WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

cell mediated immunity in hindi , CMI , कोशिका मध्यवर्ती प्रतिरक्षा क्या है , लसीकीय अंग (Lymphoid organs)

जानेंगे cell mediated immunity in hindi , CMI , कोशिका मध्यवर्ती प्रतिरक्षा क्या है , लसीकीय अंग (Lymphoid organs) ?

कोशिका मध्यवर्ती प्रतिरक्षा (Cell mediated immunity) या CMI

T-कोशिकाओं के कार्य (Functions of T-cells) – कोशिका मध्यवर्ती प्रतिरक्षा T- लिम्फोसाइट्स के प्रतिजन द्वारा उद्दीपन के फलस्वरूप विकसित होती हैं तथा कोशिकाओं पर या कोशिकाओं के निकट उत्पन्न होती है। इस प्रकार की प्रतिरक्षा को उत्तकीय प्रतिरक्षा (tissue immunity) भी कहते हैं क्योंकि यह ऊत्तकों में प्रकट होती है। इस प्रकार की प्रतिरक्षा जब विकसित होती है जब, कवक, प्रोटोजोआ या जीवाणु T-लसिकाणुओं की उद्दीप्त करते हैं । उद्दीप्त लसिकाणु देह के परिवहन तंत्र में प्रवेश कर उस स्थल तक आते हैं जहाँ प्रतिजन पाया जाता है। ये अपने समान T- लिम्फोसाइट्स बनाना आरम्भ कर देती हैं । लसिकाणुओं की संख्या बढ़ती है व स्थानान्तरण कारकों के प्रभाव से प्रतिजन स्थल तक पहुँचते हैं । लसिकाणु लिम्फोब्लास्ट (lymphoblasts) में परिवर्तित होते हैं। इनके द्वारा

अणु भार वाले प्रोटीन पदार्थ संश्लेषित किये जाते हैं जिन्हें लिम्फोकाइन्स (lymphokines) कहते हैं। यद्यपि ये कम या सूक्ष्म मात्रा में उत्पन्न होते हैं किन्तु अत्यधिक क्रियाशील होते हैं। ये अनेक प्रकार के पाये जाते हैं तथा भिन्न-भिन्न प्रभाव उत्पन्न करते हैं जैसे भक्षकाणुओं को प्रतिजन स्थल तक लाने में सक्रिय भूमिका निभाने वाले या अवरोध उत्पन्न करने वाले कुछ भक्षकाणुओं का प्रतिजन स्थल पर एकत्रित होने का प्रभाव उत्पन्न करते हैं। कुल मिलाकर इनका प्रभाव भक्षकाणुशन (phagocytosis) क्रिया में वृद्धि करना होता है।

तरल प्रकार की रोधक क्षमता व कोशिका माध्यित प्रतिरक्षा में अन्तर-

तरल प्रकार की प्रतिरक्षा

कोशिका माध्यित प्रतिरक्षा

1. यह कुछ माह तक ही सीमित रहती हैयह लम्बी अवधि तक बनी रहती है।
2. यह B – लिम्फोसाइट्स द्वारा प्रेरित होती है।यह T-लिम्फोसाइट्स द्वारा प्रेरित होती है।
3. यह रक्त के प्लाज्मा, लसिका एवं श्लेष्मा में पायी जाती है।यह रक्त एवं लसिका उत्तकों में उपस्थित रहती है।

4. इस प्रकार की प्रतिरक्षा जीवाणुओं, इनके द्वारा स्त्रावित आविष एवं विषाणुओं को नष्ट करने हेतु विकसित होती है।यह जीवाणु, विषाणु, कवक प्रोटोजोआ ,हेलमिन्थस, केन्सर तथा अंग प्रत्यारोपण के उद्दीपन स्वरूप विकसित होती है।

लगभग 50 प्रकार के लिम्फोकाइन्स की खोज की जा चुकी है। इन्टरल्युकिन (interleukin) नाम उन पदार्थों के लिये काम में लाया जाता है जो श्वेत रक्ताणुओं द्वारा उत्पन्न किये जाते हैं और अन्य प्रकार के श्वेत रक्ताणुओं पर प्रभाव दर्शाते हैं । इन्टरल्युकिन प्रोटीन प्रकृति के पदार्थ हैं जो T- लसिकाणुओं को परिपक्व होने हेतु उद्दीप्त करते हैं एवं वृद्धि करने एवं विभाजन हेतु उत्तेजित करते हैं। प्रतिजन जब समाप्त हो जाता है तो लिम्फोकाइन्स भी अदृश्य हो जाते हैं किन्तु व्यक्ति में प्रतिरक्षा लम्बे समय बनी रहती है। इसका कारण T- लसिकाणुओं की निवह (colony) या क्लोन (colone) का पाया जाना है जो समान प्रकार के T- लसिकाणुओं का समूह होता है। इन्हें स्मृति T- लिम्फोसाइटस (memory T-lymphocytes) कहते हैं । यदि प्रतिजन पुनः प्रवेश करते हैं तो स्मृति कोशिकाएँ पुनः लिम्फोकाइन्स स्त्रावित करना आरम्भ कर देती है।

एक क्लोन में चार प्रकार की T- कोशिकाएं होती हैं :

(i) सहायक T- कोशिकाएं (helper T-cells) (ii) घातक T- कोशिकाएं (killer T-cells) (iii) अवरोध T-कोशिकाएं (suppressor T-cells), (iv) यादगार T- कोशिकाएं (memory T- cells)। इनमें से प्रथम तीन प्रकार की कोशिकाएं इफैक्टर T- कोशिकाएं कहलाती है। सहायक T- कोशिकाएं एक क्लोन की 75% कोशिकाएँ होती है। ये लिम्फोकाइन्स का स्त्रवण करती है। ये अन्य T-कोशिकाओं वृद्धि व B- लिम्फोसाइट्स को उत्तेजित करने मेक्रोफेजेज व पुनर्भरण तन्त्र (feedback system) को क्रियाशील करती है । घातक या कोशिकीय आविष (cytotoxic cells) संक्रमण स्थल पर पहुँच कर बाह्य काय के सम्पर्क में आकर परफोरिन (perforin) स्त्रावित करती है। परफोरिन छिद्र बनाए जाते हैं। ये जहरीले रसायनों का स्त्रावण करती है इन्हें लिम्फोटॉक्सिन भी कहते हैं जो रोगाणु का नाश करती है। शीघ्र ही घातक कोशिका अलग होकर अन्य रोगाणु पर आक्रमण करती है। ये कैन्सर कोशिकाओं, प्रत्यारोपित (transplanted) अंगों की कोशिकाओं, HIV प्रभावित कोशिकाओं पर भी आक्रमण करती है । अवरोधी T कोशिकाएं सुरक्षात्मक T कोशिकाएं होती है जो प्रतिरक्षा तन्त्र को सक्रिय करती रहती है। यादगार (memory ) T कोशिकाएं पूर्व में संवेदित हो चुकी होती है और आगे भी इसे याद रखने का कार्य करती है ।

प्राथमिक एवं द्वितियक प्रतिरक्षी प्रतिक्रियाएं (Primary and secondary immune responses)

प्रतिरक्षा तन्त्र की प्राथमिक प्रतिरक्षा क्रिया वह होती है जो देह का मुकाबला प्रतिजन से करती है। इस क्रिया में काफी समय लगता है जो उपयुक्त ग्राही (receptor) के विकसित होने की आवश्यकता हेतु लिया जाता है। यह किन्तु इस क्रिया के फलस्वरूप ग्राही एवं याददाश्त (memory) कोशिकाएं बन जाती है। द्वितियक 1 प्रकार की एवं अल्प काल में क्षय होने वाली होती है। प्रतिरक्षा क्रिया वह क्रिया होती है जो उस प्रतिजन से लगातार मुकाबला करती है। यह शीघ्र उत्पन्न होती है। यह अत्यधिक बड़ी व तीव्र प्रतिक्रिया होती है एवं लम्बे काल तक बनी रहती है।

लसीकीय अंग (Lymphoid organs)

ये वे अंग होते हैं जहाँ लिम्फोसाइट्स का निर्माण व परिपक्वन (maturation) होता हैं। अर्थात् BT कोशिकाओं के बनने व परिपक्व होने का ये स्थल होती हैं। यहाँ पर ही ये अपने लिये विशिष्ट प्रतिजन ग्राही प्राप्त करती है। ये अस्थिरमज्जा की फ्लूरोपोटेन्ट (pleuropotent) स्टेम कोशिकाओं से विकसित होती है। B-लिम्फोसाइट्स अस्थि मज्जा में व T- लिम्फोसाइट्स थाइमस में परिपक्व होती हैं। ये दोनों परिपक्व होकर परिवहन तन्त्र में प्रवेश कर जाती है एवं अन्य लसीका अंगों में वृद्धि व विभेदन करती है। ये अंग द्वितीयक लसीका अंग कहलाते हैं। ये लसीका गाँठे (lymphoid nodes). प्लीहा (spleen) व लसीका ऊत्तक होते हैं जो श्वसन वाहिका क्षेत्र के ऊत्तक, पाचक अंगों के लसीका ऊत्तक (टान्सिलस व पेयर के पिण्ड) व श्लेष्मिक सतहें होती हैं। दोनों प्रकार के लिम्फोसाइट्स उसी द्वितीयक लसीका अंगों किन्तु पृथक-पृथक क्षेत्रों में रहती है। जब कोई बाह्य कारक देह में प्रवेश करता है तो उन द्वितीयक लसीका अंगों द्वारा फँसा लिया जाता है। अब T व B कोशिकाएं प्रतिरक्षी क्रियाएं करना आरम्भ करती है।

आविष (Toxin)

वे पदार्थ जो सूक्ष्मजीव द्वारा पोषक की देह में उत्पन्न किये जाते हैं तथा पोषक में रोग का कारण होते हैं अथवा हानि पहुँचाते हैं, आविष कहलाते हैं। ये दो प्रकार के होते हैं। हैं

(i) बाह्य आविष (Exotoxins ) : ऊष्मा अस्थिर (heat labile), प्रोटीन होते हैं जो पोषक की देह में शीघ्रता से विसरित होते हैं और सूक्ष्म मात्रा में भी अत्यन्त हानिकारक होते हैं। इनकी सूक्ष्मतम मात्रा ही घातक अर्थात् जहरीली होती है, 3 कि. ग्राम बाऊटिलिनम आविष । पूरे विश्व जनसंख्या को समाप्त करने के लिए काफी है। । मि. ग्राम टेट्नस का आविष । करोड़ गिनी पिग को समाप्त करने में सक्षम है। इन्हें फार्मेल्डिहाइड द्वारा अहानिकारक टाक्सॉइड (toxiod) में परिवर्तत किया जा सकता है किन्तु ये प्रतिरक्षी (antibodies) उत्पन्न करने में सक्षम होते हैं। ये विशिष्ट ऊत्तकों एवं औषधियों के प्रति बंधुता रखते हैं। बाह्य आविष अधिकतर ग्रैम स्वर्णी व कुछ ग्रैम अवर्णी जीवाणुओं द्वारा उत्पन्न किये जाते हैं । (ii) अन्तः आविष (endotoxins) ताप स्थिर (heat stable) प्रोटीन व लिपिड के जटिल होते हैं जो ग्रैम अवर्णी जीवाणुओं द्वारा उत्पन्न किये जाते हैं। ये जीवाणु द्वारा बाहर स्त्रावित नहीं होते हैं किन्तु कोशिका भित्ति के टूटने पर सक्रिय हो जाते हैं। इन्हें अहानिकारक पदार्थों (टाक्सॉइड) में परिवर्तित नहीं किया जा सकता। इनकी घातक मात्रा अपेक्षाकृत अधिक होती है। ये औषधियों के प्रति विशिष्ट बंधुता नहीं प्रकट करते हैं। इनके देह में फैलने ज्वर हो सकता है जो कई घंटों तक बना रहता है। इनके द्वारा रक्त युक्त पेचिश, उच्च रक्त दाब रक्त परिवहन से संबंधित रोग, रक्त के रोग आदि हो सकते हैं तथा रोगी की मृत्यु हो सकती है।

प्रश्न (Questions)

  1. निम्नलिखित के अतिलघु/ एक शब्द में उत्तर दीजिये-

Give very short/one word answer of the following-

  1. अवशिष्ट प्रतिरोधकता के फलस्वरूप प्राणी की देह से स्त्रावित किये जाने वाले एक प्रतिरोधी पदार्थ का नाम बताइये ।

Write the name of a substance secreted due to non specific resistance by the body of an organism.

  1. मनुष्य के प्रतिरक्षी तन्त्र में अनुमानत: कितनी कोशिकाएँ भाग लेती हैं ?

How many cells take part in immune system of man approximately.

  1. प्रतिरक्षी प्रतिक्रिया किन पदार्थों के लिये की जाती है ?

For which substances immune response is done?

  1. टीके की खोज किस वैज्ञानिक द्वारा की गयी ?

Which scientist discovered the vaccine?

  1. प्राणी में उपस्थित जन्मजात प्रतिरक्षा किस नाम से जानी जाती है ?

What name is given to immunity found in animal by birth?

  1. प्रतिरक्षा शब्द किस लेटिन शब्द से लिया गया है-

From which Latin word Immunity is taken ?

  1. भक्षाणुक्षण की खोज किस वैज्ञानिक द्वारा की गयी है ?.

By which scientist phagocytosis was discovered.

  1. “प्रतिरक्षीकीय” की रासायनिक संरचना ज्ञात करने वाले वैज्ञानिकों के नाम बताइये ।

Write the names of scientist who gave chemical structure of antibody.

  1. नल कोशिकाएं क्या होती हैं ?

What are null cells?

  1. वयस्क मनुष्य में कितनी मात्रा में प्रोटीन प्रतिरक्षी क्रियाओं से सम्बन्धित पाया जाता है ?

How much protein is found in adult human being related to immunity.

  1. कोशिका माध्यित प्रतिरक्षा पर निबन्ध लिखिये ।

Write an essay in cell mediated immunity.

  1. स्मृति कोशिका किसे कहते हैं ?

What is memory cell?

  1. B- लिम्फोसाइट्स कहा बनती है ?

Where B lymphaytes are produced.

  1. B- कोशिका व T- कोशिका में अन्तर बताइये ।

Write different between B-cell & T-cell

  1. प्लाज्मा कोशिकाएं किसे कहते हैं ?

What is plasma cell ?

  1. IgG व Igm किसे कहते हैं ?

What are IgG and Igm.

  1. भक्षाणुनाशन किसे कहते हैं ?

What is phagocytosis.

  1. जाति विशिष्ट प्रतिरक्षा क्या है ?

What is species specific immunity.

  1. स्वाभाविक व उपार्जित प्रतिरक्षा में विभेदन कीजिये उपार्जित प्रतिरक्षा को विभिन्न श्रेणियों में वर्गीकृत कीजिये ।

Differentiate between innateard acquired immunity classify the acquired immunity in tovarious classes.

  1. प्रतिजन्स क्या है ? प्रतिजनिकता व प्रतिजनकता के प्रभावित कारकों पर लेख लिखिये ।

What are antigens ? add a note on antigenicity and factors affecting antigenicity.

  1. तीन हिस्टिओसाइट्स कोशिकाओं के नाम लिखिये ।

Write down the names of three histiocytes.

  1. मेकोफेजेज कोशिकाओं के स्त्रावी उत्पादों के नाम लिखिये ।

Write down the names of secretory products of Macsophages.

  1. शरीर की रोधक क्षमता सम्बन्धी क्रियाओं के लिये जिम्मेदार जीन्स के सेट का नाम क्या है?

Write the collective names for the set of genes responsible for immune reactions of body.

  1. विभिन्न प्रकार की उपार्जित रोधकक्षमता उदाहरण सहित बताइये ।

Name the types of acquired immunity with suitable examples.

II- लघु उत्तर वाले प्रश्न

Short answer questions

  1. तरल एवं कोशिका माध्यित प्रतिरक्षा में क्या अन्तर है ? कोशिका माध्यित प्रतिरक्षा में भाग लेने वाली कोशिकाओं के नाम लिखिये ।

What is the difference in between humoral and cell mediated immunty? Describe the functions of cell involve shith

  1. निम्नलिखित पर सूक्ष्म टिप्पणी कीजिये-

(Write short notes on the following)

(i) प्रतिरक्षी तन्त्र का उद्भव ( Origin of immune system) (ii) आविष (Toxin)

(ii) स्वभावज एवं उपार्जित प्रतिरक्षा के अन्तर (Difference immunity) in innate and acquired

(iv) सक्रिय एवं अक्रिय रोधकक्षमता (Active and passive immunity)

(v) स्वभावज प्रतिरक्षा (Innate immunity)

(vi) अविशिष्ट प्रतिरक्षा (Non specific immunity)

(vii)रोधकक्षमता (Resistance)

(viii) स्वभावज व उपार्जित रोधक क्षमता ( Innate and acquired immunity)

  1. शोथ क्रिया एवं ज्वर देह के लिये लाभदायक है, सिद्ध कीजिये ।

Inflammation and fever is benefitial for body prove it.

  1. त्वचा, आहारनाल मूत्रजनन तन्त्र व श्लेष्मिक कलाओं की रोधकता में क्या भूमिका रहती है ?

What role is played by skin, alimentary canal, urinogenital system and mucosal membranes in resistance?

  1. भक्षाणुशय किस प्रकार देह को संक्रमण से सुरक्षा प्रदान करने वाली क्रिया है ?

How phagocytosis is that activity which provides defense against infection in body ?

  1. अप्सिनेशन क्या है ?

What is opsination?

  1. कोशिका मध्यवर्ती रोधकक्षमता क्या है ? कोशिका मध्यवर्ती रोधक क्षमता में भाग लेने वाली कोशिकाओं के कार्यों का वर्णन कीजिये ।

What is cell mediated immunity? Describe the functions of cell involve in cell mediated immunity.

  1. प्रतिरक्षी को परिभाषित कीजिये किन्हीं चार प्रकार मुख्य प्रकार के प्रतिरक्षियों की संरचना का चित्र सहित वर्णन कीजिए ।

Define antibody. Describe structure of any four major types of antibodies with the help of suitable diagrams.

  1. निम्नलिखित पर संक्षिप्त टिप्पणियां लिखिये ।

(i) हेप्टेन्स

Write short notes following-

(i) Haptens

(ii) अणुओं की प्रतिजनिकता (ii) Antigenicity of molecules

  1. अपरा को पार करने वाला क्षमता युक्त प्रतिरक्षी ग्लोबुलिन कौन सा है ?

Which immunogloblin concross placenta.

  1. हेपटेन्स के दो उदाहरण दीजिये ।

Give two examples of haptens.

  1. तरल प्रकार की प्रतिरक्षा पर निबन्ध लिखिये ।

Write a short note on humoral immunity.

  1. स्तम्भ कोशिकाएं कहाँ पायी जाती हैं।

Where the stam cells are found?

  1. तरल प्रतिरक्षा का दूसरा नाम क्या है ?

Write the other name of humoral immunity.

  1. सक्रिय एवं अक्रिय प्रतिरक्षा से आप क्या समझते हैं ?

What do you know about active and passive immunity ? | एम. डी. एस. 2006, 08, 09]

  1. प्रतिरक्षीकाय पर एक निबन्ध लिखिये ।

Write an essay on Antibodies.

  1. नील्सजैर्न को किस कार्य हेतु किस वर्ष में नोबल पुरस्कार दिया गया था।

In which year for what work Niels jerne received nobel prize.

  1. विभिन्न प्रकारों का वर्णन करते हुए प्रतिरक्षण तन्त्र पर एक लेख लिखिये ।

Write an essay on immunity describing various kinds of immunity.

  1. प्रतिजन प्रतिरक्षा अभिक्रिया का एक विवरण दीजिये। Write an account on the antigen antibody reaction.
  2. निम्नलिखित में से किन्हीं दो पर टिप्पणियाँ लिखिये

(अ) टीके

(ब) इम्यूनोग्लोबुलिन

(स) एपीटोप

Write short notes on any two of the followings:

(a) Vaocines (b) Immunoglobulin (c) Epitope

  1. रोगजनक को परिभाषित कीजिये ।

Define Pathogen

  1. समूहन को परिभाषित कीजिये ।

Define agglutiniation.

  1. प्रतिरक्षी ग्लोबुलिन पर सूक्ष्म टिप्पणी कीजिये ।

Write shot note on immunoglobulin.

  1. मेक्रोफेजेज के बारे में लिखिये ।

Write about macrophages.

  1. व्यक्ति विशिष्ट प्रतिरक्षा क्या ?

What is individual specific immunity.

  1. स्पीटोप व पेराटोप में विभेदन कीजिये ।

Differentiate between epitope and paratope.

  1. तरल एवं कोशिका माध्यित प्रतिरक्षा में अन्तर बताइये ।

Differentiate homoral and cell mediated immunity

  1. प्रतिरक्षा की कोशिओं पर लेख लिखिये ।

Write an essay on cells of immunity.

  1. इन्टरफेरान क्या है ?

What are interferons ?

  1. प्रतिरोधकता को परिभाषित कीजिये ।

Define immunity.

  1. अणुओं की प्रतिजनिकता पर टिप्पणी कीजिये ।

Write an note of antigemicity of molecules.

  1. विशिष्ट एवं अविशिष्ट रोधकक्षमता पर लेख लिखिये ।

Write an essay on specific and non specific immunity.

  1. अभिग्रहीत रोधकक्षमता से आप क्या समझते हैं ?

What do you mean by acquired immunity?

  1. लिसिकाणुओं पर संक्षिप्त टिप्पणी कीजिये।

White short note of T lymphocytes.

  1. प्रतिरक्षी ग्लोबुलिन की आधारभूत संरचना का वर्णन कीजिये व इसके WHO के वर्गीकरण की विवेचना कीजिये।

Describe the structure of immunoglobulin and discuss the who classification of immunoglobulin.

  1. पूरक तन्त्र व भक्षाणुनाशनी पर टिप्पणी कीजिये ।

Write short note on complement system and phagocytosis.

  1. प्राकृतिक अर्णित निष्क्रिय प्रतिरक्षा को परिभाषित कीजिये।

Define natural active passive immunity.

  1. T हेल्पर व T स्प्रेसर कोशिकाओं के कार्य लिखिये ।

Write the functions of thelper and T supprosor cells.

  1. अविशिष्ट रोधकक्षमता की चार श्रेणियों के नाम लिखिये ।

Name the four categories of non specific resistance..

  1. निम्नलिखित पर संक्षिप्त टिप्पणियां लिखिये | IgG बल Igm

Write short note IaG and Igm.

  1. पूरक तन्त्र पर विस्तार से लेख लिखिये ।

Write an essay on complement system in detail.