सॉफ्टवेयर की परिभाषा क्या है , प्रकार , एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर , computer software in hindi

By  

computer software in hindi सॉफ्टवेयर की परिभाषा क्या है , प्रकार , एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर

SOFTWARE : सॉफ्टवेर निर्देशो का समूह होता है जो कंप्यूटर और उसके भागो को कार्यशील बनता है |सॉफ्टवेर के बिना , कंप्यूटर एक निरथक उपकरण है|

सॉफ्टवेर को दो प्रकार में  DIVIND किया गया है|

(i) SYSTEM SOFTWARE

सिस्टम सॉफ्टवेर ये सॉफ्टवेर  होते है जो कंप्यूटर , उसके भागो और यूजर के बीच कम्युनिकेशन लके लोइए जिम्मेदार होता है|सिस्टम सॉफ्टवेर MIDDLEMAN की तरह कार्य करता है जो बाकि सॉफ्टवेर और हार्डवेयर के बीच कम्युनिकेशन करवाता है |

सिस्टम सॉफ्टवेर पांच प्रकार के होते है |

1.OPERATING SOFTWARE : ये हार्डवेयर ,सिस्टम प्रोग्राम और बाकी डिवाइस  के बीच कम्युनिकेशन करवाता है |

2.DEVICE DRIVER : ये कंप्यूटर हार्डवेयर और ऑपरेटिंग सॉफ्टवेर के बीच कम्युनिकेशन करवाता है |

3.FIRMWARE : ये  किसी नये डिवाइस ऑफ़ जोड़ने और कण्ट्रोल करता है |

4.UTILITY : ये डिवाइस के कार्यशीलता को सुनिश्चित करता है |

5.TRANSLATOR : ये USER COMMANDS को MACHINE CODE में TRANSLATE करता है |

ओपरटिंग सॉफ्टवेर :

ओपरटिंग  सॉफ्टवेर  सिस्टम सॉफ्टवेर का यह प्रकार है जो यूजर और कंप्यूटर हार्डवेयर में बीच कड़ी है |किसी भी कंप्यूटर को शुरू करने से पहले ये सॉफ्टवेर सबसे पहले इनस्टॉल होता है |

ओपरटिंग सॉफ्टवेर सबसे पहले मेमोरी में लोड होता है जब यूजर कंप्यूटर को ON करता है |उदहारण के लिए ,जब यूजर किसी DOCUMENTS को प्रिंट करना चाहता है तब उसे के बोर्ड से डाटा टाइप करना पड़ेगा और मॉनिटर पर देखगे और प्रिंटर पर प्रिंट का कमांड देना होगा |इस कार्य के लिए प्रिंटर ,की- बोर्ड और मॉनिटर के कम्युनिकेशन होगा|यह कम्युनिकेशन ऑपरेटिंग सॉफ्टवेर से होता है |

ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रकार :

1 . REAL TIME OS : ये सॉफ्टवेर कुछ विशेष HARDWARE जैसे ROBOT,EMBEDDED सिस्टम मई इनस्टॉल होता है |

2.SINGLE USER AND SINGLE TASK OS : ये सॉफ्टवेर सिंगल यूजर स्य्स्तेम्म मई इनस्टॉल होते है जैसे एंड्राइड ,IOS आदि |

3.MULTI USER OS : ये सॉफ्टवेर MULTI यूजर स्य्तेम मई इनस्टॉल होता है जैसे सर्वर विंडोज आदि |

4.NETWORK OS : ये सॉफ्टवेर दो या दो से अधिक कंप्यूटर के बीच NETWORK बनता है | उन कंप्यूटर सिस्टम के RESOURCES को शेयर भी करता है |

OPERATING SYSTEM के उदहारण :

विंडोज 10 , MAC OS X,UBUNTU ,RED HAT ENTERPRISE , I-PHONE OS ,CLUB LINUX आदि |

2.डिवाइस ड्राईवर:

ड्राईवर सॉफ्टवेर सिस्टम सॉफ्टवेर का वे प्रकार है जो कंप्यूटर के बाहरी डिवाइस को OPERATING SOFTWARE के बीच कम्युनिकेशन के जिम्मेदार होता है|ऑपरेटिंग सॉफ्टवेर इन ड्राईवर की सहयता से इन डिवाइस से कम्युनिकेशन करता है | ड्राईवर सॉफ्टवेर के बिना ऑपरेटिंग सॉफ्टवेर इन DEVICE कों कोई कार्य नहीं दे सकता है|

MOUSE ,KEYBOARD,SOUND CARD , डिस्प्ले CARD आदि को DRIVER SOFTWARE की चहिये है |

3.FIRMWARE 

FIRMWEARइ एक ऑपरेशनल सॉफ्टवेर है जो मेमोरी (RAM ,ROM ),FLASH का कम्युनिकेशन OPERATING सिस्टम से करता है |FIRMWARE ROM में स्टोर होता है \ इसको चंगे करने के लिए ROM को चेंज करना पड़ता है | लेकिन वर्तमान FIRMWARE FLASH में स्टोर होता है |इसे SWAPPING METHOD से आसानी से चंगे किया जा सकता है |

कंप्यूटर में BIOS सबसे महत्पूर्ण FIRMWARE है |

4.TRANSLATOR 

TRANSLATOR ये सॉफ्टवेर है जो HIGH LEVEL LANGUAGE को MACHINE language को ट्रांसलेट करता है | HIGH LEVEL LANGUAGE SYNTAX का ग्रुप होता है जिसे PROGRAMMER आसनी से समझ कर कंप्यूटर में नए प्रोग्राम को बना सकते है | उदहारण के लिए C ,C++,JAVA आदि|

COMPILERS ,INTERPRETERS और ASSEMBLERS बहुत पोपुलर ट्रांसलेटर है |

5.यूटिलिटीज़

यूटिलिटीज ये सिस्टम सॉफ्टवेर होते है जो कंप्यूटर हार्डवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेर के बीच कम्युनिकेशन करवाता है |ये कंप्यूटर की PERFEROMANCE और REPAINNG का कार्य करता है |

ये सॉफ्टवेर सभी THIRD PARTY सॉफ्टवेर होते है लेकिन ये OS के साथ आसनी से मिल जाता है |उदहारण के लिए HIREN BOOT CD , ULTIMATE BOOT CD आदि|

ANTIVIRUS कंप्यूटर की सभी फाइल्स ऑफ़ डाटा की सिक्यूरिटी करता है | जैसे QUICK HEAL ,MALWARE ,AVG|

DISK PARTITION SOFTWARE मेमोरी के पार्ट करने में उपयोग होता है |

FILES COMPRESS SOFTWARE ,DATA BACKUP , FIREWALL सभी यूटिलिटी सॉफ्टवेर है |

2.APPLICATION सॉफ्टवेर :

एप्लीकेशन सॉफ्टवेर किसी विशेष कार्य के लिए बनाया जाता है | ये कई प्रकार के होता है |

१ WORD PROCESSING SOFTWARE : MS WORD, WORD PAD ,NOTEPAD ETC.

2. DATABASE SOFTWARE : ORACLE , MS ACCESS ETC.

3.SPREADSHEET : APPLE NUMBERS ,MICROSOFT EXCEL.

4.MULTIMEDIA SOFTWARE ; VLC PLAYER ,KM PLAYER ,WINDOW PLAYER .

5.EDUCATIONAL SOFTWARE: DICTORIES,MATLAB,NASA WORLD ETC.

6.SIMULATION SOFTWARE : FLIGHT SIMULATION

7.SOFTWARE FOR ENGINEERING : IDE MANY MORE.

WORD PROCESSING सॉफ्टवेर :

वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ्टवेर का मुख्य काम है रिपोर्टस ,लैटर,FAXES , MEMOS बनाना |WORD प्रोसेसिंग सॉफ्टवेर कई सरे कार्य को आसन करता है जैसे डाटा टाइप करना ,EDIT करना और FORMATING करना |

FEATURE ऑफ़ THESE SOFTWARE

– WORD PROCESSING सॉफ्टवेर एक लाइन के बाद आटोमेटिक पॉइंट INSERT कर देते है |

-आटोमेटिक SPELL और GRAMMER CHECK करता है |

-AUTO CORRECT FEATURE आटोमेटिक SPEELING REPLACE कर देता हैं|

-टाइप की गया FILES को सेव कर देता है जिन्हें कोई भी यूजर एक्सेस कर सकता है |कभी कभी ये फाइल को PROTECT करने की FACILITY भी देता है |

WEB BASED APPLICATION :

वेब  BASED एप्लीकेशन का मतलब है वेबसाइट | ये दो तरह के होता है |

वेबसाइट कई डाटा ( DRAWING , CONTENT, PHOTOES आदि ) का कलेक्शन होता है |

ASP किसी सॉफ्टवेर का पार्ट होते हो जिसे यूजर को भेजा जा सकता है और इसे HARD DISK मई INSTALL कर USE कर सकते है |

DATABASE सॉफ्टवेर :

DATABASE सॉफ्टवेर डाटा को RATIONAL COLLECTION बनाने में मदद करता है | जिसे कही भी ACCESS कर सकते है |

DATABASE सॉफ्टवेर को ऑफिस,एजुकेशन संस्था और कई जगह इस्तेमाल किय जाता  है |COREL PARADEX , MICROSOFT ACCESS और LOTUS APPROCH सबसे ज्यादा USED डेटाबेस सॉफ्टवेर है |

DATABASE सॉफ्टवेर EDITING ,SORTING,INSERTING और DELETING को आसन कर देता है|

SPREAD SHEET :

स्प्रेडशीट का मुख्य कार्य CHARTS ,GRAPH ,NUMERICAL डाटा जैसे फाइनेंसियल REPORTS और BUDGETS को यस्थित करता है |स्प्रेडशीट ROW और COLUMN का  ग्रुप होता है जिसमे डाटा को इन्सर्ट किया जा सकता और बाद में  इसे CHART ,GRAPH बनाया जता है |

स्प्रेडशीट कई PRE SET  FORMULAS और RULES की FACILITY देता हो जिससे यूजर का काम आसन हप जता है |

स्प्रेडशीट कई प्रकार की CHART जैसे PIE CHART ,BAR CHART ,LINE CHART आदि बनता है |

PIXEL PERFECT PICTURE ,MALWARE , ADWARE ,SPYWARE ,SHAREWARE ,MULTIMEDIA SOFTWARE आदि MOSTLY USED एप्लीकेशन SOFTWARE है |