Category Archives: physics

स्थायी चुम्बक तथा विद्युत चुम्बक की परिभाषा क्या है , permanent magnet and electromagnet in hindi

permanent magnet and electromagnet in hindi , स्थायी चुम्बक तथा विद्युत चुम्बक की परिभाषा क्या है , विद्युत चुंबक और स्थायी चुंबक में क्या अंतर है :- चुम्बकीय क्षेत्र के प्रति व्यवहार के आधार पर पदार्थों का वर्गीकरण : पदार्थों को असमान चुम्बकीय क्षेत्र में रखा तो पाया कुछ पदार्थ ऐसे पाए गए जो असमान… Continue reading »

चुंबकीय याम्योत्तर की परिभाषा दीजिए , चुम्बकीय याम्योतर क्या है ? Magnetic meridian meaning in hindi

Magnetic meridian meaning in hindi , चुंबकीय याम्योत्तर की परिभाषा दीजिए , चुम्बकीय याम्योतर क्या है ? :- भू चुम्बकत्व : पृथ्वी एक चुम्बक की तरह व्यवहार करती है। पृथ्वी के चुम्बकत्व को भू-चुंबकत्व कहते है। पृथ्वी के चुम्बक का उत्तरी ध्रुव दक्षिण की ओर तथा दक्षिणी ध्रुव उत्तर की है। पृथ्वी के चुम्बकत्व के बारे… Continue reading »

चुंबकत्व किसे कहते हैं , चुम्बकत्व क्या है , परिभाषा , magnetism meaning in hindi , definition

magnetism meaning in hindi , definition , चुंबकत्व किसे कहते हैं , चुम्बकत्व क्या है , परिभाषा :- चुंबकत्व एवं द्रव्य : चुम्बक की सबसे पहले खोज यूनान के मैग्नीशिया नामक स्थान पर हुई इसी स्थान के नाम पर इसका पूरा नाम मैग्नेट रखा गया। इसी को चुम्बक कहते है। चुम्बकत्व सम्बन्धित कुछ सामान्य जानकारी :… Continue reading »

चल कुंडली धारामापी या गेल्वेनोमीटर , Galvanometer in hindi , सिद्धांत , चल कुण्डली धारामापी चित्र , अर्थ

Galvanometer in hindi , चल कुंडली धारामापी या गेल्वेनोमीटर , सिद्धांत , चल कुण्डली धारामापी चित्र , अर्थ :- चल कुण्डली गैल्वेनोमीटर : इसमें ताम्बे के तारों की बनी कई फेरो वाली कुण्डली दो चूलों की सहायता से शक्तिशाली चुम्बकीय ध्रुवों M व S के मध्य रखी हुई है , इस कुण्डली के मीटर एक… Continue reading »

विद्युत चुंबकीय बल की परिभाषा क्या है ? उदाहरण , मात्रक , इकाई , electromagnetic force in hindi

electromagnetic force in hindi , विद्युत चुंबकीय बल की परिभाषा क्या है ? उदाहरण , मात्रक , इकाई :- परिनालिका एवं टोराइड : परिनालिका और टोरोइड ऐसे उपकरण है जिनकी सहायता से चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न किया जा सकता है | परिनालिका से उत्पन्न चुम्बकीय क्षेत्र का उपयोग टेलीविजन में किया जाता है जबकि सिक्रोटोन में चुम्बकीय क्षेत्र… Continue reading »

एम्पियर का परिपथीय नियम , एंपीयर का परिपथ नियम बताइए क्या है , ampere circuital law in hindi

एम्पियर का परिपथीय नियम , एंपीयर का परिपथ नियम बताइए क्या है , ampere circuital law in hindi

ampere circuital law in hindi , एम्पियर का परिपथीय नियम , एंपीयर का परिपथ नियम बताइए क्या है :- साइक्लोट्रॉन : प्रत्यावर्ती धारा :- उस धारा को कहते है जिसका आधा भाग धनात्मक तथा आधा भाग ऋणात्मक होता है अर्थात 0 से 2π धनात्मक तथा 2π से 4π तक ऋणात्मक होता है। साइक्लोट्रोन में विद्युत क्षेत्र व चुम्बकीय क्षेत्र दोनों एक… Continue reading »

स्प्रिंग के दोलन , oscillation in spring in hindi , स्प्रिंगों का श्रेणीक्रम , समान्तर क्रम में संयोजन combination of springs

स्प्रिंग के दोलन , oscillation in spring in hindi , स्प्रिंगों का श्रेणीक्रम , समान्तर क्रम में संयोजन combination of springs

combination of springs in series and parallel in hindi , स्प्रिंग के दोलन , oscillation in spring in hindi , स्प्रिंगों का श्रेणीक्रम , समान्तर क्रम में संयोजन :- माध्य गतिज ऊर्जा (Mean kinetic energy) : सरल आवर्त गति में गतिज ऊर्जा भिन्न भिन्न स्थितियों में भिन्न भिन्न होती है। इसका मान 0 से mw2a2/2 के बीच… Continue reading »

कण की परिभाषा , मूल बिन्दु , बिंदु कण किसे कहते है , particle meaning and definition in hindi , basic point

particle meaning and definition in hindi , कण की परिभाषा , मूल बिन्दु , बिंदु कण किसे कहते है , basic point in hindi :- कण : किसी पदार्थ का वह छोटे से छोटे भाग जिसे उसके द्रव्यमान व स्थिति द्वारा प्रदर्शित किया जा सके कण कहते है। जैसे : सूर्य के चारों ओर ग्रहों की… Continue reading »

सेकंड लोलक का आवर्तकाल होता है , time period of seconds pendulum in hindi , how does time period of a seconds pendulum vary with length

how does time period of a seconds pendulum vary with length , सेकंड लोलक का आवर्तकाल होता है , time period of seconds pendulum in hindi :- सरल आवर्त गति कर रहे कण के लिए बल का नियम : सरल आवर्त गति कर रहे कण पर लगने वाले प्रत्यानयन बल का मान विस्थापन के समानुपाती तथा… Continue reading »

दोलन गति की परिभाषा क्या है , सरल आवर्त गति , एक समान वृत्ताकार पथ पर सरल आवर्त गति oscillation class 11 in hindi

oscillation class 11 in hindi , दोलन गति की परिभाषा क्या है , सरल आवर्त गति , एक समान वृत्ताकार पथ पर सरल आवर्त गति , वेग , त्वरण :- दोलन : आवर्त गति : किसी पिण्ड या वस्तु की होने वाली ऐसी गति जिसमे पिण्ड निश्चित समयान्तराल में बार बार अपने निश्चित पथ को बार… Continue reading »