पौधों में प्रकाश-संश्लेषण के उत्पाद कौन-से हैं ? what products are made in photosynthesis in hindi

By  

what products are made in photosynthesis in hindi पौधों में प्रकाश-संश्लेषण के उत्पाद कौन-से हैं ?
ऑफलाइन परीक्षा-प्रश्न (2006-2015)
प्रतिवर्ती प्रतिलिपि की खोज किसके द्वारा हुई?
(अ) वाटसन तथा क्रिक
(ब) टैमिन तथा बाल्टीमोर
(स) हरगोविंद खुराना
(द) बीडल तथा टैटम
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2015
उत्तर-(ब)
प्रतिवर्ती प्रतिलिपि (Reverse Transcription) की खोज हावर्ड टैमिन तथा डेविड बाल्टीमोर ने की। इसके लिए इन्हें वर्ष 1975 में फिजियोलॉजी या चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार दिया गया।
पौधों में प्रकाश-संश्लेषण के उत्पाद कौन-से हैं ?
(अ) प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और जल
(ब) जल और कार्बन डाइऑक्साइड
(स) जल, ऑक्सीजन और प्रोटीन
(द) जल, ऑक्सीजन और कार्बोहाइड्रेट
S.S.C. स्टेनोग्राफर परीक्षा, 2014
उत्तर-(द)
संश्लेषण की क्रिया के दौरान प्रकाश ऊर्जा अवशोषित कर ली जाती है। जिससे एक हरे रंग का पदार्थ क्लोरोप्लास्ट बनता है। पौधों में प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया निम्नलिखित प्रकार से होती है-
प्रकाश
6CO2 + 12H2O ⟶ C6H12O6 + 6O2 + 6H2O
हरित पौधे
अतः ग्लूकोज, ऑक्सीजन एवं जल उत्पाद के रूप में प्राप्त किए जाते हैं।
नोट- ग्लुकोज, कार्बोहाइड्रेट का ही साधारण रूप है।
प्रकाश-संश्लेषण प्रक्रिया में परिवर्तन निहित है-
(अ) रासायनिक ऊर्जा का विकिरणी ऊर्जा में
(ब) रासायनिक ऊर्जा का यांत्रिक ऊर्जा में
(स) सौर ऊर्जा का रासायनिक ऊर्जा में
(द) यांत्रिक ऊर्जा का सौर ऊर्जा में
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2013
उत्तर-(स)
प्रकाश-संश्लेषण प्रक्रिया में क्लोरोफिल मुख्य कारक है। इसी के द्वारा प्रकाश ऊर्जा अथवा सौर ऊर्जा रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित होती है। सूर्य के प्रकाश में उपस्थित दृश्य प्रकाश, प्रकाशसंश्लेषण में सहायता करता है। हरे पौधे मुख्यतः लाल व नीले रंग में प्रकाश-संश्लेषण करते हैं।
जिस प्रक्रिया के माध्यम से अतिरिक्त प्रकाश ऊर्जा प्रकाश संश्लेषण में छितरा जाती है उस प्रक्रिया को क्या कहते हैं?
(अ) प्रकाशिक अपघटन (ब) प्रकाश स्फुरण
(स) शमन (द) अपमार्जन
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2013
उत्तर-(स)
शमन (Non Photochemical Quenching) प्रक्रिया के माध्यम से अतिरिक्त प्रकाश ऊर्जा प्रकाश-संश्लेषण में छितरा जाती है।
निम्न में से कौन-से प्रक्रम अंधकार के समय पादपों के साथ संबद्ध होते हैं?
(अ) प्रकाश-संश्लेषण और श्वसन
(ब) श्वसन और वाष्पोत्सर्जन
(स) वाष्पोत्सर्जन और चालन
(द) चालन और श्वसन
S.S.C.F.C.I. परीक्षा, 2012
उत्तर-(द)
पादपों में अंधकार के समय चालन और श्वसन प्रक्रिया संपन्न होती है।
पौधों में पत्तों के पृष्ठ पर पाए जाने वाले लघु छिद्रों का नाम है-
(अ) गर्त (ब) रंध्र
(स) त्वचारोम (द) जलरंध्र
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2013
उत्तर-(ब)
पौधों में पत्तों के पृष्ठ पर पाए जाने वाले लघु छिद्रों का नाम ‘रंध्र‘ (Stomata) है। रंध्र, पत्तों में असंख्य होते हैं। रंध्रों का कार्य वाष्पोत्सर्जन तथा गैसीय विनिमय होता है।
स्टार्च का शर्करा में परिवर्तित होना किसके लिए अनिवार्य है?
(अ) रंध्री द्वारा (ब) रंध्री संवृत्त
(स) रंध्री संघटना (द) रंध्री संवर्धन
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2014
उत्तर-(अ)
स्टार्च का शर्करा में परिवर्तित होना रंध्री द्वार के लिए अनिवार्य है।
प्रकाश-संश्लेषण होता है –
(अ) पादपों की जड़ों में
(ब) पादपों के हरे भाग में
(स) पादपों के तनों में
(द) पादपों के सभी भागों में
S.S.C. F.C.I. परीक्षा, 2012
उत्तर-(ब)
प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया पौधे के हरे भागों (पत्तियों) में सूर्य के प्रकाश और जल की उपस्थिति में होती है। पौधे के हरे भाग में पर्णहरित क्लोरोफिल पाया जाता है। इस क्रिया के द्वारा पौधे CO2 ग्रहण कर अपना भोजन बनाते हैं और ऑक्सीजन (O2) छोड़ते हैं।
प्रकाश-संश्लेषण के द्वारा हरे पौधे पैदा करते हैं –
(अ) अकार्बनिक द्रव्य (ब) खनिज
(स) कार्बनिक दृष्य (द) पोषक तत्व
S.S.C. Tax Asst. परीक्षा, 2006
उत्तर-(स)
प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया द्वारा पौधे, प्रकाश तथा पर्णहरित की उपस्थिति में कार्बन डाइऑक्साइड (CO) तथा जल (HO) के अभिक्रिया के फलस्वरूप कार्बोहाइड्रेट (कार्बनिक द्रव्य) का निर्माण तथा ऑक्सीजन गैस मुक्त करते हैं।
प्रकाश संश्लेषण का प्रथम स्थायी उत्पाद है-
(अ) स्टार्च (मंड)
(ब) सुनोस इक्षु शर्करा)
(स) फॉस्फोग्लिसरिक अम्ल
(द) ग्लूकोस
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2014
उत्तर-(स)
सजीव कोशिकाओं के द्वारा प्रकाशीय ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करने की क्रिया को ‘प्रकाश-संश्लेषण‘ (Photosynthesis) कहते हैं। इस प्रक्रिया का प्रथम स्थायी उत्पाद फॉस्फोग्लिसेरिक अम्त है।
प्रकाश श्वसन का अवस्तर (सबस्ट्रेट) क्या है?
(अ) फ्रक्टोज (ब) ग्लूकोज
(स) ग्लाइकोलेट (द) पायरुविक अम्ल
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier) परीक्षा, 2015
उत्तर-(स)
प्रकाश-श्वसन का अवस्तर (सबस्ट्रेट) ग्लाइकोलेट है। प्रकाश श्वसन क्रिया केवल C3 प्रकार के अधिकतर हरे पौधों में प्रायः तीव्र प्रकाश की उपस्थिति में होती है।
पत्तों में दिखाई देने वाली शिराएं काम करती हैं –
(अ) प्रकाश-संश्लेषण का (ब) वाष्पोत्सर्जन का
(स) भंडारण का (द) चालन का
S.S.C.F.C.I. परीक्षा, 2012
उत्तर-(द)
पत्तों में दिखाई देने वाली शिराएं प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया हेतु आवश्यक खाद्य एवं जल का चालन करती हैं।
वनस्पति इनके अवशोषण में प्रभावी होती है-
(अ) उच्च आवृत्ति ध्वनि (ब) प्रदूषक धातुएं
(स) प्रदूषक गैसें (द) प्रदूषित जल
S.S.C.CPO परीक्षा, 2017
उत्तर-(स)
पेड़-पौधे वातावरण को स्वच्छ बनाते हैं क्योंकि वे सभी प्रकार प्रदूषक गैसों का अवशोषण कर शुद्ध ऑक्सीजन छोड़ते हैं। हरे पौधे कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करके प्रकाश-संपनी की क्रिया द्वारा ऑक्सीजन छोड़ते हैं।
प्रकाश संश्लेषण के दौरान हरे पौधे किसका अवशोषण करते है?
(अ) नाइट्रोजन (ब) कार्बन डाइऑक्साइड
(स) कार्बन मोनोक्साइड (द) ऑक्सीजन
S.S.C.CPO परीक्षा, 2006
उत्तर-(ब)
उपर्युक्त प्रश्न की व्याख्या देखें।
निम्नलिखित में से कौन-सा एक प्रकाश-संश्लेषी वर्णक नहीं है?
(अ) पर्णहरित (क्लोरोफिल) (ब) फाइकोबिलिन
(स) कैरोटिनॉइड (द) एन्थोसाएनिन
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2014
उत्तर-(द)
प्रकाश-संश्लेषण के मुख्यतः तीन वर्णक होते हैं-(1) क्लोरोफिल, (2) फाइकोबिलिन एवं (3) कैरोटिनॉइड। अतः एन्थोसाएनिन प्रकाश संश्लेषी वर्णक नहीं है।
सौर ऊर्जा का अधिकतम स्थिरीकरण किसके द्वारा किया जाता है?
(अ) प्रोटोजोआ (ब) हरे पादप
(स) कवक (द) जीवाणु
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2015
उत्तर-(ब)
सौर ऊर्जा (Solar Energy) का अधिकतम स्थिरीकरण हरे पादप द्वारा किया जाता है।
नीचे लिखी कौन-सी प्रक्रिया वायु को प्रदूषित नहीं करती?
(अ) सूखी लकड़ी जलाना (ब) प्रकाश-संश्लेषण
(स) अंगरागों का प्रयोग (द) कीटनाशकों का प्रयोग
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2008
उत्तर-(ब)

प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया में पौधे सूर्य के प्रकाश तथा क्लोरोफिल की उपस्थिति में जल तथा कार्बन डाइऑक्साइड की अभिक्रिया के परिणामस्वरूप कार्बोहाइड्रेट तथा ऑक्सीजन का निर्माण करते हैं जो कि वायु को प्रदूषित नहीं करते।