समुद्री जल को शुद्ध जल में किस प्रक्रिया द्वारा बदला जा सकता है | समुद्र के जल से नमक किस विधि द्वारा प्राप्त किया जाता है

By  

समुद्र के जल से नमक किस विधि द्वारा प्राप्त किया जाता है , समुद्री जल को शुद्ध जल में किस प्रक्रिया द्वारा बदला जा सकता है ? how to make seawater drinkable in hindi ?

101. महासागरों से शुद्ध जल किस विधि से प्राप्त किया जा सकता है ?
(अ) फिल्टरन (स) आसवन
(स) वाष्पीकरण (द) प्रभाजी आसवन
Ans- (स) महासागरों से शुद्ध जल आसवन विधि से प्राप्त किया जाता है।
जब द्रव को गर्म किया जाता है तब वह वाष्प में परिवर्तित होता है
और जब वाष्प को ठंडा किया जाता है तब यह पुनः जल में परिवर्तित होता है ऐसी क्रिया को आसवन कहते हैं।
102. किस प्रक्रम से समुद्र जल से सामान्य लवण प्राप्त किया जाता है ?

(अ) ऊर्ध्वपातन (स) वाष्पीकरण
(स) क्रिस्टलन (द) फिल्टरन
Ans- (स) वाष्पीकरण से समुद्र जल से सामान्य लवण प्राप्त किया जाता है।
ऽ साधारण ताप पर या गर्म करने पर जब द्रव वाष्प में बदलता है तब ऐसी क्रिया को वाष्पीकरण कहते हैं।
ऽ उर्ध्वपातन (Sublimation) जब ठोस को गर्म किया जाता है तो वाष्प में परिवर्तित होता है तथा जब वाष्प को ठंडा किया जाता है तब पुनः ठोस में परिवर्तित हो जाता है ऐसी क्रिया को उर्ध्वपातन कहते हैं।
Ex–कपूर, नौसादर, आयोडीन, नेफ्थलीन, बेन्जोइक अम्ल ।
103. किस प्रक्रम द्वारा कच्चे तेल से गैसोलीन प्राप्त किया जाता है ?
(अ) वाष्पीकरण (स) प्रभाजी आसवन
(स) आसवन (द) फिल्टरन
Ans- (स) प्रभाजी आसवन द्वारा कच्चे तेल से गैसोलीन प्राप्त किया जाता है।
104. कठोर जल को उबालने के लिए इस्तेमाल में लाये जाने वाले विद्युत है। उपकरण के तापन अवयव (heating element) पर जमने वाली सफेद परत में क्या होता है?
(अ) शर्करा
(स) सामान्य लवण
(स) कैल्सियम तथा मैग्नीशियम का लक्षण
(द) सोडियम कार्बोनेट
Ans- (स) कठोर जल को उबालने के लिए इस्तेमाल में लाये जाने वाले विद्युत उपकरण के तापन अवयव (heating element) पर जमने
वाली सफेद परत कैल्सियम तथा मैग्नीशियम का लवण होता है।
105. कपड़े धोने वाला सोडा क्या है ?
(अ) सोडियम क्लोराइड
(स) जलयोजित सोडियम कार्बोनेट
(स) सोडियम बाइकार्बोनेट
(द) कैल्शियम कार्बोनेट
Ans- (स) सोडियम कार्बोनेट (छंतबवे) को कपड़ा धोने वाला सोड़ा कहा जाता है।
106. सामान्य लवण कौन-सा है?
(अ) सोडियम क्लोराइड (स) सोडियम बाइकार्बोनेट
(स) मैग्नीशियम कार्बोनेट (द) कैल्सियम कार्बोनेट
Ans- (अ) सामान्य लवण सोडियम क्लोराइड (NaCl) है।
ऽ मैग्नीशियम कार्बोनेट (MgCO3) को मैग्नेसाइट भी कहा जाता है इसका उपयोग छपाई की स्याही, दंतमंजन, चेहरे पर लगाने वाला पाउडर इत्यादि बनाने में उपयोग होता है । यह पेट की अम्लीयता दूर करने के काम में आता है।

107. कठोर जल साबुन के साथ अच्छी तरह से झाग क्यों नहीं देता?
(अ) इसमें कैल्सियम तथा मैग्नीशियम के कार्बोनेट होते हैं
(स) यह अत्यधिक रंगीन होता है
(स) इसमें निलंबित (suspended) अपद्रव्य (impurities) होते हैं।
(द) इसमें सोडियम क्लोराइड होता है
।दे. (अ) कैल्सियम तथा मैग्नीशियम के कार्बोनेट के कारण कठोर जल साबुन के साथ अच्छी तरह से झाग उत्पन्न नहीं करता है।
108. चट्टानों पर से गुजरने के बाद जल निम्नलिखित में से क्या घुल जाने से कठोर हो जाता है?
(अ) कैल्सियम कार्बोनेट (स) सोडियम क्लोराइड
(स) सोडियम कार्बोनेट (द) सोडियम फॉस्फेट
Ans- (अ) चटवानों पर से गुजरने के बाद जल में कैल्सियम कार्बोनेट घुल जाता है जिसके कारण जल कठोर हो जाता है।
109. एक तत्व को दूसरे तत्व में बदलने का प्रक्रम क्या कहलाता है ?
(अ) रेडियोएक्टिव क्षय
(स) तत्वांतरण (transmutation)
(स) सहसंयोजन आबंध का निर्माण
(द) संकरण
Ans- (स) तत्वांतरण (Transmutation) के प्रक्रिया द्वारा एक तत्व से दूसरे तत्व में बदल जाता है।
ऽ वे तत्व जो स्वयं विखंडित होकर एवं किरणें निकालते हैं रेडियो सक्रिय तत्व कहे जाते हैं एवं ऐसी घटना को रेडियो सक्रियता कहते हैं इसका खोज हेनरी वैक्वेरल ने 1886 में किया।
ऽ किसी रेडियो सक्रिय तत्व का अंतिम उत्पाद सीसा (Pb) होता है। रेडियम की खोज मैडम क्यूरी के द्वारा किया गया।
110. बेकिंग सोडा का रासायनिक नाम कौन-सा है ?
(अ) कैल्सियम फॉस्फेट (स) सोडियम बाइकार्बोनेट
(स) सोडियम क्लोराइड (द) सोडियम कार्बोनेट
Ans- (स) सोडियम बाइकार्बोनेट (NaHCO3) को बेकिंग सोडा या खाने
वाला सोडा कहा जाता है।
111. तापमान के कैल्विन पैमाने पर जल का क्वथनांक है-
(अ) 100 (स) 273
(स) 373 (द) 212
Ans- (स) तापमान के कैल्विन पैमाने पर जल का क्वथनांक 373 होता है।
ऽ क्वथनांक (Boiling roint)-जिस निश्चित ताप पर कोई द्रव बाष्प में बदलता है क्वथनांक कहलाता है।
Ex- जल का Boiling Point 100°C होता है।
ऽ जल में अशुद्धि मिलाने पर उसका Boiling Point बढ़ जाता है।
ऽ दाब बढ़ाने पर जल का Boiling Point बढ़ जाता है।
ऽ प्रेसर कुकर में जल का Boiling Point 120°C हो जाता है ।
112. रोगग्रस्त वृक्कों (kidneys) के रोगियों को दिए जाने वाले अपोहन
(dialysis) की प्रक्रम में प्रयुक्त परिघटना (phenomenon)
(अ) विसरण (dfifuion) है
(स) अवशोषण है
(स) परासरण (osmosis) है
(द) वैद्युतकण संचलन (electrophoresis) है
Ans- (स) रोगग्रस्त वृक्को (Kidneys) के रोगियों को दिए जाने वाले अपोहन (dialysis) की प्रक्रम में प्रयुक्त परिघटना (Phenomenon) परासरण (Osmosis) है।
ऽ Diffuion of Gases (गैसों का विसरण) : घनत्वों में अंतर रहते हुए भी गैसों के पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल के विरुद्ध भी परस्पर घुल मिल जाने की स्वाभाविक प्रक्रिया को गैसों का विसरण कहते हैं।
113. दूध निम्नलिखित का उदाहरण है।
(अ) निलंबन (suspension) (स) जेल (gel)
(स) पायस (emulsion) (द) झाग (foam)
Ans- (स) दूध पायस (Emulsion) का उदाहरण है। वैसे कोलाइड जिसमें परिक्षेपित कण तथा परिक्षेपण माध्यम दोनों द्रव हो Emulsion कहलाता है।
ऽ वैसा कोलाइड जिसमें विलायक ठोस तथा विलेय द्रव होता है। जेल कहलाता है। म्ग. जेली.
ऽ निलंबन (Suspension) ऐसा घोल जिसमें परिक्षेपित कणों का आकार 10-5 cm या इससे अधिक होता है निलंबन कहलाता है। Ex- नदी का गंदा जल, हवा में धुआँ ।
114. बारूद निम्नलिखित का मिश्रण है-
(अ) बालू व टी.एन.टी.
(स) सल्फर, रेत व काठ कोयला (चारकोल)
(स) नाइट्रेट, सल्फर व काठ कोयला (चारकोल)
(द) टी.एन.टी. व काठ कोयला (चारकोल)
Ans- (स) बारूद, नाइट्रर, सल्फर व काठ कोयला (चारकोल) का मिश्रण होता है।
ऽ सामान्य बारूद अथवा रोजर बैंकन ने 1242 में किया था यह हल्का विस्फोटक होता था। यह पोटैशियम या सोडियम नाइट्राइट, चारकोल और सल्फर का 15 : 3 : 2 अनुपात में मिश्रण होता है।
115. खाद्य परिरक्षक (preservative) के रूप में सर्वाधिक उपयोग में लाया जाने वाला पदार्थ है-
(अ) सोडियम बाइकार्बोनेट (स) टार्टरिक अम्ल
(स) ऐसीटिक अम्ल (द) बेंजोइक अम्ल
Ans- (द) खाद्य परिरक्षक (Preservative) के रूप में सर्वाधिक उपयोग
में लाया जाने वाला पदार्थ बेंजोइक अम्ल है।
ऽ इमली में टार्टरिक अम्ल पाया जाता है।
116. कपड़ों के रंग का विरंजन (bleaching) करनेवाला अभिकर्मक (reagent) है-
(अ) सोडयम क्लोराइड (स) सल्फर डाइऑक्साइड
(स) कार्बन डाइऑक्साइड (द) सल्फर ट्राइऑक्साइड
Ans- (स) सल्फर डाइऑक्साइड (SO2) के द्वारा कपड़ों के रंग का विरंजन (bleaching) किया जाता है।
Sulphur Trioxide (सल्फर ट्राइऑक्साइड) SO2 यह जल में शीघ्रता से घुलकर H2SO4 (सल्फ्यूरिक अम्ल) बनाता है। इसी कारण इसे सल्फ्यूरिक अम्ल का ऐन्हाइड्राइड कहते है।
117. वह रासायनिक अभिक्रिया जिसके घटित होने से ऊष्मा बनती है, कहलाती है-
(अ) उत्क्रमणीय अभिक्रिया
(स) ऊश्माशोषी (endothermic) अभिक्रिया
(स) तापीय अभिक्रिया
(द) ऊष्माक्षेपी (exothermic) अभिक्रिया
Ans- (द) वह रासायनिक अभिक्रिया जिसके घटित होने से उष्मा बनती है उष्माक्षेपी (exothermic reaction) कहलाती है।
Ex- N2 ़ 3H2 → 2NH3 ़ ऊष्मा
C़ O2 → CO2 ़ ऊष्मा
ऽ वैसी रासायनिक अभिक्रिया जिसमें अभिकारक अभिक्रिया करके प्रतिफल देता है तथा प्रतिफल पुनः अभिक्रिया करके अभिकारक देता है। उत्क्रमणीय अभिक्रिया कहलाती है।
Ex- H2 ़ I2 2HI
N2 ़ 3H2 2NH3
ऽ वैसी रासायनिक अभिक्रिया जिसमें उष्मा का अवशोषण होता है उष्माशोषी अभिक्रिया (Endothermic reaction) कहलाती है।
Ex.k~ N2 ़ O2 & 2No~ – उष्मा
118. किसी ठोस वस्तु को गर्म करने से उसका सीधे गैसीय रूप में परिवर्तित हो जाने का प्रक्रम कहलाता है-
(अ) वियोजन
(स) विलयन (disolution)
(स) ऊर्ध्वपातन (sublimation)
(द) वाष्पीकरण
Ans- (स) किसी ठोस वस्तु को गर्म करने से उसका सीधे गैसीय रूप में
परिवर्तित हो जाने की क्रिया ऊर्ध्वपातन (Sublimation) कहलाता है।
119. किसी भी रासायनिक यौगिक की न्यूनतम सम्भव इकाई है-
(अ) परमाणु (स) इलेक्ट्रॉन
(स) प्रोट्रॉन (द) अणु
Ans- (अ) किसी भी रासायनिक यौगिक की न्यूनतम संभव इकाई परमाणु है।
ऽ किसी पदार्थ का वह सूक्ष्म कण जो स्वतंत्र अवस्था में नहीं पाया जाता है किन्तु रासायनिक अभिक्रिया में भाग लेता है। परमाणु कहलाता है।
ऽ किसी पदार्थ का वह सूक्ष्म कण जो स्वतंत्र अवस्था में पाया जाता है किन्तु रासायनिक अभिक्रिया में भाग नहीं लेता है अणु (Molecule) कहलाता है।
ऽ इलेक्ट्रॉन-यह ऐसा कण है जो परमाणु के चारों ओर किसी कक्षा में चक्कर लगता है। इसका द्रव्यमान हाइड्रोजन परमाणु के द्रव्यमान का 1/1840 वाँ भाग होता है इस पर इकाई ऋण आवेश (Negative charge) होता है खोजकर्ता जे०जे० थॉमसन (1897)
द्रव्यमान-9.108 x 10-31kg
या 9.108 x 10-28 gm
द्रव्यमान (Amu)-0.0005486
(1Amu = 1.66 x 10-24 gm)
आवेश = -1.6 x 10-19 कूलॉम्ब
ऽ प्रोट्रॉन-यह एक ऐसा कण है जो परमाणु के नाभिक में पाया जाता है इसपर इकाई धन आवेश रहता है इसका द्रव्यमान् । हाइड्रोजन परमाणु के द्रव्यमान के बराबर होता है। खोजकर्ता-गोल्डस्टीन (1886 ई०) रदरफोर्ड (1911) द्रव्यमान-1.672 x 10-27 kg
या 1.672 x 10-27 gm
द्रव्यमान (amu)-1.007335
आवेश – $ 1.6 x 10-19 culumb
120. सिल्वर हेलाइड का उपयोग फोटोग्राफी प्लेटों में होता है क्योंकि वे-
(अ) वायु में ऑक्सीकृत हो जाते हैं
(स) रंगहीन होते हैं
(स) हाइपो (hypo) घोल में आसानी से घुलनशील होते हैं
(द) प्रकाश से आसानी से अपचित हो जाते है
Ans- (स) सिल्वर हैलाइड का उपयोग फोटोग्राफी प्लेटो में होता है क्योंकि वे रंगहीन होते हैं।