निम्न में से कौनसा एक अक्रिस्टलीय है निम्नलिखित में से कौनसा गुण क्रिस्टलीय ठोस का नहीं है which of the following is

By  

which of the following is non crystalline solid in hindi निम्न में से कौनसा एक अक्रिस्टलीय है निम्नलिखित में से कौनसा गुण क्रिस्टलीय ठोस का नहीं है ?

प्रश्न 1 : निम्न में से कौनसा एक अक्रिस्टलीय है –

(अ) पोली स्टाइरीन
(ब) टेबल साल्ट
(स) सिलिका
(द) हीरा
उत्तर : (स) , अक्रिस्टलीय ठोसों के कुछ उदाहरण है काँच , प्लास्टिक , अक्रिस्टलीय सिलिका |
प्रश्न 2 : निम्नलिखित में से कौनसा गुण क्रिस्टलीय ठोस का नहीं है –
(अ) असमदैशिक
(ब) मदैशिक
(स) कठोरता
(द) सघनता
उत्तर : (ब) , सदैशिक नहीं है , वास्तव में यह असमदेशिक समझते जाते है |
प्रश्न 3 : निम्नलिखित में से कौन सा ठोस का गुण नहीं है –
(अ) ठोस सदैव क्रिस्टलीय प्रकृति के होते है
(ब) ठोस का घनत्व उच्च और संपीड्यता कम होती है
(स) ठोस का विसरण अत्यंत धीमे होते है
(द) ठोस का आयतन निश्चित होता है
उत्तर : (अ) , ठोस भी प्रकृति में अक्रिस्टलीय होते है |
प्रश्न 4 : निम्न ठोसों में से कौन उच्चतम गलनांक प्रदर्शित करते है –
(अ) सहसंयोजी ठोस
(ब) आयनिक ठोस
(स) छद्म ठोस
(द) आण्विक ठोस
उत्तर :  (ब) , आयनिक ठोसों का गलनांक प्रबल स्थिर विद्युत आकर्षण बल के कारण उच्च होता है |
प्रश्न 5 : किस प्रकार के क्रिस्टलीय ठोस में ऊष्मा तथा विद्युत का चालन होगा –
(अ) आयनिक
(ब) सहसंयोजी
(स) धात्विक
(द ) आणविक
उत्तर : (स) , धात्विक क्रिस्टल उनमें मुक्त इलेक्ट्रॉनों के कारण ऊष्मा और धारा के सुचालक होते है |
प्रश्न 6 : p प्रकार का अर्धचालक प्राप्त करने के लिए सिलिकन को निम्नलिखित किस तत्व के साथ डोप करना चाहिए –
(अ) सेलेनियम
(ब) बोरोन
(स) जर्मेनियम
(द) आर्सेनिक
उत्तर : (ब) , p प्रकार का अर्धचालक प्राप्त करने के लिए सिलिकन को B के साथ डोप करना होता है |
प्रश्न 7 : फलक केन्द्रित घनीय जालक में , एक एकांकी सेल कितनी एकांकी सेल द्वारा समान रूप से साझित होती है –
(अ) 8
(ब) 4
(स) 2
(द) 6
उत्तर : (द) , एकांकी सेल द्वारा समान रूप से साक्षित होती है |
प्रश्न 8 : a ≠ b ≠ c और α ≠ β ≠ γ स्थितियाँ होती है –
(अ) ट्राई क्लिनिक में
(ब) मानो क्लिनिक में
(स) रोम्बोहेड्रल में
(द) चतुष्टफलकीय में
उत्तर : (अ) ,  ट्राई क्लिनिक में a ≠ b ≠ c और α ≠ β ≠ γ स्थितियाँ होती है |
प्रश्न 9 : चतुष्फलकीय समन्वय संख्या के लिए त्रिज्या अनुपात γ+ होता है –
(अ) 0.732 – 1.000
(ब) 0.414 – 0.732
(स) 0.225 – 0.414
(द) 0.155 – 0.225
उत्तर : (स) , चतुष्फलकीय व्यवस्था के लिए समन्वय संख्या 4 और त्रिज्या का अनुपात = 0.225 – 0.414 है |
प्रश्न 10 : सोडियम क्लोराइड के इकाई सेल में NaCl की कितनी इकाइयाँ होती है –
(अ) 2
(ब) 4
(स) 6
(द) 8
उत्तर : (ब)
प्रश्न 11 : किसी क्रिस्टल में ब्रेवेस जालक की कुल संख्या होती है –
(अ) 7
(ब) 14
(स) 230
(द) 32
उत्तर : (ब) , एक क्रिस्टल में 14 प्रकार के ब्रेविस जालक (अन्तराली जालक) संभव होते है |
प्रश्न 12 : फलक केन्द्रित घन जालक के प्रत्येक कण के चारों तरफ के नजदीकी कणों की संख्या है –
(अ) 4
(ब) 6
(स) 8
(द) 12
उत्तर : (द) , नजदीकी कणों की संख्या 12 होती है |
प्रश्न 13 : फलक केन्द्रिता घनीय जालक की इकाई कोशिका में समान परमाणु की कितनी चतुष्फलकीय रिक्तिकायें होती है –
(अ) 4
(ब) 6
(स) 8
(द) 10
उत्तर : (स) , चतुष्फलकीय रिक्तियों की संख्या 8 होती है |
प्रश्न 14 : निम्न में से कौनसी इकाई सेल की विमाएँ घनीय इकाई प्रदर्शित करती है –
(अ)  a =  b = c , α = β = γ = 90
(ब) a = b = c और α = β = 90 ,  γ ≠ 90
(स) a = b ≠ c और α =  γ  = 90
(द) a ≠ b ≠ c और α ≠ β ≠ γ
उत्तर : (अ)
प्रश्न 15 : Na तथा Mg क्रमशः bcc और fcc प्रकार के क्रिस्टल में क्रिस्टलित होते है तब उनके क्रिस्टल के इकाई सेल में उपस्थित Na और Mg परमाणुओं की संख्या है –
(अ) 4 और 2
(ब) 9 और 14
(स) 14 और 9
(द) 2 और 4
उत्तर : (द) , bcc सेल में 8 परमाणु कोनो पर और एक परमाणु केंद्र पर होता है | अत: n = (8 x 1/8) + 1 = 2
fcc सेल में 8 परमाणु कोनो पर और 6 फलकों में से प्रत्येक पर एक परमाणु होता है | फलक पर यह परमाणु दो इकाई सेलों द्वारा साझित होता है , अत: n = 8 x1/2 + (6 x 1/2) = 4
प्रश्न 16 : घनीय जालक में अन्त: धात्विक यौगिक LiAg का क्रिस्टलीकरण होता है जिसमें लिथियम और सिल्वर की समन्वय संख्या आठ है , क्रिस्टल वर्ग है –
(अ) सरल घनीय
(ब) अन्त: केन्द्रित घनीय
(स) फलक केन्द्रित घनीय
(द) इनमें से कोई नहीं
उत्तर : (ब) , अन्त: केन्द्रित घन में प्रत्येक परमाणु या आयन की समन्वय संख्या 8 होती है |
प्रश्न 17 : एक ठोस दो तत्वों X और Z से मिलकर बना है , परमाणु Z , ccp व्यवस्था में है जबकि परमाणु X सभी चतुष्फलकीय जगह घेरे हुए है , यौगिक का सूत्र है –
(अ) XZ
(ब) XZ2
(स) X2Z
(द) X2Z3
उत्तर : (स) , चतुष्फलकीय स्थान , अष्टफलकीय स्थान की तुलना में दुगुना होता है तब X तथा Z का अनुपात क्रमशः 2:1 है इसलिए यौगिक का सूत्र X2Z है |
प्रश्न 18 : एक आयनिक यौगिक की इकाई सेल में A आयन घन के कोनो पर है और B आयन घन के फलकों के केंद्र पर है | इस यौगिक के लिए मूलानुपाती सूत्र होगा –
(अ) AB
(ब) A2B
(स) AB3
(द) A3B
उत्तर : (स) , A आयन घन के आठ कोनों पर होते है इसलिए इकाई सेल में A परमाणुओं की संख्या = 8/8 = 1 , B आयन 6 फलकों के फलक केन्द्रों पर होते है इसलिए ये इकाई सेल में साझित होते है = 6/2 = 3 अर्थात सूत्र AB3 है |
प्रश्न 19 : एक धातु के फलक केन्द्रित घनीय इकाई के सेल में उपस्थित परमाणुओं द्वारा घेरा गया कुल आयतन है (परमाण्विक त्रिज्या r है)
(अ) 20π3/3
(ब) 24πr3/3
(स) 12πr3/3
(द) 16πr3/3
उत्तर : (द)
प्रश्न 20 : एक फलक केन्द्रित क्यूबिक लैटिस में परमाणु A कोनों पर स्थित है और B परमाणु फलक के केन्द्रों पर स्थित है , यदि B का एक परमाणु किसी एक फलक केंद्र बिंदु से हटा दिया जाए तब यौगिक का सूत्र होगा –
(अ) A2B
(ब) AB2
(स) A2B3
(द) A2B5
उत्तर : (द)
प्रश्न 21 : NaCl की एक इकाई में , यदि चित्र में दिए गए अक्ष से सारे आयन हटा दिए जाए तब बची हुई इकाई में कितने Na+ और Cl आयन होंगे –
(अ) 4 और 4
(ब) 3 और 3
(स) 1 और 1
(द) 4 और 3
उत्तर :  (ब)
प्रश्न 22 : घनीय सुसंकुलित संरचना तथा अन्त: केन्द्रित सुसंकुलित संरचना में रिक्त स्थान की प्रतिशततायें क्रमशः है –
(अ) 48% और 26%
(ब) 30% और 26%
(स) 26% और 32%
(द) 32% और 48%
उत्तर : (स)
प्रश्न 23 : घनीय निबिड़ संकुलित संरचना में उपस्थित प्रति परमाणु अष्टफलकीय रिक्त स्थानों की संख्या है –
(अ) 1
(ब) 3
(स) 2
(द) 4
उत्तर : (अ) , ccp में अष्टफलकीय रिक्तियों की संख्या , परमाणुओं की प्रभावी संख्या के बराबर होती है | ccp में , परमाणुओं की प्रभावी संख्या 4 है , अत: अष्टफलकीय रिक्तियों की संख्या 4 है अत: 1 अष्टफलकीय रिक्ति प्रतिपरमाणु होती है |
प्रश्न 24 : 1 g द्रव्यमान के NaCl के घनीय आदर्श क्रिस्टल में कितने इकाई सेल उपस्थित है [Na = 23 , Cl = 35.5]
(अ) 2.57 x 1021 इकाई
(ब) 5.14 x 1021 इकाई सेल
(स) 1.28 x 1021 इकाई सेल
(द) 1.71 x 1021 इकाई सेल
उत्तर :(अ)
प्रश्न 25 : सोडियम धातु सेल कोर 4.29 A के साथ अंत: केन्द्रित घनीय जालक संरचना में क्रिस्टलित होती है | सोडियम परमाणु की त्रिज्या क्या है –
(अ) 1.857 x 10-8 cm
(ब) 2.371 x 10-7 cm
(स) 3.817 x 10-8 cm
(द) 9.312 x 10-7 cm
उत्तर :(अ)
प्रश्न 26 : 361 pm यूनिट सेल की लम्बाई के साथ कॉपर (तांबा) fcc में क्रिस्टलित होता है | कॉपर परमाणु की त्रिज्या क्या है ?
(अ) 108 pm
(ब) 127 pm
(स) 157 pm
(द) 181 pm
उत्तर : (ब)
प्रश्न 27 : एक धातु फलक केन्द्रित घन जालक में क्रिस्टलीकृत होता है | यूनिट सेल का कोर 408 pm है | धातु परमाणु का व्यास है –
(अ) 288 pm
(ब) 408 pm
(स) 144 pm
(द) 204 pm
उत्तर : (अ)
प्रश्न 28 : लिथियम काय केन्द्रित घन संरचना बनाता है | यदि लिथियम के यूनिट सेल के साइड की लम्बाई 351 pm है तो लिथियम की परमाणु त्रिज्या होगी –
(अ) 75 pm
(ब) 300 pm
(स) 240 pm
(द)  152 pm
उत्तर : (द)
प्रश्न 29 : A और B धातु युक्त द्विअंगी मिश्रधातु के इकाई सेल की ccp संरचना है जिसमें A परमाणु कोनों पर और B परमाणु घन के प्रत्येक फलक के केंद्र पर स्थित होते है | यदि इस मिश्रधातु के क्रिस्टलीकरण के दौरान , इकाई सेल में दो A परमाणु लुप्त हो जाते है तब प्रति इकाई सेल का पूर्ण संघटन होगा –
(अ) AB6
(ब) AB4
(स) AB8
(द) A6B24
उत्तर : (द)
प्रश्न 30 : एक आयनिक यौगिक का त्रिजीय अनुपात 0.93 है | दिए गए आयनिक यौगिक की संरचना होगी –
(अ) NaCl प्रकार की
(ब) CsCl प्रकार की
(स) ZnS प्रकार की
(द) इनमे से कोई नहीं
उत्तर : (ब) , त्रिजीय अनुपात की सीमा 0.732 – 0.99 है जो उप सहसंयोजन की संख्या 8 को CsCl में दर्शाता है | उपसहसंयोजन संख्या का अनुपात 8:8 है |
प्रश्न 31 : एक ठोस यौगिक XY की NaCl जैसी संरचना है | यदि धनायन की त्रिज्या 100 pm है तो ऋण आयन (Y) की त्रिज्या होगी –
(अ) 241.5 pm
(ब) 165.7 pm
(स) 275.1 pm
(द) 322.5 pm
उत्तर : (अ)
प्रश्न 32 : यौगिक MpXq में X के सन्दर्भ में घनीय निबिड़ संकुलित संरचना (ccp) की व्यवस्था है | इसकी एकक कोष्ठिका संरचना चित्र में दिखाई गयी है | इसका मूलानुपाती सूत्र है –
(अ) MX
(ब) MX2
(स) M2X
(द) M5X14
उत्तर : (ब)
प्रश्न 33 : निम्न में से किस त्रुटी के कारण क्रिस्टल का घनत्व कम हो जाता है –
(अ) फ्रेंकल
(ब) शॉटकी
(स) अन्तराकाशी
(द) F  केंद्र
उत्तर : (ब) , क्रिस्टल में जितनी अधिक शॉटकी त्रुटी होगी उतना ही कम घनत्व होगा |
प्रश्न 34 : शॉटकी दोष मुख्यतः उन विद्युत संयोजी यौगिकों में होता है जिनमें –
(अ) धनायन और ऋण आयन भिन्न आकार के होते है
(ब) धनायन और ऋण आयन समान आकार के होते है
(स) धनायन छोटे और ऋण आयन बड़े आकार के होते है
(द) धनायन के बड़े और ऋणायन छोटे आकार के होते है
उत्तर :(ब) , शॉट्की त्रुटी कुछ जालक बिन्दुओं के खाली रहने के कारण होता है जो बिंदु खाली रहते है वे रिक्तियाँ अथवा होल कहलाते है | लुप्त धनायन और ऋण आयनों की संख्या समान होती है जिससे क्रिस्टलों उदासीन रहता है | धनायन और ऋण आयन का आकार समान होता है |
प्रश्न 35 : श्वेत ZnO गर्म करने पर पीला हो जाता है , इसका कारण है –
(अ) फ्रेन्कल त्रुटी
(ब) धातु आधिक्य त्रुटी
(स) धातु न्यूनता त्रुटी
(द) शॉट्की त्रुटी
उत्तर : (ब) , जिंक ऑक्साइड सामान्य तापमान पर श्वेत रंग का होता है | गर्म करने पर यह ऑक्सीजन खो देता है और पीला हो जाता है |
ZnO → Zn2+ + O2/2 + 2e
अब क्रिस्टल में जिंक की अधिकता हो जाती है और उसका सूत्र Zn1+xO हो जाता है | आधिक्य Zn2+ आयन अंतराकोशीय स्थानों की ओर जाने लगते है और इलेक्ट्रॉन अपने पास वाले अंतराकोशीय स्थानों की ओर जाते है |
प्रश्न 36 : CsBr के लिए कौनसा कथन सत्य है –
(अ) यह सहसंयोजक यौगिक है
(ब) इसमें Cs3+ और Br आयन होते है
(स) इसमें  Cs+ और Br3– आयन होते है
(द) इसमें Cs+ , Br और लैटिस Br2 अणु होते है
उत्तर : (स)
प्रश्न 37 : निचे दर्शाए गए द्विविमीय वर्ग एकक सेल की संकुलन क्षमता है –
(अ) 39.27 %
(ब) 68.2%
(स) 74.05%
(द) 78.54%
उत्तर : (द)