रासायनिक बंध और रासायनिक समीकरण | chemical bond and chemical equation class 9 notes

By  

रासायनिक बंधन या बंध एवं रासायनिक अभिक्रिया या समीकरण किसे कहते है ? chemical bond and chemical equation class 9 notes in hindi ? प्रकार कितने होते है , उदाहरण |

 किसी अणु में उपस्थित अवयवी परमाणुओं को। परस्पर बांधकर अणु को विशेष ज्यामितीय आकार में रखने वाले बल को रासायनिक बंध कहा जाता है। इनका निर्माण तत्वों द्वारा अपने बाह्य कक्ष में आठ इलेक्ट्रॉन पूरा करने के लिए किया जाता है।

 संयोजकताः तत्वों के परमाणुओं के परस्पर संयोजन करने की क्षमता को संयोजकता कहा जाता है। किसी तत्व की संयोजकता उनकी अन्य तत्वों से संयोग करने की क्षमता है और वह हाइड्रोजन के परमाणुओं की उस संख्या से व्यक्त की जाती है जो उस तत्व के एक परमाणु से संयोग करती है।

 संयोजकता का अष्टक नियमः 1916 में कॉसेल ने अकार्बनिक यौगिक तथा लुईस ने कार्बनिक यौगिकों में रासायनिक बंधों की प्रकृति की व्याख्या के लिए संयोजकता का एक सिद्धान्त प्रस्तुत किया, जिसे संयोजकता अष्टक नियम या संयोजकता का इलेक्ट्रॉनिक सिद्धांत कहा जाता है। यह सिद्धांत तत्वों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास पर आधारित है।

 जिन तत्वों के बाह्य कोष में आठ इलेक्ट्रॉन होते हैं, वे रासायनिक रूप से अक्रिय होते हैं क्योंकि अष्टक विन्यास एक स्थायी व्यवस्था है।

 हीलियम के अतिरिक्त अन्य सभी अक्रिय गैस तत्वों के बाह्य कोष में 8 इलेक्टॉन होते हैं।

 अक्रिय गैसों को छोड़कर अन्य जितने भी तत्व हैं, उनके परमाणु की बाह्यतम कक्षा अस्थायी होती है, क्योंकि उनमें इलेक्ट्रॉनों की संख्या 8 से कम होती है।

आयनः विद्युत आवेश युक्त परमाण शुओं के समूह को आयन कहा जाता हैय जैसे, सोडियम आयन, क्लोराइड आयन, कार्बोनेट आयन, मैग्नीशियम आयन इत्यादि।

 आयन दो प्रकार के होते हैं (प) धनायन, (पप) ऋणायन।

धनायनः ऐसे आयन जिन पर धन आवेश होता है, उसे धनायन कहते हैंय जैसे, सोडियम आयन और मैग्नीशियम आयन।

ऋणायनः ऐसा आयन जो ऋण आवेशित होता है उसे ऋणायन कहते हैं, जैसे क्लोराइड आयन और ऑक्साइड आयन इत्यादि।

 रासायनिक बन्धनः यह दो प्रकार के होते हैं (1) विद्युत संयोजक बंधन, (2) सह-संयोजक बंधन।

 विद्युतसंयोजक या आयनिक बन्धनः परमाणुओं के मध्य इलेक्ट्रॉनों के स्थानान्तरण से जो बन्धन बनते हैं, उन्हें विद्युत संयोजक बन्धन या आयनिक बन्धन कहते हैं।

 सह-संयोजक बन्धनः परमाणुओं के मध्य इलेक्ट्रॉन युग्मों की साझेदारी से जो बन्धन बनते हैं, उन्हें सह-संयोजक बन्धन कहते हैं।

 यदि बन्धन एक इलेक्ट्रॉन युग्म के कारण होता है तब इसको एकांकी बन्धन कहते हैं तथा सीधी रेखा (-) द्वारा प्रदर्शित करते हैं।

 यदि बन्धन दो इलेक्ट्रॉन युग्म या तीन इलेक्ट्रॉन युग्म द्वारा होता है तो इसे क्रमशः द्विबन्ध तथा त्रिबंध कहते हैं तथा इन्हें क्रमशः (=) तथा ( ≡) द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।

रासायनिक अभिक्रियाएँ

 जब कोई पदार्थ किसी दूसरे पदार्थ या स्वयं के साथ क्रिया करके एक से अधिक नए पदार्थों का निर्माण करता है, तो यही क्रिया रासायनिक अभिक्रिया कहलाती है।

 रासायनिक अभिक्रियाओं को रासायनिक समीकरण द्वारा व्यक्त किया जाता है।

 रासायनिक अभिक्रिया का सबसे उत्तम उदाहरण जल है, जिसका निर्माण हाइड्रोजन एवं आॅक्सीजन के मिश्रण से होता है। जैसे

 रासायनिक अभिक्रियाओं के दौरान ऊष्मा, प्रकाश एवं यांत्रिक ऊर्जाओं का उर्सजन होता है।

 रासायनिक अभिक्रियाओं में पुराने आबंध टूटते हैं तथा नये आबंध बनते हैं तथा रासायनिक अभिक्रियाएं प्रायः ऊर्जा परिवर्तन के साथ होती हैं।

 वह अभिक्रिया जिनमें ऊर्जा उत्पन्न होती है, ऊर्जा क्षेपी अभिक्रियाएं कहलाती हैं।

 वह अभिक्रिया जिनमें ऊर्जा शोषित होती है, ऊर्जा शोषी अभिक्रिया कहलाती है।

भौतिक एवं रासायनिक परिवर्तन

 ऐसे परिवर्तन जिनमें कोई नया पदार्थ नहीं बनता, भौतिक परिवर्तन कहलाता है। पदार्थों की भौतिक अवस्था, दशा, आकृति, आकार, आयतन आदि में परिवर्तन भौतिक परिवर्तन हैय जैसे – जल का जमकर बर्फ बनना, चीनी का जल में विलयन, स्प्रिंग को खींचना।

 ऐसे परिवर्तन जिसमें नये पदार्थ बन जाते हैं, रासायनिक परिवर्तन कहलाते हैं।

 इस परिवर्तन से मूल पदार्थ का रासायनिक संगठन और इसकी अणु संरचना या केवल अणु संरचना बदल जाती है। जैसे- दूध से दही का जमना, कागज का जलना, लोहे में जंग लगना।

 ऊष्माक्षेपी अभिक्रियाएँः इस अभिक्रिया में ऊर्जा मुक्त होती है। जैसे – श्वसन, प्राकृतिक गैस का दहन, वनस्पति पदार्थों का कम्पोस्ट में अपघटन।

 ऊष्माशोषी अभिक्रियाएँः इस अभिक्रिया में ऊष्मा का अवशोषण होता है। जैसे – पाचन क्रिया।

 उत्क्रमणीय अभिक्रियाएँः आगे और पीछे दोनों दिशाओं में होती हैं तथा किसी भी अवस्था में पूर्णता को प्राप्त नहीं करती है, किन्तु अनुत्क्रमणीय अभिक्रियाएँ केवल एक ही दिशा में होती हैं और पूर्णता को प्राप्त करती हैं।

 उत्प्रेरक अभिक्रिया में उत्प्रेरक तत्व के कारण अभिक्रिया तीव्र या मंद हो जाती है।

 रेडॉक्स अभिक्रिया में ऑक्सीकरण तथा अवकरण (अपचयन) प्रक्रम साथ-साथ होते हैं।

 लवण मेटाथिसिस अभिक्रिया में फार्मल आवेश परिवर्तित नहीं होता है। इसमें आयनों का परस्पर आदान-प्रदान होता है। इसमें जलीय विलयन से अकार्बनिक ऋणायन को लवण मेटाथिसिस द्वारा कार्बनिक विलेय से पृथक किया जाता है। जैसे – सोडियम रेनेट का टेट्राब्यूटाइल अमोनियम लवण में रूपान्तरण।

यह अध्याय कक्षा 9 वीं का चौथा है , इस अध्याय में रासायनिक बन्धो के बारे और इनके प्रकार आदि के बारे में विस्तार से बताया गया है साथ ही विभिन्न प्रकार की रासायनिक समीकरणों के बारे में पढाया गया है |

आपको जो टॉपिक पढना हो या जिस प्रश्न का उत्तर चाहिए उस पर क्लिक करने अपनी पढाई करे |

  • प्रतिक
  • आयन
  • मूलक
  • संयोजकता
  • अणुसूत्र
  • रासायनिक बन्ध
  • आयनिक बंध
  • सहसंयोजक बन्ध
  • उपसहसंयोजक बंध
  • रासायनिक समीकरण
  • रासायनिक समीकरण को लिखना

वस्तुनिष्ठ प्रश्न और उत्तर

  1. सोडियम का प्रतिक है ?
  2. कार्बोनेट मूलक का सूत्र है ?
  3. सोडियम क्लोराइड में उपस्थित बंध का नाम है ?
  4. निम्नलिखित में से परिवर्तनशील संयोजकता प्रदर्शित करने वाला तत्व है ?
  5. कैल्सियम ऑक्साइड का सूत्र है ?
  6. तत्वों की आधुनिक प्रतिक प्रणाली के जन्मदाता थे ?
  7. निम्नलिखित में से सहसंयोजक बंध युक्त अणु है ?
  8. Fe निम्नलिखित में से किसका प्रतिक है ?

अतिलघुतरात्मक प्रश्न और उत्तर

9. मूलक किसे कहते है ?

10. आयनिक बंध को परिभाषित कीजिये ?

11. पोटेशियम का प्रतीक और लेटिन नाम बताइये ?

12. अणुसूत्र की परिभाषा लिखिए ?

13. कैल्सियम कार्बोनेट का सूत्र लिखिए ?

14. एक त्रिसंयोजी अम्लीय मूलक का सूत्र लिखिये ?

15. ऋणायन किसे कहते है ?

16. संयोजकता किसे कहते है ?

लघुतरात्मक प्रश्न और उत्तर

17. धनायन का आकार अपने संगत परमाणु से छोटा होता है ? समझाइये

18. परिवर्तनशील संयोजकता को उदाहरण सहित समझाइए

19. उपसहसंयोजक बंध किसे कहते ? एक उदाहरण दीजिये ?

20. आयनन ऊर्जा को समझाइये

21. द्विबन्ध और त्रिबन्ध को उदाहरण सहित समझाइये

निबन्धात्मक प्रश्न और उत्तर

22. सहसंयोजक व आयनिक यौगिकों में अंतर स्पष्ट कीजिये ?

23. निम्नलिखित के अणुसूत्र लिखिए –

  • सोडियम कार्बोनेट
  • जिंक सल्फाइड
  • एलुमिनियम ऑक्साइड
  • फैरिक सल्फेट
  • बेरियम क्लोराइड
  • मैग्नीशियम कार्बोनेट

24. समीकरण संतुलित कीजिये –

  • KClO3 → KCl + O2
  • BaCl2 + AgNO3 → AgCl + Ba(NO3)2
  • Mg + HCl → MgCl2 + H2
  • NaOH + Cl2 → NaCl + NaOCl + H2O