच (बंद) : प्लग कुंजी अथवा स्विच (बंद) को छोटी कोष्ट के चिन्ह अर्थात् () में एक मोटा बिन्दु लगाकर जो की दोनों तरफ से क्षैतिज रेखाओं से जुड़ी होती है के द्वारा निरूपित किया जाता है।

5.तार संधि :दो तारों की संधि को एक उदग्र तथा क्षैतिज रेखाओं के संयोजन स्थान पर एक मोटा बिन्दु लगाकर इसका निरूपण किया जाता है।

6.तार क्रॉसिंग (बिना संधि के) :एक क्षैतिज रेखा तथा एक उदग्र रेखा जिसके बीच में एक अर्ध वृत्त (चाप) बना होता है के द्वारा तार क्रॉसिंग को निरूपित किया जाता है जो की यह दर्शाता है की दोनों तार एक दुसरे से जुड़े हुए नहीं है।

7.विद्युत बल्ब : अक्षर ‘M’ की तरह प्रतीक होने वाले जो दोनों तरफ से क्षैतिज रेखाओं से जुड़ा होता है के द्वारा विधुत बल्ब को निरूपित किया जाता है।

8.प्रतिरोधक :प्रतिरोधक को एक जिग जैक रेखा द्वारा निरूपित किया जाता है। जो की विधुत परीपथ में विधुत धारा के प्रवाह को रोकने का कार्य करता है।

9.परिवर्ती प्रतिरोधक अथवा धारा नियंत्रक : परिवर्ती प्रतिरोधक अथवा धारा नियंत्रक एक जिग जैग रेखा के उपर तीर के निशान के साथ निरूपित किया जाता है जिसके दवारा प्रतिरोधक को परिवर्तित किया जा सकता है।

10.एमीटर : एमीटर को अंगरेजी के बड़े अक्षर ‘A’ को एक वृत के अंदर तथा वृत के दोनों ओर दो क्षैतिज रेखाओं को लगाकर दर्शाया जाता है जो की विधुत धारा के मान को प्रदशित करता है।

11.वोल्टमीटर :वोल्टमीटर को अंगरेजी के अक्षर ‘V’ को दोनों तरफ क्षैतिज रेखाओं से जुड़े एक वृत के अंदर दिखाकर दर्शाया जाता है जो की किन्ही दो बिन्दुओ के बीच वोल्टेज के मान को प्रदशित करता है।

विद्युत परिपथ आरेख का उदाहरण

एक सामान्य विद्युत परिपथ आरेख को निम्नांकित तरीके से दर्शाया जा सकता है। जिसमे एक ब्लब जो की एक बैटरी और कुंजी से जुडा हुआ है जब कुंजी ऑन होती है तब यह वोल्टेज ब्लूब पर जाकर उसे ऑन करता है और इस कुंजी को ऑफ करके ब्लब को भी बंद किया जा सकता है।

एमीटर के साथ एक सामान्य विद्युत परिपथ आरेख को निम्नांकित तरीके से दर्शाया जा सकता है जो की विधुत परिपथ में प्रवाहित होने वाली विधुत धारा को दर्शाता है।

वोल्टमीटर, एमीटर तथा तीन प्रतिरोधक के साथ एक सामान्य विद्युत परिपथ आरेख को निम्नांकित तरीके से दर्शाया जा सकता है जहा पर वोल्टमीटर तीनो प्रतिरोधक के across वोल्टेज तो दर्शाता है और अमीटर उस परिपथ में प्रवाहित होने वाली विधुत धारा को दर्शाता है।