विवर्तन : प्रकार , प्रकाश का फ्रेनल , फ्राउनहोफर विवर्तन क्या है , परिभाषा (what is diffraction in hindi)

By  
(what is diffraction in hindi) विवर्तन क्या है , परिभाषा , प्रकार , प्रकाश का फ्रेनल , फ्राउनहोफर विवर्तन : जब किसी प्रकाश को छोटे छिद्र या किसी अवरोध पर डाला जाता है तो प्रकाश की तरंगे इस छोटे छिद्र के किनारों पर कुछ मुड़ जाते है , प्रकाश की तरंगों का छिद्र या अवरोध के किनारों से मुड़ने की घटना को प्रकाश का विवर्तन कहते है।

प्रकाश के मुड़ने की मात्रा प्रकाश की तरंग दैर्ध्य और छिद्र या अवरोध के आकार पर निर्भर करता है , यदि इस छिद्र का आकार बहुत अधिक बड़ा हो तो विवर्तन की घटना में प्रकाश के मुड़ने की घटना बहुत कम होती है , इतनी कम की हम उसे पहचान भी नहीं सकते कि यहाँ विवर्तन की घटना घटित हो रही है।
अत: विवर्तन घटना के लिए सबसे महत्वपूर्ण शर्त यही है कि विवर्तक वस्तु का आकार तथा प्रकाश की तरंगों की तरंग दैर्ध्य , दोनों समान कोटि की होनी चाहिए।
विवर्तन की घटना प्रकाश और ध्वनि दोनों में होती है लेकिन ध्वनी में यह सामान्य घटना है अर्थात ध्वनि तरंगों की तरंग दैर्ध्य का मान अधिक होता है अत: इसे ध्वनी तरंगों में आसानी से देखा जा सकता है और यह बड़े पैमाने पर होती है लेकिन प्रकाश की तरंगों की तरंग दैर्ध्य का मान कम होता है इसलिए यह आसानी से देखी नहीं जा सकती है , प्रकाश के लिए यह नैनोमीटर कोटि की होती है।
विवर्तन की परिघटना को दो प्रकार से बाँटा गया है –
1. फ्रेनल विवर्तन (fresnel diffraction)
2. फ्राउनहोफर विवर्तन (fraunhofer diffraction)
अब हम यहाँ इन दोनों प्रकार के विवर्तन के बारे में विस्तार से अध्ययन करेंगे।

1. फ्रेनल विवर्तन (fresnel diffraction)

फ्रेनल विवर्तन तब उत्पन्न होता है जब प्रकाश को किसी सूक्ष्म छिद्र पर डाला जाता है और प्रकाश स्रोत व पर्दा , विवर्तक वस्तु कुछ दूरी पर स्थित हो।  इसमें लेंस का प्रयोग नही किया जाता है और पैटर्न बनने का आकार स्रोत और छिद्र के आकार और दूरी पर निर्भर करता है।
उदाहरण : चकती द्वारा विवर्तन।

2. फ्राउनहोफर विवर्तन (fraunhofer diffraction)

जब प्रकाश स्रोत या पर्दा दोनों में एक अन्नत दूरी पर स्थित हो या पर्दा व प्रकाश स्रोत दोनों ही अन्नत दूरी पर स्थित हो तो पर्दे पर प्राप्त विवर्तन को फ्राउनहोफर विवर्तन कहते है।
यहाँ एक अथवा दो लेंसों का उपयोग किया जाता है।
यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि फ्रेनल विवर्तन की तुलना में फ्राउनहोफर विवर्तन को आसानी से अध्ययन किया जा सकता है और देखा जा सकता है।
उदाहरण : एकल रेखाछिद्र पर प्रकाश का विवर्तन , द्वि रेखा छिद्र पर प्रकाश का विवर्तन आदि।