c++ : scope and linkage , what is scope and linkage in c++ language in hindi , External , internal , Global scope

By  
External , internal , Global scope , c++ : scope and linkage , what is scope and linkage in c++ language in hindi  :-
इससे पहले के article मे  memory space को discuss किया है |  storage class मे data variable के memory access को define किया जाता है | c++ language मे  निन्म storage class को मुख्य है :
1. Automatic
जब किसी variable को function definition मे define किया जाता है तब इस variable का storage class automatic होता है | ये variable तब execute होता जब function को execute किया जाता है | variable के लिए allocate memory free हो जाती जब function का execution नहीं होता है | c++ language मे निन्म दो प्रकार के variable होते है :
Static :
जब किसी variable को function के बहार declare किये जाता है पर इस variable को static keyword के साथ declare किया जाता है | तब इस variable को  static variable कहते है | इसकी variable की value पुरे प्रोग्राम मे constant रहती है | c++ language मे , तीन प्रकार के static variable होते है |
dynamic :
जब किस variable को new operator से allocate किया जाता है तब इस variable को dynamic variable कहते है  | इस variable को free तब किया जाता है जब तक इसकी delete() function को declare नहीं किया जाता है |
Scope And Linkage
scope का मतलब है life time of variable in file |जब किसी variable को function की अनादर use किया जाता है | इस variable को केवल function मे use किया जाता है | लेकिन जब variable को को function के बहार declare किया जाता है तब इस variable को सभी functions मे use किया जा सकता है ||
linkage का मतलब है किसी name को अलग अलग functions मे use कैसे किया जा सकता है | ये दो प्रकार होता है :
External Linkage
जब किसी name को external linkage के साथ use किया जा सकता है तब इस name को अलग अलग files मे use किया जा सकता है |
Internal Linkage
जब किसी name को internal linkage के साथ use किया जाता है तब इस name को केवल एक file के functions को use किया जा सकता है |
c++ मे  कई प्रकार के scope को use किया जाता है जैसे
local scope : local scope को केवल एक block मे ही declare किया जाता है | जैसे अगर for()loop मे control variable ‘i’ को केवल फोए loop की body मे ही use किया जा सकता है |इसे block scope भी कहते है | क्योकि इसे block मे ही use किया जा सकता है |
Global scope
global scope का मतलब होता हगे variable की lifetime पुरे प्रोग्राम के समय होता है |
automatic variable का scope local होता है लेकिन static variable का scope global और local दोनों हो सकता है |
name को किसी function के argument मे pass किया जाता है तब इसका scope function prototype scope है | किसी class के member function का scope class scope होता है |जब किसी variable को namespace मे declare किया जाता है तब इस variable का scope namespace होता है  |
c++ function का scope class scope और namespace scope दोनों  होते है | अतः इसका scope global होता है लेकिन इसका scope local नहीं होता है |
Automatic Storage Duration
function parameter और variables को किसी function के अन्दर declare किया जाता है तब उसका scope आटोमेटिक होता है | इसका scope local होता है लेकिन इसमें linkage नहीं होता है |  उदाहरन के लिए ज variable tax को main () function मे use किया जा सकता है या यूजर द्वारा किसी दुसरे function मे equal name का use किया जा सकता है |
जब किसिस प्रोग्राम मे variable को execute किया जाता है तब प्रोग्राम innermost block को allocate करता है | जो की function definition को hold करता है | जब function terminate हो जाता है जब ये block भी free हो जाता है |
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void oil(int a);
using namespace std;
int main()
{
int tax= 234;
int year = 2001;
cout<<“IN main(), tax = “<<tax <<“, &tax : “<<&tax;
cout<<“IN main(), year = “<<year <<“, &year : “<<&year;
oil(tax);
cout<<“IN main(), tax = “<<tax <<“, &tax : “<<&tax;
cout<<“IN main(), year = “<<year <<“, &year : “<<&year;
getch();
}
void oil(int a)
{
int tax = 5;
cout<<“IN oil(), tax = “<<tax <<“, &tax : “<<&tax;
cout<<“IN oil(), a = “<<a <<“, &a : “<<&a;
{
int tax=8;
cout<<“IN block , tax = “<<tax <<“, &tax : “<<&tax;
cout<<“IN block , a = “<<a <<“, &a : “<<&a;
}
इस प्रोग्राम मे variable tax को तीन बार declare किया जाता है | इस function मे variable tax को main() function मे declare किया जाता है | सबसे पहले tax की value print किया जाता है |
इसके बाद tax की value को oil() function मे पास किया जाता है | इसके बाद tax की value को print किया जाता है
oil() मे ,
इस function मे tax को भी declare किया जाता है और इसकी value ‘5’ होती है | इसके बाद tax की value को print किया जाता है |
किसी block मे tax को declare किया जाता है | इसमें tax की value ‘8’ को initial किया जाता है | इसके बाद tax की value को print किया जाता है |
इसका आउटपुट होगा :
IN main(), tax  = 234 , &tax : 4032
IN main(), year = 2001 , &tax : 4034
IN main(), tax  = 5 , &tax : 4032
IN main(), year = 2001 , &tax : 4034
IN main(), tax  = 234 , &tax : 4032
IN main(), year = 2001 , &tax : 4034
IN main(), tax  = 8 , &tax : 4036
IN main(), year = 2001 , &tax : 4038
इस article मे , scope को discuss किया जाता है | अब आगे article मे , namespace को discuss करेगे |