स्थिर क्वाथी मिश्रण क्या है , न्यूनतम और अधिकतम स्थिर क्वाथी मिश्रण (azeotropic mixture in hindi)

By  
(azeotropic mixture in hindi) स्थिर क्वाथी मिश्रण क्या है , न्यूनतम और अधिकतम स्थिर क्वाथी मिश्रण : ऐसा मिश्रण जिसका द्रव और वाष्प अवस्था में संघटन समान रहता है तथा ऐसे मिश्रण के लिए एक निश्चित क्वथनांक होता है अर्थात जो एक निश्चित ताप पर उबलता है , ऐसे मिश्रण को स्थिरक्वाथी मिश्रण कहते है।
ऐसे मिश्रण को स्थिर क्वथनांक मिश्रण भी कहते है क्यूंकि ऐसा मिश्रण एक निश्चित ताप पर मिश्रण अवस्था से वाष्प अवस्था में बदल जाता है।
ऐसे मिश्रण के अवयवों को प्रभाजी आसवन द्वारा अलग नहीं किया जा सकता है , अर्थात इस प्रकार का मिश्रण जिन घटकों से मिलकर बना होता है उन्हें प्रभाजी आसवन विधि द्वारा पृथक नहीं किया जा सकता है।
स्थिर क्वाथी मिश्रण के प्रकार –
स्थिरक्वाथी मिश्रण को दो भागों में बांटा गया है –
1. न्यूनतम स्थिर क्वाथी मिश्रण या न्यूनतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी (Minimum boiling azeotrope)
2. अधिकतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी (Maximum boiling azeotrope)

1. न्यूनतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी (Minimum boiling azeotrope)

ऐसा मिश्रण जिसका क्वथनांक , इसके घटकों के क्वथनांक से कम होता है उसे न्यूनतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी कहते है। वे मिश्रण जो राउल्ट के नियम से बहुत अधिक धनात्मक विचलन प्रदर्शित करते है वे न्यूनतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी प्रकार के मिश्रण होते है।
उदाहरण :
95% एल्कोहल और 5% जल का मिश्रण न्यूनतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी है। क्यूंकि शुद्ध अवस्था में जल का क्वथनांक 100 डिग्री सेल्सियस होता है तथा एल्कोहल का शुद्ध अवस्था में क्वथनांक 78.5 डिग्री सेल्सियस होता है , जब इन दोनों पदार्थों को मिलाकर मिश्रण बनाया जाता है तो मिश्रण का क्वथनांक 78 डिग्री सेल्सियस होता है जो दोनों अवयवो के क्वथनांक से कम है इसलिए इसे न्यूनतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी मिश्रण कहते है।

2. अधिकतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी (Maximum boiling azeotrope)

ऐसा मिश्रण जिसका क्वथनांक , इसके घटकों के क्वथनांक से अधिक होता है अर्थात जिन घटकों से मिलकर ऐसा मिश्रण बना होता है उन घटकों का शुद्ध अवस्था में क्वथनांक , मिश्रण के क्वथनांक से कम होता है।
जो मिश्रण राउल्ट के नियम से बहुत अधिक ऋणात्मक विचलन प्रदर्शित करते है वे अधिकतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी मिश्रण होते है।
उदाहरण :
जब 68% HNOऔर 32% जल में मिलाकर मिश्रण बनाया जाता है तो यह विलयन या मिश्रण अधिकतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी मिश्रण बनता है क्यूंकि HNO3 का शुद्ध अवस्था में क्वथनांक 86 डिग्री सेल्सियस होता है तथा जल का शुद्ध अवस्था में क्वथनांक 100 डिग्री सेल्सियस होता है लेकिन जब इन दोनों पदार्थो को मिलाकर मिश्रण बनाया जाता है तो इस मिश्रण का क्वथनांक 120.5 डिग्री सेल्सियस होता है जो दोनों के क्वथनांक से ज्यादा है इसलिए इस मिश्रण को अधिकतम क्वथनांकी स्थिरक्वाथी मिश्रण कहते है।