अ का उच्चारण स्थान क्या है ? a ka ucharan sthan kahan hai अ का उच्चारण स्थान कौनसा है

By  

a ka ucharan sthan kahan hai ? अ का उच्चारण स्थान क्या है ? अ का उच्चारण स्थान कौनसा है ?

भाषा-1ः हिन्दी
1. ‘निमिष‘ शब्द का पर्याय है –
(अ) प्रकाश (ब) छिद्र
(स) पूर्ण (द) क्षण
2. ‘निष्कपट‘ शब्द का सन्धि-विच्छेद है-
(अ) निः + कपट (ब) निष् + कपट
(स) नि + कपट (द) निश् + कपट
3. ‘अत्यन्त‘ शब्द में प्रयुक्त उपसर्ग है-
(अ) अत् (ब) अ
(स) अत्य (द) अति
4. ‘मुझसे उठा नहीं गया‘ वाक्य में कौन-सा वाच्य है
(अ) कर्तृवाच्य (ब) कर्मवाच्य
(स) भाववाच्य (द) इनमें से कोई नहीं
5. निम्न में से किस शब्द की वर्तनी सही नहीं है?
(अ) अनुग्रहीत (ब) अनुगृहीत
(स) अनग्रहीत (द) अनुग्रहित
6. ‘उपत्यका‘ का अर्थ है
(अ) सूर्य जिस पर्वत के पीछे से निकलता है
(ब) प्राणियों के पेट का एक अंग
(स) पर्वत का शिखर
(द) पर्वत के पास की भूमि
7. ‘जिसकी पूर्व से कोई आशा न हो‘ के लिए एक शब्द है
(अ) प्रत्याशा (ब) अप्रत्याशित
(स) अपरिमेय (द) अपेक्षित
8. ‘अपेक्षा‘ का विशेषण रूप क्या है?
(अ) सापेक्ष (ब) उपेक्षा
(स) निरपेक्ष (द) अपेक्षित
9. ‘अ‘ का उच्चारण स्थान होता है-
अ) नासिक्य (ब) कण्ठौष्ठ्य
(स) मूर्धन्य (द) कण्ठतालव्य

उत्तर :  9. (अ)

उत्तर व्याख्या : 9. ‘ङ‘ का उच्चारण स्थान नासिक्य होता है। इसके अतिरिक्त अं, अँ, ´, ण, न् तथा म् ध्वनियों का उच्चारण स्थान भी नासिक्य है। नासिक वनियों के उच्चारण में श्वास वायु नाक से होकर निकलती है।
10. ‘गोधूम‘ शब्द का तद्भव है-
(अ) गेहूँ (ब) गाय
(स) गोबर (द) गोधन
11. ‘श‘ ध्वनि का उच्चारण स्थान क्या है?
(अ) दन्त (ब) मूर्धा
(स) तालु (द) दन्तालु
12. ‘चार गज मलमल‘ में कौन-सा विशेषण है?
(अ) संख्यावाचक (ब) गुणवाचक
(स) परिमाणबोधक (द) सार्वनामिक
13. ‘सीस‘ का तम्सम रूप क्या है?
(अ) शीशा (ब) शीर्ष
(स) सिरा (द) शीर्षक
14. निम्नलिखित में से किस देश में हिन्दी भाषा का प्रयोग लिखने एवं बोलने में किया जाता है?
(अ) ऑस्ट्रेलिया (ब) दक्षिण अमेरिका
(स) पाकिस्तान (द) मॉरिशस
15. ‘चैराहा‘ शब्द का समास है-
(अ) कर्मधारय (ब) द्वन्द्व
(स) द्विगु (द) अव्ययीभाव
16. ‘सूरसागर‘ किस भाषा की रचना है?
(अ) अवधी (ब) बुन्देली
(स) ब्रज (द) छत्तीसगढ़ी
17. ‘आँख की किरकिरी होना‘ का अर्थ है?
(अ) अप्रिय लगना (ब) धोखा देना
(स) कष्टदायक होना (द) बहुत प्रिय होना
18. निम्नलिखित में मौखिक अभिव्यक्ति का रूप है-
(अ) शुद्ध वर्तनी (ब) सुलेख
(स) श्रुतलेख (द) आशु भाषण
19. ‘वीरों का कैसा हो वसन्त‘ कविता किसने लिखी है?
(अ) सुमित्रा कुमारी चैहान (ब) सुभद्रा कुमारी चैहान
(स) माखनलाल चतुर्वेदी (द) रामधारी सिंह ‘दिनकर‘
20. हिन्दी भाषा में कितनी बोलियाँ है?
(अ) 15 (ब) 25
(स) 18 (द) 22
21. निम्नलिखित में से कौन-सी व्याकरण और वर्तनी से शुद्ध भाषा कहलाती है?
(अ) साहित्यिक भाषा (ब) प्रांजल भाषा
(स) व्याकरणिक भाषा (द) मानक भाषा
22. भारतेन्दु युग में निकलने वाली पत्रिका-युग्म है-
(अ) कविवचन सुधा-हिन्दी प्रदीप
(ब) सरस्वती-माधुरी
(स) कल्पना-ज्ञानोदय
(द) नवनीत-कादम्बिनी
23. निम्नलिखित में से कौन-सा रासो ‘आल्हाखण्ड‘ के नाम से प्रसिद्ध है?
(अ) पृथ्वीराज रासो (ब) खुमान रासो
(स) परमाल रासो (द) बीसलदेव रासो
24. ‘तद्भव‘ पत्रिका के सम्पादक का नाम है
(अ) लीलाधर जगूड़ी (ब) विश्वनाथ प्रसाद तिवारी
(स) हरे प्रकाश उपाध्याय (द) अखिलेश
25. ‘बारह बरस लौ कूकर जीवै, अरू तेरह लौ जियै सियार।‘ यह पंक्ति किसकी है?
(अ) विद्यापति (ब) चन्द वरदाई
(स) नरपति नाल्ह (द) जगनिक
निर्देश-(प्रश्न संख्या 26-30) दिए गए गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्प छाँटिए।
आदिम आर्य घुमक्कड़ ही थे। यहाँ से वहाँ वे घूमते ही रहते थे। घूमते भटकते ही वे भारत पहुंचे थे। यदि घुमक्कड़ी का बाना उन्होंने न धारण किया होता, यदि वे एक स्थान पर ही रहते, तो आज भारत में उनके वंशज न होते। भगवान बुद्ध घुमक्कड़ तथा भगवान महावीर घुमक्कड़ थे। वर्षा-ऋतु के कुछ महीनों को छोड़कर एक स्थान में रहना बुद्ध के वश का नहीं था। 35 वर्ष की आयु में उन्होंने बुद्धत्व प्राप्त किया। 35 वर्ष से 80 वर्ष की आयु तक जब उनकी मृत्यु हुई, 45 वर्ष तक वे निरन्तर घूमते ही रहे। अपने आपको समाज सेवा और धर्म प्रचार में लगाए रहे। अपने शिष्यों से उन्होंने कहा था श्चरथ भिक्खने चारिकश् हे भिक्षुओ! घुमक्कड़ी करो यद्यपि बुद्ध कभी भारत के बाहर नहीं गए, किन्तु उनके शिष्यों ने उनके वचनों को सिर आँखों पर लिया और पूर्व में जापान, उत्तर में मंगोलिया, पश्चिम में मकदूनिया और दक्षिण में बाली द्वीप तक धावा मारा। श्रावण महावीर ने स्वच्छन्द विचरण के लिए अपने वस्त्रों तक को त्याग दिया। दिशाओं को उन्होंने अपना अम्बर बना लिया, वैशाली में जन्म लिया, पावा में शरीर त्याग किया। जीवनपर्यंत घूमते रहे। मानव के कल्याण के लिए मानवों के राह प्रदर्शन के लिए और शंकराचार्य बारह वर्ष की अवस्था में संन्यास लेकर कभी केरल, कभी मिथिला कभी कश्मीर और कभी बद्रिकाश्रम में घूमते रहे। कन्याकुमारी से लेकर हिमालय तक समस्त भारत को अपना कर्मक्षेत्र समझा। सांस्कृतिक एकता के लिए, समन्वय के लिए, श्रुति धर्म की रक्षा के लिए शंकराचार्य के प्रयत्नों से ही वैदिक धर्म का उत्थान हो सका।
26. ‘घुमक्कड़‘ शब्द में कौन-सा प्रत्यय है?
(अ) अक्कड़ (ब) ड़
(स) अड़ (द) कड़
27. महावीर स्वमी का जन्म कहाँ हुआ था?
(अ) पावापुरी (ब) वैशाली
(स) कुशीनगर (द) पारसौली
28. ‘स्वच्छन्द‘ में कौन-सी सन्धि है?
(अ) विसग्र (ब) दीर्घ
(स) गुण (द) व्यंजन
29. महात्मा बुद्ध ने जब बुद्धत्व प्राप्त किया तब उनकी अवस्था कितनी थी?
(अ) 12 वर्ष (ब) 35 वर्ष
(स) 45 वर्ष (द) 80 वर्ष
30. ‘श्रुति धर्म‘ का क्या अर्थ है?
(अ) जैन धर्म (ब) बौद्ध धर्म
(स) मुस्लिम धर्म (द) वैदिक धर्म

उत्तरमाला

1. (ब) 2. (अ) 3. (द) 4. (स) 5. (ब) 6. (द) 7. (ब) 8. (द) 9. (अ) 10. (अ)
11. (स) 12. (स) 13. (ब) 14. (स) 15. (स) 16. (स) 17. (स) 18. (द) 19. (ब) 20. (स)
21. (द) 22. (अ) 23. (स) 24. (द) 25. (द) 26. (अ) 27. (ब) 28. (द) 29. (ब) 30. (द)

उत्तर की व्याख्या / हल

1. ‘निमिष‘ शब्द का पर्याय ‘क्षण‘ है। निमिष का अर्थ पलक झपकने की क्रिया भी होता है। इसके अतिरिक्त, विपल, पल आदि भी ‘निमिष‘ के पर्याय हैं।
2. ‘निष्कपट‘ शब्द का संधि-विच्छेद निः़कपट है। इसमें विसर्ग संधि है। विसर्ग संधि में यदि विसर्ग से पहले ‘इ‘ या ‘उ‘ हो तथा बाद में ‘क‘, ‘ख‘, ‘प‘, ‘फ‘, ‘त‘ में से कोई वर्ण हो विसर्ग ष् में बदल जाता है।
3. ‘अन्त‘ मूल शब्द में ‘अति‘ उपसर्ग के योग से (अति $ अन्त) अत्यन्त शब्द बनता है।
4. ‘मुझसे उठा नहीं गयाश् वाक्य में भाव वाच्य है। भाव वाच्यों में भावों की प्रधानता होती है तथा अकर्मक क्रिया का प्रयोग किया जाता है।
5. अनुगृहीत शब्द की वर्तनी सही है। इसका अर्थ है-जिस पर अनुग्रह किया गया हो।
9. ‘ङ‘ का उच्चारण स्थान नासिक्य होता है। इसके अतिरिक्त अं, अँ, ´, ण, न् तथा म् ध्वनियों का उच्चारण स्थान भी नासिक्य है। नासिक वनियों के उच्चारण में श्वास वायु नाक से होकर निकलती है।
10. ‘गोधूम‘ शब्द का तद्भव गेहूँ है। गोधूम एक संस्कृत शब्द है जिसमें थोड़ा परिवर्तन कर गेहूँ तद्भव शब्द बना है।
11. ‘श‘ ध्वनि का उच्चारण स्थान तालु (तालव्य) है। इसके अलावा इ, ई, च, छ, ज, झ तथा य ध्वनियों का उच्चारण स्थल भी तालु (तालव्य) है।
13. ‘सीस‘ का तत्सम रूप ‘शीर्ष‘ अथवा ‘सिर‘ होता है।
15. ‘चैराहा‘ शब्द का समास विग्रह होगा-‘चार राहों का समूह‘। जिस शब्द का पूर्व पद संख्यावाचक विशेषण हो, वह द्विगु समास कहलाता है।

20. हिन्दी भाषा में 18 बोलियाँ हैं-मारवाड़ी, जयपुरी, मेवाती, मालवी, खड़ी बोली, बाँगरू, ब्रजभाषा, बुंदेली, कन्नौजी, अवधी, बघेली, छत्तीसगढ़ी, भोजपुरी, मैथिली, मगही, कुमाऊँनी, गढ़वाली तथा नेपाली।
21. ‘मानक भाषा‘ व्याकरण तथा वर्तनी से शुद्ध भाषा कहलाती है। मानक भाषा आदर्श, श्रेष्ठ व परिनिष्ठित भाषा होती है।
22. भारतेन्दु युग में प्रकाशित होने वाली पत्रिका-युग्म ‘कविवचन सुधा- हिन्दी प्रदीप‘ हैं।
23. ‘परमाल रासो‘ ‘आल्हाखण्ड‘ के नाम से प्रसिद्ध है। यह जगनिक द्वारा रचित है। इसमें आल्हा तथा ऊदल की वीरता का वर्णन है।
24. ‘तद्भव‘ पत्रिका के सम्पादक अखिलेश हैं। इस पत्रिका का सम्पादन सन् 1999 में लखनऊ से किया गया।
25. यह पंक्ति जगनिक की है। यह जगनिक द्वारा रचित परमाल रासो (आल्हाखण्ड) से ली गई है।
26. ‘घुमक्कड़‘ शब्द में ‘अक्कड़‘ प्रत्यय का प्रयोग हुआ है।
27. महावीर स्वामी का जन्म वैशाली में हुआ था।
28. ‘स्वच्छन्द‘ में ‘व्यंजन‘ सन्धि है। जब व्यंजन को व्यंजन अथवा स्वर से मिलाने पर जो परिवर्तन होता है, उसे व्यंजन सन्धि कहते हैं। जैसे-स्व $ छन्द = स्वच्छन्द।
29. महात्मा बुद्ध ने जब बुद्धत्व प्राप्त किया तब उनकी अवस्था 35 वर्ष थी।
30. ‘श्रुतिधर्म‘ का अर्थ वैदिक धर्म से है। सांस्कृतिक एकता, समन्वय एवं श्रुतिधर्म की रक्षा के लिए शंकराचार्य के प्रयत्नों से ही वैदिक धर्म का उत्थान हुआ।