भारत का बिस्मार्क किसे कहा जाता है ? who is called bismarck of india and why in hindi क्यों कहा जाता है ?

By   May 21, 2020

प्रश्न : भारत का बिस्मार्क किसे कहा जाता है ? (who is called bismarck of india)

उत्तर : भारत देश का बिस्मार्क “सरदार वल्लभभाई पटेल को कहा जाता है। ”

प्रश्न : सरदार पटेल को भारत का बिस्मार्क क्यों कहा जाता है ? (why sardar vallabhbhai patel called bismarck of india)

उत्तर : जिस प्रकार जर्मनी में बिस्मार्क ने 36 राज्यों को मिलाकर एक शक्तिशाली जर्मन साम्राज्य की स्थापना की थी ठीक उसी प्रकार भारत में सरदार वल्लभभाई पटेल ने भी सभी रियासतों का विलय भारत में करके भारत देश का निर्माण किया था।

बिस्मार्क अपने उस समय का सबसे प्रभावशाली कूटनीतिज्ञ था और अपनी इन कुटनीतियो के कारण ही बिस्मार्क ने फ़्रांस को मित्र विहीन कर दिया और जर्मनी को यूरोप महाद्वीप का सबसे शक्तिशाली देश बना दिया।

ठीक उसी प्रकार भारत देश अलग अलग रियासतों या राज्यों के रूप में टूटा हुआ था और जब अंग्रेज छोड़कर जा रहे थे तब सभी रियासतों को यह कहकर स्वतंत्र अधिकार दिया था कि वे अपनी मर्जी से भारत या पाकिस्तान किसी भी देश में विलय हो सकती है , यह उनका निजी फैसला होगा।

ऐसी स्थिति में सरदार वल्लभभाई पटेल ने अपनी कूटनीतिज्ञता का परिचय देते हुए सभी रियासतों के साथ संधियाँ की और उन्हें भारत में मिला लिए और अखण्ड भारत का निर्माण किया।

जिस प्रकार बिस्मिल जर्मनी का प्रभावी राजनेता थे ठीक उसी प्रकार सरदार वल्लभभाई पटेल भी भारत देश के सबसे प्रभावी राजनेताओं में से एक थे , इनको भारत देश का प्रथम गृह मंत्री और भारत के प्रथम उपप्रधानमंत्री भी बनाया गया।

जब अंग्रेज भारत छोड़कर चले गए थे उस समय भारत में कुल 565 छोटी छोटी रियासते थे , इनमे से सरदार पटेल ने 562 रियासतों का भारत देश में विलय करवा लिया था। और इन सभी 562 छोटी छोटी रियासतों को मिलाकर अखंड भारत का निर्माण किया जो भारत का स्वरूप हम देखते है वह सरदार पटेल के बदौलत है।

चूँकि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने सम्पूर्ण भारत को एकता के सूत्र में बाँधा इसलिए ही सरदार पटेल के जनमदिन 31 अक्टूबर को सम्पूर्ण भारत देश में राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने की शुरुआत 2014 से प्रारंभ किया गया था।

सरदार वल्लभभाई पटेल को बिस्मार्क के नाम से तो जाना जाता ही है इसके अलावा उन्हें “लौह पुरुष” के नाम से भी जाना जाता है।

प्रश्न : बिस्मार्क का पूरा नाम क्या था ?

उत्तर : बिस्मार्क जर्मनी के एक महान राजनेता थे और उनका पूरा नाम “ओटो एडुअर्ड लिओपोल्ड बिस्मार्क” था।  कभी कभी परीक्षा में बिस्मार्क के स्थान पर इनका पूरा नाम जैसे भारत का ओटो एडुअर्ड लिओपोल्ड बिस्मार्क किसे कहते है ? इस प्रकार का प्रश्न भी पूछ लिया जाता है।