WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

कार्बोक्सिलिक अम्ल क्या है , नामकरण , बनाने की विधियां , Carboxylic acid

कार्बोक्सिलिक अम्ल (Carboxylic acid)

परिचय :

  1. -COOH को कार्बोक्सिलिक अम्ल कहते है।
  2. इसका सामान्य सूत्र CnH2n+1-OOH या CnH2nO2होता है।
  3. इनका IUPAC नाम Alkanoic acid होता है।
  4. इनका साधारण नाम Form , acet , propion , buter , veler , capro अंत ic acid लगाकर नाम दिया जाता है। 5. अंत में सभी कार्बोक्सिलिक अम्ल NaHCO3से क्रिया करके CO2गैस बाहर निकालते है। (पहचान के लिए परिक्षण )

R-COOH + NaHCO3→ R-COONa + CO2+ H2O

H-COOHFormic acidMethanoic acid
CH3-COOHAcetic acidEthanoic acid
CH3-CH2COOHPropic acidPropanoic acid
CH3-CH2-CH2-COOHButyric acidButanoic acid
2(COOH)ऑक्सेलिक अम्लEthane-1,2.dioic acid
HOOC-CH2-COOHमेलोनिक अम्लPropane-1,3-dioic acid
HOOC-CH2-CH2-COOHसक्सिनिक अम्लButan-1,4, dioic acid
HOOC-(CH2)3-COOHग्लूटेरिक अम्लPentan-1,5-dioic acid
HOOC-(CH2)4-COOHएडीपिक अम्लHexan-1,6-dioic acid
C6H5-COOHxBenzoic acid या बेंजीन कार्बोक्सिलिक अम्ल
C6H5-CH2-COOHफेनिल एसिटिल अम्ल2-phenyl ethanoic acid

कार्बोक्सिलिक अम्ल बनाने की विधियां (Methods of making carboxylic acid):

RMgX की क्रिया ठोस CO2से करने पर तथा बने पदार्थ के जल अपघटन से

CH3-MgX + CO2→ CH3-COOMgX (+H2O)→ CH3-COOH

C6H5-MgBr + + CO2→ C6H5-COOMgBr → C6H5-COOH

नोट : इस विधि से फॉर्मिक अम्ल नहीं बनाया जा सकता।

सायनाइड के पूर्ण जल अपघटन से :

R-CN + H2O → R-CO-NH2

R-CO-NH2+ H2O → R-COOH + NH3

R-CN + 2H2O → R-COOH + NH3

C6H5-CN + 2H2O → C6H5-COOH + NH3

अम्ल क्लोराइड के जल अपघटन से :

R-COCl + H-OH → HCl + R-COOH

CH3-COCl + H-OH → HCl + CH3-COOH

C6H5-COCl + H-OH → HCl + C6H5-COOH

ऐमाइड के पूर्ण जल अपघटन से :

R-CO-NH2+ H-OH → NH3+ R-COOH

CH3– CO-NH2+ H-OH → NH3+ CH3-COOH

C6H5-CO-NH2+ H-OH → NH3+ C6H5– COOH

एस्टर के जल अपघटन से :

एस्टर का अम्लीय माध्यम में जल अपघटन करने पर कार्बोक्सिलिक अम्ल व ऐल्कोहल बनते है जबकि क्षारीय माध्यम में जल अपघटन करने पर कार्बोक्सिलिक अम्ल का लवण तथा एल्कोहल बनते है।

R-COOR + H-OH → R-COOH + R-OH

CH3-COOC2H5+ H-OH → CH3-COOH + C2H5-OH

CH3-COOC2H5+ NaOH → CH3-COONa + C2H5-OH → CH3-COOH + Na

एल्डिहाइड या एल्कोहल के ऑक्सीकरण से

R-CHO + (O) → R-COOH

R-CH2-OH + (O) → R-CHO → R-COOH

नोट : जोन्स अभिकर्मक CrO3तथा सांद्र H2SO4सीधे ही 10एल्कोहल को कार्बोक्सिलिक अम्ल में बदल देता है।

R-CH2-OH + 2(O) → R-COOH + H2O

एल्किल बेंजीन का क्षारीय KMnO4तथा जल द्वारा ऑक्सीकरण करने पर

इस क्रिया में बेंजीन वलय से कितनी ही लम्बी श्रृंखला वाला एल्किल समूह जुड़ा हो वह हमेशा COOH में परिवर्तित हो जाता है।

नोट : बेंजीन वलय से 10या 20एल्किल समूह जुड़ा होने पर ही क्रिया होती है जबकि 30एल्किल समूह जुड़ा होने पर कोई क्रिया नहीं होती।